LS Home Tech: November 2019

Monday, November 25, 2019

Computer contribution in education sector.

Hello friends, welcome to our web portal, we post articles related to technology and education on this web portal, which according to the information can be very useful for you people.

The importance of computer education has also increased along with traditional education in the modern era. In today's age, computer is being used in almost every field, from any small to big office, hospital, school, various government institutes etc. you use computer. The work done by computer is easy and accessible.


benefits of computer

Let us know what is the contribution of computer in education.
Nowadays if you go anywhere, you will go to any educational institution, you will get to see computer lab, students are given computer education in these labs. With the help of these computer labs, students can study any subject online or offline whenever they get time or at a given time.

Until a few years ago, we had to depend on school, college, tuition, books or our teacher to get education, but today the time has changed. Today we can get different types of knowledge sitting at home without the help of another's computer, and can keep that knowledge stored in our computer permanently.


With the introduction of computers in the education world, the teaching system has become very simple, so the teacher pressure on the children is over, as well as here you get a chance to learn in different ways. Teaching students on computer helps students understand the subject easily. Due to computer, many courses are available online today, which children can study from home, or there are many websites which provide education of various subjects through good tutor online. Where you students can benefit from it, for those who are science and medical students, computer is a boon. Today you can teach any complex process of education through computer.

After the computer arrives, the student can prepare his or her own notes. You can save these notes in the computer forever, you can also share these notes with your friends. Even if the student has to make a presentation, you can make it with the help of power-point in the computer. In addition, teachers in schools also teach children through power point presentations and projectors. Complex questions or problems can be solved easily with computer education.


Today we can say that the multipurpose form of computer education exists before us, whether it is in the field of education or any other field. Science and mathematical work has become very simple through computers.
Along with this, you can do all these complex works in various languages ​​like publication, speech communication, word storage and direct illustration. You get the same curriculum in computer, from primary schools to universities, teaching material.


Hope you guys have liked this article. If the information given by us is good, then share this article to as many people as possible and if anyone has any suggestion or question related to this article, then definitely write to us.










What is fingerprint, who invented the fingerprint sensor, and what are these types?

Hello friends, in today's article, we will know in detail what fingerprint technology is and how it works. Read this article completely to know it better.

What is fingerprint
Fingerprint means fingerprint or we can say that there are line marks on the opposite side of the nail above the fingers and thumbs of our hands, these marks are different for every person in the whole world. Nowadays with the help of these fingerprints, we can open any type of digital document. Or there are many such things that we can do at the technology level.


who invented the fingerprint sensor, and what are these types?

What is a fingerprint sensor?
Fingerprint sensor is a technology in which you can digitally open or close any electronic device with your finger, nowadays there is hardly any untouched by this technology. With this technology, you can unlock your phone, you can download your laptop and you can do a lot of work inside it as well. In modern schools and offices, fingerprint sensor machines are used for attendance. Attendance / attendance is attained by fingerprint through this machine. Nowadays, it is most commonly used in those things which are very prone to being stolen such as bank locker, vault house door etc. It is used in all the things that you want to protect from other people. Fingerprint is the only way that no one else can copy, that is, no one can open your device or other approach without your fingerprint.


How safe is fingerprint !!
If you have a personal mobile in which important file or netbanking or all the applications that you use in your transaction, then fingerprint password is more suitable for you. See, passwords or patterns can be bypassed or copied in any way, but you cannot copy someone's fingerprint. We cannot dodge the fingerprint sensor in any way. After applying the fingerprint password, we can make our smartphone or other device more secure. Nowadays the company has started providing fingerprint sensor in almost all high class devices. Currently, more than 200 devices with fingerprint sensors are available at the ElectroS stores. Surely we can say that fingerprint is the safest technology of the era of fire.

Who invented the fingerprint sensor and when?
By the way, the history of fingerprints is very ancient. Fingerprinting was first used in 9th century China, with Chinese merchants using their fingerprints for verification of loan documents for the first time.
Then a European named João de Burrows  recorded the first specimen of fingerprinting in the 14th century.


