Skip to main content

श्री मनोहर पर्रीकर जी का जीवन परिचय, Sir Manohar Parrikar's biography

मनोहर पर्रिकर का जीवन परिचय 
मनोहर पर्रिकर जी को साफ और बेदाग छवि वाले नेता के रूप में जाना जाता है। ज्यादातर हमारे देश की राजनीति के हर स्तर पर केवल भ्रष्टाचार ही देखने को मिलता है, और ऐसे में देश की जनता का विश्वास नेताओं पर से उठता जा रहा है। भारत के कई नेताओं की छवि जनता के बीच कुछ खास नहीं हैं। वहीं जनता लगभग हर नेता को भ्रष्ट नेता के रूप में देखती है, जो कि गलत है। क्योंकि अभी भी हमारे देश की राजनीति में कुछ गिने-चुने ऐसे राजनेता मौजूद हैं, जिनकी छवि एक दम साफ और बेदाग है। इन्हीं साफ छवि वाले नेताओं में से एक नेता श्री मनोहर पर्रिकर जी भी हैं। जिन्हें उनके द्वारा किए गए कार्य और उनकी ईमानदारी के लिए जाना जाता है। एक छोटे से राज्य से अपना राजनीति का सफर शुरू करने वाले पर्रिकर जी ने अपनी मेहनत के दम पर आज अपना एक नाम बनाया है और हमारे देश की राजनीती में अभूतपूर्व योगदान दिया है। 

श्री मनोहर पर्रीकर जी का जीवन परिचय
श्री मनोहर पर्रीकर जी का जीवन परिचय (Manohar parrikar biography)
नाम : मनोहर गोपाल कृष्ण प्रभु पर्रीकर
जन्म : 13 दिसम्बर 1955 
मृत्यु  : 17 मार्च 2019
जन्म स्थान : मापुसा ,गोवा ,भारत
उम्र: 63 वर्ष
पिता का नाम : गोपाल कृष्ण पर्रीकर
माता का नाम : राधा बाई पर्रीकर
पत्नी : मेधा पर्रीकर
धर्म : हिन्दू
भाषा : हिंदी, इंग्लिश, कोंकणी, मराठी  
पुत्र : अभिजीत पर्रीकर और उत्पल पर्रीकर
शिक्षा : स्नातक आईआईटी ग्रेजुएट, मुंबई 1978
करियर : राजनीतिज्ञ, गोवा के मुख्यमंत्री, देश के रक्षा मंत्री (2014 से लेकर 2017 तक)
पार्टी : भारतीय जनता पार्टी
पसंदीदा खेल : क्रिकेट
रूचि : जेनेटिक्स
मनोहर जी का व्यक्तित्व
श्री मनोहर पर्रीकर जी अपनी सादगी के लिए मशहूर थे। गोवा का सर्वोच्च पद होने के बावजूद पर्रीकर क्षेत्र का दौरा अपने विधायकों के साथ अकसर स्कूटर(स्कूटी) पर करते हैं। जब वे किसी कार्यक्रम में शरीक भी होते थे तो वे साधारण वेशभूषा में ही पहुंचते थे। पर्रीकर जी के एक करीबी के अनुसार - एक बार पर्रीकर को एक कार्यक्रम में शरीक होने पांच सितारा होटल जाना था, लेकिन समय पर उनकी गाड़ी खराब हो गई। उन्होंने तत्काल एक टैक्सी बुलवाई और साधारण कपड़े और चप्पल पहने वे होटल पहुंचे। जैसे ही टैक्सी से वे उतरे तो होटल के दरबान ने उन्हें रोका और कहा कि तुम अन्दर नहीं जा सकते। तो पर्रीकर ने दरबान को बताया कि वे गोवा के मुख्यमंत्री हैं, यह सुनकर दरबान ठहाके मारकर हंसने लगा और बोला कि "तू मुख्यमंत्री है तो मैं देश का राष्ट्रपति हूं" इतने में कार्यक्रम के आयोजक मौके पर पहुंचे और उनका स्वागत किया। ऐसे थे मनोहर जी सादगी पसंद। गोवा के मुख्यमंत्री होने के बाद भी पर्रिकर ने अपने रहन-सहन में थोड़ा सा भी बदलाव नहीं किया। इतना ही नहीं उन्होंने मुख्यमंत्री बनने के बाद भी अपने घर को नहीं छोड़ा और सरकार द्वारा दिए गए घर में नहीं गए।
How to be an IAS officer      
How to be an IPS officer       
What is web development ?
Army ऑफिसर कैसे बने। 
Air-Force Pilot कैसे बने।
मनोहर पर्रिकर जी का जन्म और शिक्षा (Manohar Parrikar’s  Education And Birth) 
मनोहर पर्रिकर जी का नाता भारत के गोवा राज्य से है, और इनका जन्म इस राज्य के मापुसा ग्राम में साल 1955 में हुआ था। स्थानीय लोयोला हाई स्कूल से उन्होंने अपनी शिक्षा हासिल की थी। उसके बाद की अपनी 12 वीं की पढ़ाई खत्म करने के बाद उन्होंने मुंबई में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान/IIT में दाखिला लिया था, यहीं से उन्होंने अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की थी। 

