LS Home Tech: November 2018
You can search your text here....

Monday, November 26, 2018

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!


दोस्तो नमस्कार 
आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या? 
सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो 
आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और 
आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार

यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।


पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?

दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, वास्तुकला भवन निर्माण की कला को कहा जाता है बेशक वो कीसी भी प्रकार की भवन संरचना का निर्माण हो जिनमे आम घर के निर्माण से लेकर विस्तृत आकर के निमार्ण जीनमें व भूदृश्य, सड़क, पुल, सुरंग, एयरपोर्ट, बांध व ओर भी बहुत से निर्माण कार्य आते है

अब बात करते हैं आर्किटेक्ट या वास्तुकार

दोस्तो आर्किटेक्ट वो होता है जो व्यवसायिक रूप से किसी भी भवन निर्माण या किसी भी वास्तु संरचना का निर्माण करता है जिनमे वो सब चीजें शामिल हो सकती हैं जिनका हम ऊपर जिक्र कर चुके हैं।
अगर आर्किटेक्ट को परिभाषित करें तो किसी भी इमारत की योजना, प्रारूप/डिजाइन और निर्माण करने वाले को आर्किटेक्ट कहते हैं। एक आर्किटेक्चर का काम होता है कि वह पहले किसी भी संरचना के बारे में एक योजना तैयार करे और फिर कागज पर उसका नक्शा तैयार करें और उसके बाद में उसका निर्माण करवाएं। आजकल आर्किटेक्चर का सारा काम कंप्यूटर पर ही होता है जो कि पहले से ज्यादा सुलभ हो गया है। ओर हम 3D तकनीक के माध्यम से बनने वाली वास्तु की तकनीकी खामियां या खूबियां पहले ही जान सकते हैं।
आज हम जितने भी बड़े-बड़े बांध इमारतें देखते हैं जिनके डिजाइन एकदम हटके होते हैं या कुछ खास या फिर साधारण भी होते हैं तो यह सभी एक आर्किटेक्ट द्वारा ही बनाए जाते हैं। भारतीय संस्कृति में भगवान विश्वकर्मा को सतयुग काल का सबसे बड़ा आर्किटेक्ट या वास्तुकार माना जाता है।



आर्किटेक्ट कैसे बने!

दोस्तो आर्किटेक्ट बनने के लिए आपके पास जो शिक्षा होनी चाहिए उसके बारे में जान लेते हैं जो कि आर्किटेक्ट बनने के लिए अनिवार्य है
आर्किटेक्ट बनने के लिए आपको कम से कम 5 साल की डिग्री कोर्स करने की जरूरत पड़ेगी। आर्किटेक्ट की डिग्री करने के लिए आपको 12वीं कक्षा में गणित व इंग्लिश दोनो विषयों में पास होना अनिवार्य है, ओर अगर आपने 12वीं कक्षा में गणित व इंग्लिश विषय की पढ़ाई नहीं की तो आप आर्किटेक्चर की डिग्री नहीं कर पाएंगे। विज्ञान संकाय के स्टूडेंट्स के लिए ये ओर ज्यादा सरल हो सकता है। ये बात भी आप ध्यान रखें अगर आपने इंग्लिश व गणित के साथ में 12वीं कक्षा पास भी की है तो आपका कम से कम 50% अंकों के साथ पास होना अनिवार्य है।
और अगर आपने दसंवी कक्षा के बाद में 3 साल का पॉलिटेक्निक डिप्लोमा भी किया है तो आप आर्किटेक्चर की डिग्री कर सकते हैं उसके लिए आपका 12 वीं कक्षा पास करना भी जरूरी नहीं होता।

अगर आपके पास उपरोक्त योग्यता है तो 
NATA(National Aptitude Test in Architecture)  जो की हर साल इस टेस्ट को प्रायोजित करता है, इस टेस्ट में गणित से सम्बंधित सवाल व आपकी ड्राइंग स्किल से आपके कौशल का आकलन किया जाता है, अगर आप इस टेस्ट में पास हो जाते हैं तो आपका एडमिशन आर्किटेक्ट की डिग्री के लिए हो जाता है। 