Use of fingerprints in digital devices.
The first fingerprint sensor was used by the smartphone maker Motorola in its 4G smartphone in the year 2011 and later on September 10, 2013 by the Apple company with the iPhone 5S smartphone. Nowadays, almost all company phones have fingerprint sensors. You must have seen that everyone uses fingerprint sensor from ATM to Attendance machine.

What are the types of fingerprint sensors?
Fingerprint scanners or sensors are also called Biometric Fingerprint Scanner. There are generally three types of fingerprint sensor, optical fingerprint sensor, capacitive fingerprint sensor, Ultrasonic fingerprint sensor. Among them, the most commonly used are optical fingerprint sensor and capacitive fingerprint sensor.

Optical Fingerprint Sensor
In it, the photo of your finger or thumb is captured and whenever you put your finger to unlock it in your mobile or other device, then the fingerprint and line of your finger will be matched to that photo and the phone or other device Is unlocked. Usually this technology / technology verifies our fingerprint by taking a photo of our finger or thumb and matching / matching the fingerprint saved with it, if the fingerprint matches correctly then the device opens.
who invented the fingerprint sensor, and what are these types?


Capacitive Fingerprint Sensor
Capacitive fingerprint sensor is an advanced technology from optical sensor, using Capacitive plate and capacitor / Capacitor instead of image sensor. Explain in simple terms, it stores your Fingerprint line and the space between those lines in the capacitor as electronic charge. For example, whenever you place your finger on the capacitive plate, the candector plate will store the space between your finger line and those lines as different electronics charges. After this, the store will unlock your phone device by verifying your fingerprint from the charge.

Ultrasonic Fingerprint Sensor 
This is the most modern technology / technology of today's era, which was created by a company named Qualacom Snapedragon / Qualcomm Snapdragon. It is a type of 3D fingerprint technology that was first used in LeTv Max Pro smartphones. In this technology, the hardware consists of an Ultrasonic transmitter and receiver. As soon as you place your finger on the scanner, the Ultrasonic transmitter immediately sends a signal, which touches your finger, some of which is left on the finger And the remaining signals are returned to the device. This technology receives the returning signal from the receiver and creates a 3D image from it. Which later stores and verifies your fingerprint in your mobile or other device. Your phone or other device is unlocked immediately after verifying the signal.


After opening our post in mobile to read more of our articles, click on the lowest View Web Version, so that you can also read our remaining posts.

Friends, if you like the information given by us, then share this article to as many people as possible, and if anyone has any suggestion or question related to this article, then definitely write to us

Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma



























Tuesday, November 19, 2019

फिंगरप्रिंट क्या है, फिंगरप्रिंट सेंसर का अविष्कार किसने किया ओर ये कितने प्रकार के होते है? What is fingerprint?


दोस्तों नमस्कार, आज के इस आर्टिकल में हम विस्तृत रूप से जानेंगे की फिंगरप्रिंट टेक्नोलॉजी क्या है और कैसे काम करती है। इस बारे में अच्छी तरह जानने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें। 
फिंगरप्रिंट क्या है, फिंगरप्रिंट सेंसर का अविष्कार किसने किया ओर ये कितने प्रकार के होते है?


फिंगरप्रिंट क्या है?
फिंगरप्रिंट यानि अंगुलछाप या हम ये कह सकते है की हमारे हाथ की उँगलियों और अंगूठों के ऊपर बनी नाख़ून की विपरीत दिशा में बने लाइननुमा निशान होते है, पूरी दुनिया में ये निशान प्रत्येक व्यक्ति के अलग-अलग होते है। आजकल इन फिंगरप्रिंट की मदद से हम अपने किसी भी प्रकार के डिजिटल डॉक्यूमेंट को खोल सकते हैं। या बहुत सारे ऐसे काम हैं जो हम टेक्नोलॉजी स्तर पर इनसे कर सकते हैं। 

