Skip to main content

इंटरनेट बैंकिंग ओर सावधानियां/Internet Banking and Precautions.

इंटरनेट बैंकिंग ओर सावधानियां/Internet Banking and Precautions.
आजकल ज्यादातर लोग किसी भी तरह का पैसे का लेन-देन इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से करता है, चाहे वो Bank Application, Online Net Banking, या अन्य Third Party Application के इस्तेमाल से Transaction करता हो, तो उसके लिए आपको कुछ सावधानियां जरूर बरतनी चाहिए। अगर आप नीचे दी गयी बातों को फॉलो करते हैं तो आपको ऑनलाइन/इंटरनेट बैंकिंग में कभी किसी तरह की दिक्कत नहीं आएगी।
Internet banking or savdhaniyan


  1. अपने Internet Banking और अन्य बैकिंग से संबंधित सम्पूर्ण Transactions/लेन-देन का इस्तेमाल कभी भी किसी पब्लिक साइबर कैफे से ना करें, औऱ ना ही किसी भीड़भाड़ वाली जगहों पर करे। ऐसे स्थानों पर आपकी निजी जानकारी बड़ी आसानी से चोरी हो सकती है।
  2. हो सके तो Internet या नेट बैकिंग/Net Banking में किसी भी तरह का ट्रांजेक्शन/Transactions किसी दूसरे व्यक्ति के कंप्यूटर से बिलकुल भी ना करें। अगर करना भी पड़ जाए तो ट्रांजेक्शन के बाद ईमेल अकाउंट को Logout जरूर करें। साथ ही आप इस प्रकार के ब्राउजिंग डाटा को ब्राउज़र की History में जाकर डिलीट भी कर दें।
  3. जब भी आप किसी अन्य कंप्यूटर द्वारा इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल कतें तो, Login करने के बाद कंप्यूटर के द्वारा पूछे गये आप्शन जैसे Keep On Logging या Password रिमेम्बर वाले ऑप्शन पर कभी भी क्लिक ना करें।
  4. आपको कभी भी अपने इन्टनेट बैकिंग के User Name और Account, Mail और उसके पासवर्ड, प्राइवेसी या Security के प्रश्न और उनके उत्तर को किसी नोटबुक, मोबाइल और लैपटाॅप में लिख कर ना रखें, हो सके तो इन्हें याद ही रखें। अगर इनको लिख कर रखें तो भी उस डायरी को जिसमे आपने अपनी निजी जानकारी या पासवर्ड लिखे हो, उसे बहुत ही संभाल कर रखे, ताकि कोई दूसरा उसे प्राप्त ना कर सके।
  5. डायरी या नोटबुक में अगर आपको अपने खाते/Account से सम्बंधित निजी जानकारी लिखनी भी पड़े, तो उसे इस तरीके से लिखे की सिर्फ उसे आप ही पढ़ या समझ सकें।
  6. आप अपने ईमेल अकाउंट के Inbox में आये किसी भी तरह के स्पैम/Spam मेल को न तो ओपन करें और ना ही मेल में आई किसी भी तरह की अटैचमेंट/Attachment को डाउनलोड करें।
  7. अपने कंप्यूटर में एंटीवायरस/Antivirus और एंटीमैलवेयर/Anti malware साॅफ्टवेयर का यूज करें ताकि कंप्यूटर को वायरस अटैक से बचाया जा सके। हमेशा अपने एंटीवायरस सॉफ्टवेयर को Update रखें।
  8. अपने किसी भी ऑनलाइन एकाउंट ओर अन्य प्रकार के इन्टरनेट ट्रांजेक्शन के लिए Strong पासवर्ड का इस्तेमाल करना चाहिए जैसे कि Letter, Lowercase and Uppercase, Alphanumerical and Special Character का समिश्रण हो।
तो दोस्तों आशा करता हूँ की आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आयी होगी। अगर इससे सम्बंधित आप कोई सलाह या सुझाव हमें देना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आप हमारे दूसरे आर्टिकल के लिए हमें सब्सक्राइब भी कर सकते हैं। आप हमें कमेंट करके बता भी सकते हैं कि आपको किसी विषय पर हमारी वेबसाइट पर जानकरी चाहिए, हम जल्द से जल्द वो जानकारी हमारी वेबसाइट पर आपके लिए उपलब्ध करने की कोशिश। हमारी इस जानकारी को दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद 
Join us :
My Facebook:  Lee.Sharma

हमारे और आर्टिकल यहाँ पढ़ें :

Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…