आर्किटेक्ट कोर्स

B.Arch (Bachelor of Architecture)
M.Arch (Master of Architecture)

आर्किटेक्चर को सिर्फ यह डिग्री हासिल करने से ही पूरा काम नहीं आएगा आपको कुछ कंप्यूटर सॉफ्टवेयर भी सीखने हो गए जैसे कि ऑटोकैड 3DS मैक्स, स्केचअप, रेविट या ऐसे सॉफ्टवेयर जिनके अंदर हम आर्किटेक्चर डिजाइन तैयार कर सकते हैं। तभी आप किसी भी बिल्डिंग का प्रारूप/डिजाइन बना पाओगे। जैसे-जैसे आप आर्किटेक्चर के लिए डिग्री कोर्स कर रहे हो उसके साथ-साथ आपको कंप्यूटर के उन सॉफ्टवेयर को भी सिखाया जाता है जो आगे चलकर आपके बहुत कम आएंगे जब आपका कोर्स या डिग्री पूरा हो जाएगा। आर्किटेक्चर फील्ड में आपको जॉब मिलना भी बहुत आसान हो जाएगा और आप चाहें तो स्वतन्त्र रूप से अपना खुद का आर्किटेक्ट का काम भी कर सकते हैं। आप इस फील्ड में जितना काम करोगे समय के साथ आपका अनुभव भी बढ़ता जाएगा।
आर्किटेक्चर क्या है ? आर्किटेक्ट कैसे बने!

आर्किटेक्ट बनने के बाद आपकी सैलरी कितनी हो सकती है!

आर्किटेक्ट बनने के बाद आपके पास वो कला होती है जिसमे आप पूरी दुनिया का नक्शा बदलने का हुनर रखते है। ओर जिनके पास हुनर होता है उनको अच्छी नोकरी ओर अच्छी सैलरी भी मिल जाती है, बहुत से सरकारी महकमों में समय-समय पर इस पोस्ट के लिए आवेदन निकलते रहते हैं। आप इंफ्रास्ट्रक्चर या कंस्ट्रक्शन कंपनी में भी बहुत अच्छी सैलरी पा सकते हैं। आर्किटेक्ट इंजीनियर की सैलरी बहुत अच्छी होती है। अगर आप डिग्री करते ही आर्किटेक्चर इंजीनियर बनते हैं तो भी आपकी सैलरी कम से कम 30000₹ से लेकर 40000₹ महिना से शुरू हो सकती हैजो कि दूसरे इंजीनियर को इतनी नहीं मिलती होगी, जैसे जैसे असपके अनुभव बढ़ेगा आपकी सैलरी भी बढ़ेगी
। 
विदेशों में आपकी सैलरी भारत के मुकाबले बहुत ज्यादा होगी और वहां पर आर्किटेक्ट की डिमांड भी बहुत है, अगर आप मे विश्व स्तरीय इमारत बनाने का हुनर है तो।
Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी कृपया जरूर बताएं। 
हमारे यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब करें LS Technology Education YouTube


कृपया आप हमे अपने सुझाव और प्रतिक्रिया जरूर दें कमेंट बॉक्स में। 

Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma
My YouTube : LS Technology Education



Saturday, November 3, 2018

अगर आप भी चाहते हैं घर को एक नया लुक देने, तो ये स्टेप फॉलो करें। Home Redactor DIY

दोस्तो अगर आप अपने घर के इंटेरियर या फिर कमरों के एक जैसे इंटीरियर से बोर हो गए हैं और इसमें कुछ बदलाव करना चाहते हैं तो यह एकदम सही समय है, जब आप अपने इंटीरियर को कुछ नया और बेहतरीन लुक दे सकते हैं। थोड़े से बजट में भी अपने घर में  बहुत कुछ फेरबदल करके उसका कायाकल्प कर सकते हैं ओर अपने मकान को एक नया लुक दे सकते हैं।