मनोहर पर्रिकर जी का परिवार (Manohar Parrikar’s  Family)
पर्रिकर के गोवा के मुख्यमंत्री बनने के कुछ समय बाद उनकी पत्नी की मृत्यु हो गई थी। उनकी पत्नी का नाम मेधा पर्रिकर था और पर्रिकर और मेधा की शादी साल 1981 में हुई थी। पर्रिकर के कुल दो बच्चे हैं, जिनमें से पहले बच्चे का नाम उत्पल पर्रिकर है, जबकी दूसरे लड़के का नाम अभिजीत पर्रिकर है। वहीं पर्रिकर के दोनों बच्चों का राजनीति से कोई लेना देना नहीं है। उत्पल बतौर एक इंजीनियर के रूप में अमेरिका में कार्य कर रहे हैं, जबकि अभिजीत का खुद का एक व्यापार है। वहीं मनोहर पर्रिकर का एक भाई भी है जिसका नाम अवधूत पर्रिकर है। मनोहर पर्रिकर जी उनकी पत्नी कैंसर से ग्रस्त थी। पर्रिकर के मुख्यमंत्री बनने के ठीक एक साल बाद उनकी पत्नी ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। पत्नी के जाने के बाद पर्रिकर ने गोवा के मुख्यमंत्री होने के साथ-साथ अपने बच्चों की जिम्मेदारी भी बहुत अच्छे तरीके से निभाई। 
मनोहर पर्रिकर का राजनीतिक सफर (Manohar Parrikar’s Political Career)
मनोहर पर्रिकर जी बहुत ही मेहनती और सरल सवभाव के इंसान थे। मनोहर पर्रिकर का राजनीतिक कैरियर साल 1994 में तब शुरू हुआ जब वे गोवा विधानसभा के विधायक चुने गए। मनोहर पर्रिकर जी अपने स्कूलों के दिनों से ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ/RSS में शामिल हो गए थे। मनोहर जी ने अपनी पढ़ाई के साथ-साथ RSS की युवा शाखा के लिए भी काम करना शुरू कर दिया था। स्कूल से पास होने के बाद उन्होंने अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई शुरू कर दी। अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद एक बार फिर उन्होंने आरएसएस को अपनी सेवा देना शुरू कर दिया। इसके  बाद उन्हें BJP/बीजेपी(भारतीय जनता पार्टी) पार्टी का सदस्य बनने का मौका मिला और उन्होंने BJP/बीजेपी पार्टी की तरफ से पहली बार चुनाव भी लड़ा। बीजेपी ने पर्रिकर को साल 1994 में गोवा की पणजी सीट से विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए टिकट दिया। पर्रिकर को इस चुनाव में जीत मिली थी। उस वक़्त पर्रिकर जी ने गोवा की विधानसभा में विपक्ष नेता की भूमिका भी निभाई थी। 