फिंगरप्रिंट सेंसर क्या है?
फिंगरप्रिंट सेंसर एक ऐसी टेक्नोलॉजी है जिसके अंदर आप अपनी अंगुली से कीसी भी इलेक्टट्रॉनिक डिवाइस को डिजिटली खोल या बंद कर सकते है, आजकल शायद ही कोई अछूता हो इस टेक्नोलॉजी से। इस टेक्नोलॉजी से आप अपने फोन को अनलॉक कर सकते अपने लैपटॉप को ुनलिक कर सकते हैं और उसके अंदर भी आप बहुत कुछ काम कर सकते है। आधुनिक स्कूलों और दफ्तरों में अटेंडेंस के लिए फिंगरप्रिंट सेंसर मशीन का इस्तेमाल किया जाता है।  इस मशीन के द्वारा फिंगरप्रिंट से अटेंडेंस/हाजिरी लगती है। आजकल तो इसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा उन चीजों में किया जाता है जिनको चुराए जाने का बहुत खतरा हो जैसे बैंक लॉकर , तिजोरी घर के दरवाजे इत्यादि उन सभी चीजों में इसका इस्तेमाल किया जाता है जिनको आप दूसरे लोगों से सुरक्षित रखना चाहते हो। फिंगरप्रिंट ही एक ऐसा उपाय है जिसे कोई दूसरा कॉपी नहीं कर सकता यानि बिना आपके फिंगरप्रिंट के कोई दूसरा आपके डिवाइस या अन्य उपागम को नहीं खोल सकता। 


कितना सुरक्षित है फिंगरप्रिंट !!
अगर आपका पर्सनल मोबाइल हो जिसमे इम्पोर्टेन्ट फाइल या नेटबैंकिंग या वो सभी एप्लीकेशन जिनका उपयोग आप अपने लेनदेन में करते हो तो आपके लिए ज्यादा सही है फिंगरप्रिंट पासवर्ड। देखिये पासवर्ड या पैटर्न को बाईपास या किसी भी तरह से कॉपी किया जा सकता है, लेकिन आप किसी के फिंगरप्रिंट को कॉपी नहीं कर सकते। फिंगरप्रिंट सेंसर को हम किसी भी तरीके से चकमा नहीं दे सकते। फिंगरप्रिंट पासवर्ड लगाने के बाद हम अपने स्मार्टफोन या अन्य डिवाइस को ज्यादा सिक्योर कर सकते हैं। आजकल फिंगरप्रिंट सेंसर तो लगभग सभी हाई क्लास डिवाइस में कंपनी देने लगी है। फिलहाल फ़िंगरप्रिंट सेंसर से युक्त लगभग 200 से ज्यादा डिवाइस एलेक्ट्रोइस स्टोरों पर उपलब्ध है। निश्चित तौर पर हम यही कह सकते हैं की फिंगरप्रिंट आग के जमाने की सबसे सुरक्षित टेक्नोलॉजी है। 


फिंगरप्रिंट सेंसर का अविष्कार किसने और कब किया?
वैसे तो फिंगरप्रिंट का इतिहास बहुत पुराण है। फिंगरप्रिंटिंग का पहला उपयोग 9वीं शताब्दी चीन में हुआ था, चीन के व्यापारियों ने अपने फिंगरप्रिंट्स को लोन के डॉक्यूमेंट की वेरिफिकेशन के लिए पहली बार इस्तेमाल किया गया था। 
उसके बाद  जोओ डे बर्रोज़/Joao De Barros  नामक एक यूरोपियन ने 14 सदी में फिंगरप्रिंटिंग का पहला नमूना रिकॉर्ड किया था। 

डिजिटल डिवाइस में फिंगरप्रिंट का उपयोग। 
सबसे पहले फिंगरप्रिंट सेंसर का उपयोग स्मार्टफोन निर्माता कंपनी मोटोरोला ने साल 2011 में अपने 4G स्मार्टफोन में दिया और बाद में एप्पल कंपनी ने 10 सितंबर 2013 को आईफोन 5S स्मार्टफोन के साथ दिया था। आजकल तो लगभग सभी कंपनी के फोन में फिंगरप्रिंट सेंसर आते है। आप देख ही रहे होंगे की सभी एटीएम से लेकर अटेंडेंस मशीन तक फिंगरप्रिंट सेंसर का इस्तेमाल  करते हैं। 