दीपावली आने वाली है उससे पहले हम चाहते है की हमारे मकान की सारि सजावट पूरी हो जाए। दीपावली का त्योहार यानि उमंग और खुशियों भरा माहौल और इसे बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है हमारा घर। इस त्यौहार के लिए घर की सफाई , पेंट, इंटीरियर और उसकी साज-सज्जा का भी खासा महत्व है। लेकिन आप अपने घर के परदे, पेंट्स, डेकोरेटिव आइटम , फर्नीचर, कालीन, सिटिंग अरेंजमेंट इत्यादि में बदलाव कर घर के इंटीरियर को दीपावली के लिए सजा सकते है और इससे आपको बिल्कुल नएपन का अहसास भी होगा। आपका त्योहार ओर भी आकर्षक बन जाएगा।

आइये जानते हैं आप क्या-क्या बदलाव कर सकते हैं घर को बेहतरीन लुक देने के लिए:

न.1 छोटे बदलाव ज्यादा लुक : अपने घर में छोटे-छोटे बदलाव करके उसे आकर्षक व पहले से थोड़ा अलग बना सकते है। घर के डेकोरेशन के लिए असपको भी थोड़ा अलग सोचने वाला होना चाहिए ताकि आप इसके लिए सिटिंग अरेजमेंट का अंदाज़ सेट कर सकें, साथ ही लाइटिंग, पेंट्स, कारपेट, इंडोर प्लांट, कुशन्स, कर्टन, कैंडल, वुडन पार्टीशन आदि की मदद से घर को नए ढंग से संवारा जा सकता है, जो दिखने में कुछ हटके लगे

न.2 रंग इत्यादि का बदलाव : अगर दीपावली पर घर में रंगरोगन कराने की सोच रहे हैं तो फिर से वही रंग कराने के बजाए पूरा का पूरा कलर काम्बीनेशन बदल दें। कमरे की सभी दीवारों में अब एक जैसा कलर कराने का ट्रेंड खत्म-सा हो गया है। अब तो इन्हें अलग-अलग शेड से रंगा जाता है। इससे कमरे में काफी डिफरेंट लुक आता है। अगर बजट कम है तो आप जरूरत के मुताबिक अपने ड्राइंग रूम की किसी एक दीवार को बाकी से अलग कंट्रास्ट कलर से पेंट कराकर नएपन का अहसास कर सकते हैं। घर के सभी कमरों में यह प्रयोग किया जा सकता है।

न.3 उचित रंग संयोजन : अगर पूरा घर को रंग करा रहे हैं तो हर कमरे का रंग संयोजन कुछ अलग रखें। डार्क शेड्स को लाइट शेड्स में और लाइट की जगह पर डार्क शेड्स कराने से कमरा नया लगने लगेगा। आजकल ब्रांडेड कंपनियों के पेंट्स के इमल्सन की डिमांड ज्यादा है। वहीं कंपनियों के डिस्टेंपर तो और भी कम कीमत में मिल जाएंगे। वहीं डिजाइनर पेंट्स या ग्लाइटर कुछ महंगे जरूर हो सकते हैं। पर्याप्त रोशनी पाने व कमरे को खूबसूरत बनाने के लिए कमरे की चार दीवारों में से एक दीवार को डार्क कलर से पेंट करवाना चाहिए। वहीं कुछ दीवारों पर आप लाइट पैन भी करवा सकते हैं।

न.4 वालपेपर का जमाना : ये कटाई जरूरी नहीं है कि घर की हर दीवार पर कलर ही किया जाए या फिर ज्यादा खर्च कर टेक्सचर करवाया जाए। आप चाहें तो खूबसूरत वॉलपेपर से भी दीवारों को बेहतरीन लुक दे सकते हैं। बाजार में हर तरह के डिजाइन्स मौजूद हैं, आप हमारी बात का विश्वास कीजिये यह टेक्सचर या पेंट से ज्यादा पसंद आएगा आपको। इसका प्रयोग करके आप घर को किसी विशेष थीम के आधार पर सजाकर एक नया लुक दे सकते हैं।

