Skip to main content

एंड्राइड ओर आईओएस में अंतर/ Difference between Android and iOS.

एंड्राइड ओर आईओएस में अंतर/ Difference between Android and iOS.
आज के जमाने में मोबाइल डिवाइस के लिए दो ही सबसे प्रचलित OS यानि Operating System हैं, एक है Android और दूसरा है iOS जिनके बारे में लगभग सभी लोग जानते हैं। जहाँ Android आपको लगभग सभी कंपनी के मोबाइल में मिल जाता है, वहीँ iOS आपको केवल Apple के मोबाइल में ही मिलता है। बहुत से लोग ऐसे भी हैं, जिनको अब तक इन OS के बारे में नहीं पता। जयादातर लोग Android मोबाइल ही खरीदते हैं, बहुत कम लोग ऐसे हैं जो iPhone खरीदते हैं। लेकिन क्या आप इन दोनों के बिच अंतर को जानते हैं? इसी से सम्बंधित आज की हमारी पूरी जानकारी होगी, जो आप इस Article में पा सकेंगे। तो आइये जान लेते है की Android और iPhone/iOS में क्या अंतर होता है। Android क्या होता है?
Android and Apple iOS difference

एंड्राइड ओर आईओएस में अंतर/ Difference between Android and iOS.
देखने में Android और iOS मोबाइल लगभग एक जैसे ही होते हैं, और काम भी वही करते हैं, लेकिन इनकी कुछ चीजे इन्हें एक दूसरे से बहुत ही अलग बनाती है। अगर ऑपरेटिंग सिस्टम की बात करें तो इसमें कोई शक नही है, कि आईफोन का ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्राइड फ़ोन से काफी अच्छा है, लेकिन कुछ चीजें भी हैं जो इसे आम आदमी दे दूर करती हैं।

1. Android मोबाइल आपको बाजार में बहुत ही सस्ते रेट में उपलब्ध हो जाते हैं, वहीँ Apple iPhone आपको बहुत महंगे मिलते हैं। 

2. दुनिया में लगभग हर कंपनी Android मोबाइल का निर्माण करती है, लेकिन iOS केवल Apple कंपनी के मोबाइल iPhone में ही होता है।
3. डिज़ाइन की बात करें तो एंड्राइड में आपको बहुत सी कंपनियों के मोबाइल अलग-अलग मॉडल और डिज़ाइन में मिल जायेंगे, जबकि iPhone के सभी मॉडल लगभग एक जैसे ही होते हैं।

4. ये बात सच है की iPhone आपके लिए एक Status Symbol हो सकता है, जबकि एंड्राइड आपके लिए एक समान्य Status फील ही दर्शाता है। 

5. एंड्राइड में आपके पास बहुत से विकल्प होते हैं, कंपनी को चुनने के लिए, लेकिन iPhone में ऐसा बिलकुल भी नहीं है। 

6. Multitasking के मामले में एंड्राइड बहुत ही बेहतर है, क्यूंकि इसमें एक ही समय में आप काफी काम कर सकते हैं, जबकि iPhone में अभी तक ये सुविधा मौजूद नहीं है। इसमें आप एक समय में एक ही काम कर सकते हैं। 

7. आईफोन App Store से आप कुछ ही एप्लीकेशन को इनस्टॉल कर सकते हैं, जबकि गूगल Play Store से लगभग 22 लाख से ज्यादा एप्स इनस्टॉल करने की अनुमति देता है। एप्पल एक बहुत Strict कंपनी है, जो किसी भी एप को ऐसे ही इनस्टॉल करने की अनुमति नहीं देती, आप सिर्फ उनके App Store में उपलब्ध Apps को ही इस्तेमाल कर सकते हैं। 

8. Android फ़ोन के Latest ऑपरेटिंग सिस्टम पुराने फ़ोन में नही चलते है, जबकि आईफोन के सभी OS पुराने मोबाइल में भी चलते हैं। 

9. Android फ़ोन में एप्लीकेशन को Update करने में काफी देर लगती है, या कभी-कभी अपडेट ही नही होता है, जबकि आईफोन में ऐसी कोई भी दिक्कत नही आती है।

10. Android फ़ोन में हार्डवेयर की बहुत सारी वैरायटी आती है, जिसकी वजह से आपके फोन की बैटरी काफी देर तक चलती है, जबकि आईफोन/iPhone में ऐसा नही होता है। आईफोन को दिन में एक बार Charge करना ही पड़ता है। वैसे एंड्राइड स्मार्टफोन में भी ऐसा होता है, लेकिन आजकल एंड्राइड फ़ोन अल्ट्रा-हाई कैपेसिटी बैटरी के साथ आ रहे है, जो कि एक दिन बिना Charge के भी चल जाते हैं।
11. एंड्राइड फ़ोन Application इनस्टॉल करने के मामले में काफी खुले होते है, जिनकी वजह से एंड्राइड फ़ोन में कभी-कभी कुछ App नहीं चल पाते हैं। लेकिन आईफोन में ऐसा बिलकुल भी नहीं होता है। 

12. Android का AI सिस्टम काफी ज्यादा विकसित है,वहीँ iPhone में अब तक ये सुविधा नहीं है।
Android फोन को आप अपने हिसाब से Customize कर सकते हैं, जबकि iPhone में आप ऐसा बिलकुल भी नहीं कर सकते।
13. Android फ़ोन में Hardware की कम ही प्रॉब्लम आती है, इसमें केवल ओवरहीटिंग या हैंगिंग की प्रॉब्लम आती रहती है, जबकि आईफोन में हार्डवेयर की प्रॉब्लम आती है, इसमें ओवरहीटिंग और हैंगिंग की प्रॉब्लम नहीं आती है।

14. जहाँ एंड्राइड Application का साइज बहुत ज्यादा होता है, वहीँ iPhone एप्लीकेशन का साइज बहुत ही कम होता है। 

15. अगर देखा जाये तो Android फोन आम आदमी की पहुँच में होता है, यानि इसे एक सामान्य आदमी भी खरीद सकता है, जबकि iPhone अत्यधिक महंगे होने के कारण आम आदमी कई पहुँच से बाहर है।

Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…