फिंगरप्रिंट सेंसर कितने प्रकार के होते है?
फिंगरप्रिंट स्कैनर या सेंसर इनको Biometric Fingerprint Scanner भी बोला जाता है। फिंगरप्रिंट सेंसर सामान्यत तीन प्रकार के होते हैं,  ऑप्टिकल फ़िंगरप्रिंट सेंसर, कैपेसिटिव फ़िंगरप्रिंट सेंसर
,अल्ट्रासोनिक फिंगरप्रिंट सेंसर। इनमे सबसे ज्यादा प्रयोग में ऑप्टिकल फ़िंगरप्रिंट सेंसर और कैपेसिटिव फ़िंगरप्रिंट सेंसर ही होते हैं।

ऑप्टिकल फ़िंगरप्रिंट सेंसर/Optical Fingerprint Sensor
इसमें आपके उंगली या अंगूठे की फोटो केप्चर की जाती है और उससे जब भी आप अपने मोबाइल या अन्य डिवाइस में अनलॉक करने के लिए अपनी उंगली लगाते हैं तो आपके फिंगर के जो निशान और लाइन को उस फोटो से मैच करा कर फोन या अन्य डिवाइस को अनलॉक किया जाता है। सामान्यत यह टेक्नोलॉजी/Technology हमारी उंगली या अंगूठे की फोटो लेकर और उससे सेव किये गए फिंगरप्रिंट से मैच/मिलान करा कर फिर हमारे Fingerprint को वेरीफाई करती है, अगर फिंगरप्रिंट सही मैच हो जाते हैं तो डिवाइस खुल जाती है। 
फिंगरप्रिंट क्या है, फिंगरप्रिंट सेंसर का अविष्कार किसने किया ओर ये कितने प्रकार के होते है?


कैपेसिटिव फ़िंगरप्रिंट सेंसर/Capacitive Fingerprint Sensor 
कैपेसिटिव फ़िंगरप्रिंट सेंसर ऑप्टिकल सेंसर से एडवांस Technology है, जिसमें इमेज सेंसर की जगह Capacitive plate और कैपेसिटर/Capacitor का उपयोग किया जाता है। सरल शब्दों में आपको समझाएं तो यह आपकी Fingerprint की लाइन और उन लाइनों के बीच में जो जगह होती है उनको इलेक्ट्रॉनिक चार्ज के रूप में capacitor में स्टोर कर लेता है। जैसे आप जब भी अपनी फिंगर को Capacitive प्लेट पर रखते हैं तो उस समय candector plate आपके फिंगर की लाइन और उन लाइन के बीच के स्पेस को अलग-अलग इलेक्ट्रॉनिक्स चार्ज के रूप स्टोर करेगा। इसके बाद में स्टोर चार्ज से आपके फिंगरप्रिंट को वेरीफाई करके आपके फोन  डिवाइस को अनलॉक कर देगा। 

अल्ट्रासोनिक फिंगरप्रिंट सेंसर/Ultrasonic Fingerprint Sensor
आज के युग की ये सबसे आधुनकि टेक्नोलॉजी/Technology है जिसको की Qualacom Snapedragon/क्वालकॉम स्नैपड्रैगन नाम की कंपनी ने बनाया है। यह एक प्रकार की 3D Fingerprint Technology है जिसका उपयोग सबसे पहले LeTv  Max Pro स्मार्टफोन में किया गया था।  इस Technology में हार्डवेयर में Ultrasonic ट्रांसमीटर और रिसीवर लगा हुआ होता है। जैसे ही आप Scanner पर अपनी उंगली रखते हैं तो Ultrasonic ट्रांसमीटर तुरंत सिग्नल भेजता है, जो आपके उंगली को टच करती है जिसमें से कुछ सिग्नल उंगली पर रह जाते है और बची हुई सिग्नल वापस डिवाइस पर आ जाते हैं। ये टेक्नोलॉजी वापस आने वाले सिग्नल को रिसीवर से रिसीव करके उससे 3D इमेज बनाता है। जो बाद में आपके मोबाइल में या अन्य डिवाइस में आपका Fingerprint store और वेरीफाई करता है। सिग्नल वेरीफाई करने के बाद आपका फोन या अन्य डिवाइस तुरंत अनलॉक हो जाता है।

