LS Home Tech: क्या रिश्ता है शहीद भगत सिंह का 14 फरवरी से। सत्य को आप भी जानिए। Shahid Bhagat Singh
You can search your text here....

Thursday, February 14, 2019

क्या रिश्ता है शहीद भगत सिंह का 14 फरवरी से। सत्य को आप भी जानिए। Shahid Bhagat Singh


क्या रिश्ता है शहीद भगत सिंह का 14 फरवरी से। सत्य को आप भी जानिए।
हमारे समाज मे बहुत से लोग हैं जो वैलेंटाइन्स डे का विरोध कर रहे हैं, शाहिद भगत सिंह के नाम पर, जबकि ये बात सरासर गलत है, और साथ ही सत्य को जानना हमारा फ़र्ज़ भी बनता है। 14 फरवरी के दिन ना तो शहीदों को फांसी दी गई थी और ना ही 14 फरवरी के दिन उन्हें कोई सजा सुनाई गई थी, 14 तारीख और भगत सिंह का रिलेशन सिर्फ इतना है कि आज के दिन यानी 14 फरवरी को प्रिविसी काउंसिल द्वारा भगत सिंह के लिए दया याचिका यानी दया के लिए अपील खारिज किये जाने के बाद कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष मदन मोहन मालवीय ने 14 फरवरी 1931 को लॉर्ड इरविन के समक्ष दया याचिका दाखिल की थी, जिसे बाद में खारिज कर दिया गया था, इसलिए 14 फरवरी को भगत सिंह की जिंदगी के लिए काला दिन माना जाता है।


ये भी पढ़ें :

हर वायरल बात सच नहीं होती जो आप आधी अधूरी पढ़ते हो।
में उन सभी लोगों से कहना चाहूंगा, कृपया बिना तथ्यों को जाने किसी भी बात को ज्यादा व गलत तरीके से न फैलाएं। ना जाने इतिहास के इन महत्वपूर्ण तारीखों को किन लोगों ने छेड़ा और एक नहीं कहानी गढ़ दी और सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। इसलिए लोगों से अपील है कि किसी भी चीज या मुद्दे को तब तक वायरल ना करें जब तक कि आपको उसकी पुख्ता जानकारी ना मिलें वरना आधा अधूरा ज्ञान आपके व समाज के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकता है।



कुछ खास बातें
  • भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को ट्रिब्यूनल कोर्ट ने 7 अक्टूबर 1930 को फांसी की सजा सुनायी थी। 
  • तीन शहीदों के अलावा उनके 12 साथ‍ियों को भी उम्रकैद की सजा दी गई थी।
  • 24 मार्च 1931 को फांसी दी जानी थी लेकिन ऐन वक्त पर आदेश में परिवर्तन हुआ।
  • और उसके बाद तीनों पुत्रों को 23 मार्च 1931 को शाम 7:30 बजे फांसी दे दी गई।


दोस्तों आशा करता हूँ आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। अगर हमारे द्वारा दी गई जानकरी अच्छी लगी तो इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक Share करे तथा इस आर्टिकल संबंधी अगर किसी का कोई भी सुझाव या सवाल है तो वो हमें कमेंट सकते है।
Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma




No comments:

Post a Comment