न.5 सजावटी वस्तुएं : आजकल बहुत छोटे-छोटे सजावटी आइटम्स घर को एक नया माहौल देते हैं। आजकल सभी को टेराकोटा से बने शो पीस ज्यादा पसंद आते हैं। इससे बने गमले, दीपक स्टैंड, विंड चाइम आदि बहुत आकर्षक लगते हैं। वहीं वास्तु आधारित डेकोरेटिव आइटम भी घर की खाली जगह को भरकर उसे नया लुक दे देते हैं। इन्हें कमरे के खाली कोने में रखकर आसपास रंगोली या फूलों को सजाने से वह कोना एकदम उभरकर दिखेगा। एक पीतल का ब़ड़ा दीपक या टेराकोटा का बड़ा फूल दान या शो-पीस इसके लिए सबसे उचित रहेंगे। इसके अलावा कोई सुंदर-सा इंडोर प्लांट भी किसी कोने की खूबसूरती बढ़ाने के लिए काफी होता है। बाजार में विभिन्न डेकोरेटिव आइटम 100 ₹ से लेकर 1000-1200 ₹ तक में मिल जाएंगे। हस्तशिल्प मेले व हॉट बाजारों में इनकी काफी वैरायटी मिल जाती है। आप इस प्रकार के आइटम को कई बार आधे दामों में भी पा सकते है किसी त्योहार के आस-पास। हो सके तो ऐसी चीजें आप पहले खरीद के रखें।

न.6 पर्दे बढ़ाएं घर की रौनक : देखिये आकर्षक परदे किसी भी घर की खूबसूरती में चार चांद लगा देते हैं, अगर घर को पेंट कराने की जरूरत नहीं है तो सिर्फ परदे बदलकर और उसी के अनुरूप दीवान सेट बिछाकर घर को दीवाली के लिए सजाया जा सकता है। आजकल कॉटन के अलावा नेट, सिल्क, टिश्यू, ब्रासो टाइगर, क्रश आदि के परदे पसंद किए जा रहे हैं। नेट के परदे सबसे लेटेस्ट हैं, इनकी रेंज 300 से 400 ₹ से शुरू है जबकि टिश्यू सिल्क की कीमत 300 ₹ से शुरू है। नेट के प्लेन परदे के साथ बीच में एक सिल्क या टिश्यू का परदा लगाकर खि़ड़की-दरवाजों को नया लुक दिया जा सकता है। अगर असपके बजट कम है तो आप आम पर्दे भी खरीद सकते हैं जो आपको 150 से 200 ₹ तक में आसानी से मिल जाएंगे।

न.7 गुदगुदे गद्दों से सजावट : दोस्तो अगर आपके ड्राइंग रूम में सोफे व दीवान है तो उनपर छोटे-ब़ड़े कुशन या स्पंज रखकर आकर्षक रूप दिया जा सकता है। इसके लिए सिटिंग अरेजमेंट भी बदला जा सकता है। सोफे या कुर्सियों की संख्या कम करके कमरे में नीचे बैठक बनाएं और इस सुंदर कुशन्स से सजाएं। यहां बैठने से आराम भी मिलेगा और नएपन का अहसास भी होगा। कुशन कवर, पर्दे व दीवान सेट का चुनाव किसी थीम के अनुसार भी किया जा सकता है। कुशन के साथ आप प्रिंटेड चादरें भी प्रयोग कर सकते है सजावट के लिए।

न.8 उपयुक्त रोशनी की व्यस्था : आपको इस चीज का विशेष ख्याल रखना चाहिए, साज-सज्जा जानकारों के अनुसार घर के अलग-अलग हिस्सों में स्पॉट लाइटिंग के माध्यम से इंटीरियर में बदलाव किया जा सकता है। ऐसी लाइटिंग की जाए कि एक बार में सिर्फ डाइनिंग टेबल पर ही लाइट पड़े या अगर कम्प्यूटर पर ही काम कर रहे हैं तो उसके ऊपर ही सुंदर से लैंप से लाइट आए तो कमरा बहुत ही सुंदर लगता है। यह प्रयोग विभिन्न कोनों में अलग रंग के लैंप के साथ किया जा सकता है। आजकल तो बहुत अच्छी अच्छी लाइटिंग की वस्तुएं आपको हर जगह मिल जाती है



ls technology education

कृपया आप हमे अपने सुझाव और प्रतिक्रिया जरूर दें कमेंट बॉक्स में। 

Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma
My YouTube : LS Technology Education