हमारे और आर्टिकल पढ़ने के लिए मोबाइल में हमारी पोस्ट ओपन करने के बाद सबसे निचे View Web Version पर क्लीक करें, ताकि आप हमारे बाकि की पोस्ट भी पढ़ सकें।
दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकरी अच्छी लगी तो, इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक Share करे तथा इस आर्टिकल संबंधी अगर किसी का कोई भी सुझाव या सवाल है तो वो हमें जरूर लिखें



Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma







Thursday, November 7, 2019

एनीमेशन कितने प्रकार के होते हैं? What types of Animation are? एनीमेशन के प्रकार

दोस्तो नमस्कार, हमारे पिछले आर्टिकल/लेख में हमने आपको एनीमेशन क्या होता है इसके बारे में विस्तार से आपको बताया था, अगर आपने हमारे उस आर्टिकल को नही पढ़ा तो आप इस लिंक What is animation पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं। पिछले लेख में हमने एनीमेशन से संबंधित आपको पूरी जानकारी दी थी साथ ही हमने उसमे आपको बताया भी था कि हम अपने अगले आर्टिकल में एनीमेशन के प्रकार के बारे में विस्तार से जानेंगे।
एनीमेशन कितने प्रकार के होते हैं?

जैसा कि आपको पता ही होगा कि एनीमेशन मूल रूप से 3 प्रकार के होते हैं।
2D एनीमेशन
3D एनीमेशन
VFX यानी विसुअल/वर्चुअल इफ़ेक्ट 

कुछ और अन्य एनीमेशन तकनीक भी हैं 
1) Stop Motion:
2) Claymation:
3) Cel Animation:
4) Paint-On-Glass Animation:


2D एनीमेशन
ये वो एनीमेशन होते हैं जिनमे आपको मात्र सामने के विजुअल ही दिखाई देते हैं, जैसे आप किसी चलते हुए चित्र या तस्वीर को फ्रेम दर फ्रेम देखते है, यानी हम इन एनीमेशन में मात्र आपको उस स्क्रीन पर चल रहे प्रोग्राम का केवल एकतरफा नजारा ही मिलेगा। इस प्रकार के एनीमेशन में आपको स्लाइड या फ्रेम में एक ही वस्तु को एनीमेशन में दिखाने के लिए बहुत सारे फ्रेम बनाने पड़ते हैं उनके हर मूवमेंट की अलग-अलग से। 2D एनीमेशन बनाने के लिए आपका ड्राइंग कौशल में प्रवीण होना जरुरी है। 2D एनीमेशन तब होता है जब 3D एनवायरनमेंट की बजाय 2D स्पेस में सीन और कैरेक्‍टर एनिमेटेड होते हैं। 2D एनीमेशन आप कागज और कंप्यूटर दोनों से बना सकते हैं। 

आजकल एनीमेशन डिज़ाइनर/कलाकार 2D एनीमेशन में सब कुछ बनाने के लिए कंप्यूटर सॉफ़्टवेयर का उपयोग करते हैं, जिसमें एनवायरनमेंट, कैरेक्‍टर, दृश्य प्रभाव सब शामिल होते हैं। 

