Skip to main content

नेटवर्किंग क्या ओर कितने प्रकार की होती है? What is Networking and types?

नेटवर्किंग क्या ओर कितने प्रकार की होती है? What is Networking and types?
हमारी वेबसाइट LSHOMETECH के डिजिटल प्लेटफार्म पर आपका स्वागत है, हम अपनी इस वेबसाइट पर हमेशा Technology ओर Education से संबंधित Article पोस्ट करते हैं, जिनको आप सब लोगों की तरफ से बहुत प्यार मिल रहा है। टेक्नोलॉजी के इस दौर में हम निरंतर तरक्की कर रहे है, ओर ये सब संभव हो पाया है हमारे आस-पास के डिजिटल नेटवर्क के कारण। आज के इस आर्टिकल में हम इसी नेटवर्क से संबंधित जानकारी आपको देने वाले हैं, जिसमें हम जानेंगे कि नेटवर्किंग क्या ओर ये कितने प्रकार की होती है। इसकी उपयोगिता क्या है। आइये इससे पहले जान लेते हैं की नेटवर्क क्या होता है?
Networking kya hoti hai? Computer Networking

नेटवर्क क्या होता है? What uis Network?
जब किन्ही भी दो या दो से अधिक Device को आपस में किसी भी तरीके से जोड़ा जाता है, तो इसे नेटवर्क कहते हैं। व्यवहारिक रूप से नेटवर्क से जुड़े उपागम Wireless ओर Cable कनेक्शन के साथ जुड़े हो सकते हैं। आज के जमाने में, कंप्यूटर, मोबाइल और लैंडलाइन फोन, नेटवर्क के सबसे बड़े उदहारण हैं। आइये अब जान लेते हैं नेटवर्किंग क्या होती है?

नेटवर्किंग क्या होती है? What is Networking?
नेटवर्क से ही नेटवर्किंग बना है, नेटवर्क होता है, आपस में किन्ही भी डिवाइस को Wire या Wireless माध्यम से जोड़ना, ओर नेटवकिंग होता हैं, जुड़े हुए उन सभी डिवाइस के माध्यम से किसी भी डिवाइस से एक-दूसरे डिवाइस तक सूचनाओं का आदान-प्रदान करना। तो आज बात हम कंप्यूटर नेटवर्किंग की करने वाले हैं, जिसमें एक कंप्यूटर नेटवर्क कई Computer Devices के साथ मिलकर काम करता है, जो आपस मैं Wireless या Wire से जुड़ा होता है।

कैसे काम करता है, नेटवर्किग? How does Network works?
नेटवर्किंग में पहले नेटवर्क को Create किया जाता है, उसके बाद इसे व्यवहारिक रूप से इस्तेमाल के लिए Configur किया जाता है। इस Process के बाद जब नेटवर्क Establish हो जाता है, तब नेटवर्क से जुड़े सभी Devices आपस में Communication ओर Information शेयर कर सकते हैं। इसमें आपके द्वारा शेयर की जाने वाली इनफार्मेशन Messages, Document, Music, Videos, Files, Images इत्यादि कुछ भी शामिल हो सकता है।

Networking की ये प्रक्रिया पूर्ण रूप से Hardware ओर Software के सामंजस्य से ही संभव होता है, बिना Hardware ओर Software के हम किसी भी नेटवर्क को इस्तेमाल नहीं कर सकते। इसमे हार्डवेयर के घटक के रूप में Router, Hub ओर Switch का इस्तेमाल होता है। सॉफ्टवेयर के घटक रूप में Protocol और Devices कमांड लाइन इंटरफ़ेस के द्वारा एक-दूसरे के साथ काम करने के लिए Configure ओर Manage करते हैं।

नेटवर्किंग में किसी भी Device को कम करने के लिए या Communicate करने के लिए कुछ Rules को फॉलो करना पड़ता है। नेटवर्किंग के इन Rules को ही Protocol कहते हैं। कंप्यूटेट नेटवर्क Communication के लिए एक Rule Model का अनुसरण करते हैं, और ये मॉडल Blueprint होता है, जो ये तय करता है की नेटवर्क पर Communication किस तरीके का होगा। इसमे सबसे कॉमन नेटवर्क मॉडल tcp/ip होता है। यहां नीचे हम कुछ नेटवर्क प्रोटोकॉल के नाम दे रहे हैं...

  • tcp- Transmissionn control protocol 
  • udp- User data gram protocol 
  • ip- Internet protocol 
  • http – Hyper text tranfer protocol 
  • smtp- Simple mail transfer protocol 
Networking में Network कितने प्रकार का होता है? Types of Network
नेटवर्किंग को उनके कार्य और विस्तार के हिसाब से तीन प्रमुख Category में बांटा गया है। इन सभी तीन केटेगरी की कार्यप्रणाली के हिसाब से ही इनका निर्धारण किया गया है, इन तीन केटेगरी को LAN, MAN ओर WAN कहा जाता है।

LAN/Local Area Network
MAN/Metropolitan Area Network
WAN/Wide Area Network

LAN/Local Area Network
ये नेटवर्किंग का एक छोटा रूप होता है, जिसे किसी छोटे एरिया में इस्तेमाल किया जाता है, जैसे कि किसीएक ही बिल्डिंग या कंपनी में कंप्यूटर सिस्टम को आपस मे जोड़ा जाना शामिल होता है। ये एक तरीके का High Speed नेटवर्क होता है, क्योंकि इसका दायरा छोटा होता है। इस प्रकार की नेटवर्किंग के लिए Ethernet Technology का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है।

MAN/Metropolitan Area Network
इस प्रकार की नेटवर्किंग को LAN नेटवर्किंग के कई समूहों को मिलाकर किसी किसी बड़े Campus, University, City या State के लिए बनाया जाता है। MAN नेटवर्क LAN नेटवर्क से बड़ा होता ह, लेकिन ये नेटवर्किंग के माध्यम स्तर पर आता है।

WAN/Wide Area Network
वाइड एरिया नेटवर्क, नेटवर्किंग का सबसे बड़ा नेटवर्क होता है, जो पूरी दुनिया में फैला हुआ होता है। इसके साथ बहुत से LAN ओर WAN जुड़े हुए होते हैं। जिस इंटरनेट का इस्तेमाल हम अपने Mobile या Computer में करते है, वो इसी नेटवर्किंग के माध्यम से ही संभव हुआ है। इसे Global नेटवर्क भी कहा जाता है।

तो दोस्तों आशा करता हूँ की आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी "नेटवर्किंग क्या ओर कितने प्रकार की होती है? What is Networking and types?" पसंद आयी होगी। अगर इससे सम्बंधित आप कोई सलाह या सुझाव हमें देना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आप हमारे दूसरे आर्टिकल के लिए हमें सब्सक्राइब भी कर सकते हैं। आप हमें कमेंट करके बता भी सकते हैं कि आपको किसी विषय पर हमारी वेबसाइट पर जानकरी चाहिए, हम जल्द से जल्द वो जानकारी हमारी वेबसाइट पर आपके लिए उपलब्ध करने की कोशिश। हमारी इस जानकारी को दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद 
Join us :
My Facebook:  Lee.Sharma

हमारे और आर्टिकल यहाँ पढ़ें :


Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…