उसके बाद वह 24 अक्टूबर साल 2000 में गोवा के मुख्यमंत्री के तौर पर नियुक्त हुए और 27 फरवरी 2002 तक मुख्यमंत्री के कार्य बखूबी संभाला, किन्तु किन्हीं कारणों से उनका ये कार्यकाल ज्यादा समय तक नहीं चल पाया और 27 फरवरी 2002 को उन्हें अपनी ये कुर्सी छोड़नी पड़ी। वहीं 5 जून 2002 को फिर से उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में चुना गया। इसके बाद भी मनोहर जी कई बार गोवा के मुख्यमंत्री पद पर रहे। उनके अंतिम काल तक वो मुख्यमंत्री के पद पर आसीन थे। मनोहर पर्रीकर जी आज हमारे बिच नहीं हैं वो 17 मार्च 2019 को दुनिया को अलविदा कह गए हैं। वो कई बार गोवा के मुख्यमंत्री के पद पर आसीन रहे है। उन्होंने अंतिम बार अपने मुख्यमंत्री पद की शपथ 14 मार्च 2017 को ली थी। साथ ही वे बिजनेस सलाहकार समिति के सदस्य भी रह चुके हैं। साल  2014 में उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा देकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार में रक्षा मंत्री का पदभार ग्रहण किया। वे पहले ऐसे भारतीय मुख्यमंत्री थे, जिन्होंने आई आई टी से स्नातक किया हुआ था। 

साल 2017 में एक बार पुनः गोवा में विधानसभा के चुनाव हुए और इन चुनावों में फिर से बीजेपी की जीत हुई।   गोवा के विधायकों ने अपने राज्य के लिए मनोहर पर्रिकर जी को मुख्यमंत्री बनाने का प्रस्ताव रखा। जिसके चलते पर्रिकर जी को अपना रक्षा मंत्री पद छोड़ना पड़ा और वो गोवा के मुख्यमंत्री पद को संभालने गोवा वापस आ गए। 

श्री मनोहर पर्रीकर जी का जीवन परिचय

सोशल मीडिया पर सक्रियता 
मनोहर पर्रिकर जी भारत के पहले ऐसे आईआईटी/IIT  ग्रेजुएट थे, जो किसी राज्य के मुख्यमंत्री बने थे। मनोहर पर्रिकर से पहले हमारे देश का ऐसा कोई भी व्यक्ति मुख्यमंत्री नहीं बना था, जिसके पास आईआईटी की डिग्री हो। इतना ही नहीं पर्रिकर जी सोशल मीडिया पर भी काफी सक्रिय रहते थे, जिसके कारण वो लोगों से जुड़े रहते थे।

मनोहर पर्रिकर जी को मिले सम्मान और पुरस्कार (awards and achievements) 
मनोहर पर्रिकर जी को उनके कॉलेज यानी आईआईटी-मुंबई/IIT  Mumbai द्वारा सम्मानित किया जा चुका हैं।  उन्हें उनके कॉलेज द्वारा ये सम्मान साल 2001 में दिया गया था। इतना ही नहीं साफ और बेदाग छवि वाले इस नेता को CNN-IBN/सीएनएन-आईबीएन ने भी राजनीति श्रेणी में पुरस्कार दिया था। पर्रिकर को ये सम्मान साल 2012 में दिया गया था। 


अगर हमारे द्वारा दी गई जानकरी अच्छी लगी तो इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक Share करे तथा इस आर्टिकल संबंधी अगर किसी का कोई भी सुझाव या सवाल है तो वो हमें जरूर लिखें। हमारी नई पोस्ट पढ़ने के लिए हमे सब्सक्राइब भी करें। 

Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…