जब से कंप्यूटर का प्रचलन बढ़ा है तब से  हर एनिमेटर अपनी कलाकारी कंप्यूटर से के माध्यम से ही त्यार करता है जो की कुछ सालों पहले यानि 20 वीं शताब्दी के अधिकांश हिस्सों में, पेपर पर चित्रों की तस्वीरें ले कर एनीमेशन किया जाता था और फिर उन्हें सेल नामक पारदर्शी एसीटेट शीट पर रख कर एनीमेशन त्यार किया जाता था। इस प्रकार के एनीमेशन का यह तरीका  कंप्यूटरों के आने के बंद हो गया, कंप्यूटर से कलाकार डिजिटल एनिमेशन बनाते हैं। बहुत से सॉफ्टवेयरों की मदद से सारा काम हो जाता है, एक एनिमेटर को ज्यादा पेपर शीट बनाने की जरुरत नहीं होती। 


एनीमेशन कितने प्रकार के होते हैं?

पेपर की बजाय कंप्यूटर सॉफ्टवेयर में फीचर्स का एक बड़ा टूलबॉक्स होता है जो आर्टिस्ट्स/कलाकार  को कई तरीकों से एनीमेशन में हेरफेर करने में मदद करते हैं, जिसमें टाइमिंग जैसे महत्वपूर्ण एलिमेंट को फाइन-टयून करने से कोई भी करैक्टर बिलकुल स्‍मूथ दिखता है। यदि आप कुछ तकनीकों तक सीमित न रहते हुए एक अच्छा 2D एनिमेटर बनना चाहते हैं, तो आपके लिए यह जानना आवश्यक है कि प्रत्येक टूल काम क्या है और इसका उपयोग प्रभावी ढंग कैसे करना हैं।

2D एनीमेशन का उपयोग !
 कंप्यूटर और मोबाइल तकनीक के शुरुआती दौर में जितने भी वीडियो गेम थे सभी 2D तकनीक पर आधारित थे। मौजूदा समय में 2D एनीमेशन का व्यापक रूप से कई रचनात्मक उद्योगों में उपयोग किया जाता है। 3D एनीमेशन के साथ-साथ 2D एनीमेशन का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। जैसे की टीवी पर दिखाए जाने वाले कार्टून सिरिज और जापानी एनीम से वीडियो गेम और पूर्ण फीचर फिल्मों तक सब कुछ 2D में किया जाता है। 

टेलीविजन वह जगह है जहां 2D एनीमेशन अभी भी सबसे अधिक उपयोग किया जाता है। 2D एनीमेशन के साथ किए गए प्रोग्राम की संख्या विस्तृत है। 2D एनीमेशन के दम पर आज बहुत से कार्टून चैनल चल रहे हैं।

  
CGI जिसे computer-generated imagery कहा जाता है, एक बिल्कुल आधुनिक टेक्‍नोलॉजी है जो 1990 के दशक के दौरान प्रयोग में लाइ गयी थी।

2D Animation Software : Toon Boom Studio, Autodesk’s SketchBook Pro, Anime Studio Debut, DrawPlus, FlipBook Lite, Adobe Photoshop, The TAB Pro, CrazyTalk Animator, MotionArtist, Flip Boom Cartoon

आप हमारे यूट्यूब चैनल पर जाकर सभी प्रकार के 3D एनीमेशन सॉफ्टवेयर फ्री में सिख सकते हैं। ये है हमारे यूट्यूब चैनल का लिंक : Home Design India 3D Software Class



3D एनीमेशन
3D एनीमेशन वो होते हैं जिन एनीमेशन में हम किसी भी वस्तु या अन्य आकृति को उसके पॉइंट पर 360 डिग्री घुमा सकते हैं। ये वो एनीमेशन होते हैं जिनमेआपको वास्तविकता का अहसास होता है यानि 3D एनीमेशन एक कंप्यूटर प्रोग्राम के उपयोग के साथ तीन आयामी वस्तुओं और वर्चुअल वातावरण के हेर-फेर से आपको भर्मित किया जाता है। आजकल 3D एनीमेशन इतना लोकप्रिय हो गया है क्योंकि इसका उपयोग यथार्थवादी वस्तुओं और दृश्यों को बनाने के लिए किया जा सकता है।

3D एनीमेशन बनाने के लिए एनीमेटर्स सबसे पहले पहले इसे किसी भी कंप्यूटर 3D सॉफ्टवेयर में फॉर्म देने के लिए विभिन्न जुड़े हुए कोने के साथ एक 3D पॉलीगॉन या अन्य शेप का जाल/ग्रिड बनाते हैं, उसके बाद उसमे विभिन्न प्रकार की मॉडिफिकेशन करके एक करेक्टर बनाते हैं। इसके बाद बनाई गयी संरचना को जिवंत करते हैं जिसमे आर्मेचर की मदद ली जाती है। आर्मेचर, जो एक ढाँचे की संरचना होती हैं, उसे ऑब्जेक्ट को विशिष्ट पॉज़ में प्रकट करने के लिए कुशलतापूर्वक प्रयोग किया जाता है। आर्मेचर की हर गतिविधि को तिम्लिने पर फ्रेम दर फ्रेम रिकॉर्ड करके ये एनीमेशन बनाया जाता है। 3D एनीमेशन में विसुअल अत्यंत ही वास्तविक और जिवंत दिखाई देते हैं। 


किसी भी 3D एनिमेशन को बनाने के लिए एक कंप्यूटर और 3D सॉफ़्टवेयर/प्रोग्राम की आवश्यकता होती है, जो आम तौर पर बहुत सारे फीचर्स के साथ आता है और जिसमे आप मॉडलिंग और सिमुलेशन के द्वारा किसी भी प्रकार की आकृति बना सकते हैं। इसमें लाइटिंग, विश़ूअल इफेक्‍ट, फीजिक्‍स, और अन्य एलिमेंट को जोड़ने के लिए विभिन्न टूल्‍स सामान्य रूप से शामिल होते हैं। इन टूल्स की मदद से ही आप इनमे वो भावनाएं डाल सकते है जिससे हमे वो जीवन लगने लगती है। 
एनीमेशन कितने प्रकार के होते हैं?

3D कंप्यूटर टेक्नोलॉजी से पहले ये काम होता जरूर था लेकिन वो एक स्तर तक ही सिमित था। 3D एनीमेशन की सबसे नज़दीकी चीज स्टॉप-मोशन/stop-motion और क्लेमेशन थी, जिसमें वास्तविक जीवन वस्तुओं का उपयोग करना और गति के भ्रम को दिखाने के लिए चित्र लेना शामिल था। आजकल यह काल्पनिक दुनिया को दिखने का और एनीमेशन का सबसे लोकप्रिय रूप है। 3D तकनीक का उपयोग टीवी शो, वीडियो गेम और फीचर फिल्मों में आजकल बहुतायत में किया जाता है। 

यहाँ मैं आपको बतादूँ की Jungle book,Transformers, Avatar, The Avengers, Robot जैसी लाइव-एक्शन फिल्में जितनी प्रभावशाली आपको लगी हैं सब 3D एनीमेशन और VFX तकनीक का कमाल है। अगर इन सभी फिल्मों में से सारे 3D एलिमेंटस् को हटा दिया जाये तो, ये फ़िल्में आपको बिलकुल भी रोचक और प्रभावशाली नहीं लगेगी। इसी प्रकार 3D वीडियो गेम भी आपको वही रोचकता प्रदान करते हैं, सिर्फ और सिर्फ 3D विजुएलाइजेशन तकनीक के कारण। 


Most popular 3D animation Software : 
Autodesk Maya, Autodesk 3ds Max, Unity, CINEMA 4D, Houdini, Autodesk Softimage, LightWave, Modo, TurboCAD Deluxe, SketchUp.

2D और 3D एनीमेशन का प्रयोग पहले से कहीं अधिक उपयोग विज्ञापनों, उद्योगों में किया जाता है। जैसे की -

गेम्‍स/games, मुविज/movies, टेलीविजन प्रोग्राम/TV program, इंटीरियर डिजाइनिंग/interior designing, बिज़नेस/business, आर्किटेक्चर/archtecture, मेडिसिन/medicine और कई अन्य मल्टीमीडिया फ़ील्ड/multimedia fields.

VFX क्या है 
ये भी एक प्रकार के एनीमेशन ही होते हैं, इनका प्रयोग आजकल फिल्मों और टीवी सीरियलों में बहुत ज्यादा होता है। VFX के माध्यम से हम फिल्मों में बहुत सारी ऐसी चीजें देख पाते हैं जो वास्तविकता से कतई परे होती है। किसी भी प्रकार के वीडियो प्रोडक्शन में जब कोई सीन फिल्माने में महंगा हो या फिर खतरनाक हो तो उस सीन को कंप्यूटर VFX तकनीक से बनाते हैं जिसमे कुछ स्पेशल इफ़ेक्ट/Special Effects का इस्तेमाल किया जाता है यह Effects वीडियो बनाने के साथ में भी लगाया जा सकता है या वीडियो एडिट/edit  करते समय लगाया जा सकता है। तो इन सभी इफेक्ट्स को ही VFX कहा जाता है। 

जैसा की हम ऊपर जिक्र कर चुके हैं की इसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा टीवी और फिल्म इंडस्टी में सबसे ज्यादा होता है, या फिर किसी भी विज्ञापन को प्रभावी ढंग से दिखाने के लिए इस प्रकार के VFX का इस्तेमाल किया जाता है। बेशक ये सारा काम होता टीवी जगत के लिए ही है। फिल्म और टीवी प्रोग्राम मेकिंग में आज के समय में बहुत ज्यादा विजुअल इफेक्ट्स/visula effects का इस्तेमाल हो रहा है। इस तकनीक को इस्तेमाल करने का बहुत ही फायदा भी है, इससे समय और पैसे दोनों की बचत होती है। इसके लिए आपको कहीं बाहर अपने प्रोग्राम के लिए शूट करने की जरुरत नहीं होती आप किसी भी स्टूडियो में क्रोमा स्क्रीन पर इसे बनवा सकते हैं। 


आजकल आप  बहुत सारी  होंगे जिनमे बहुतायत में VFX का प्रयोग किया गया होता है। एक बहुत ही प्रचलित फिल्म है बाहुबली/Bahubali  जिसमे सारा काम VFX तकनीक से ही किया गया  है। किसी भी वीडियो में VFX लगाने के लिए दो तरह की स्क्रीन का इस्तेमाल किया जाता है, एक Green स्क्रीन और दूसरी Blue स्क्रीन। इन स्क्रीन को क्रोमा स्क्रीन बोला जाता है। इन स्क्रीन की मदद से वीडियो के बैकग्राउंड को बड़ी आसानी से हटाया जा सकता है और उसके अंदर अलग विसुअल या एलिमेंट्स/Elements को Add किया जा सकता है। क्रोमा स्क्रीन से शूट करके आप वीडियो के बैकग्राउंड में पहाड़, नदियां, मैदान, किला या अन्य कोई भी बैकग्राउंड जोड़ सकते हैं।   


एनीमेशन कितने प्रकार के होते हैं?
VFX Effects

VFX में प्रयोग होने वाले Software :

VFX / 3D:
Blender
3D Studio Max
Maya
Cinema 4D

VFX / Compositing:
Adobe After Effects
Adobe Photoshop
Nuke

Screenwriting:
Celtx
Final Draft
Apple’s Pages (it includes a useful screenplay template

Editing:
Final Cut Pro
Adobe Premiere
Avid

Audio:
Protools
Adobe Soundbooth
Audacity

हमारे और आर्टिकल पढ़ने के लिए मोबाइल में हमारी पोस्ट ओपन करने के बाद सबसे निचे View Web Version पर क्लीक करें, ताकि आप हमारे बाकि की पोस्ट भी पढ़ सकें।
दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकरी अच्छी लगी तो, इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक Share करे तथा इस आर्टिकल संबंधी अगर किसी का कोई भी सुझाव या सवाल है तो वो हमें जरूर लिखें



Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma




Popular Posts