Skip to main content

IELTS एग्जाम क्या होता है? क्यों जरूरी है इसे पास करना। What is IELTS exam.

दोस्तो नमस्कार आपका हमारे वेब पोर्टल पर बहुत स्वागत है। हम अपने इस पोर्टल पर Technology और Education से संबधित article लिखते हैं। हमारे आर्टिकल आपके लिए बहुत काम के हो सकते हैं। आज के इस आर्टिकल में हम आपके लिए बहुत अच्छी जानकारी लेकर आये हैं। कृपया इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें, और एजुकेशन से सम्बंधित हमारे दूसरे आर्टिकल भी पढ़ें। 


What is IELTS exam.

अगर आप भी विदेश में पढ़ना चाहते हैं या नोकरी करना चाहते हैं तो कुछ देश ऐसे हैं जिनके लिए आपको IELTS टेस्ट देना पड़ता है, IELTS EXAM पास करने के बाद ही आप वहां पढ़ाई के लिए या नोकरी के लिए जा सकते हैं। आइए आज हम जानते हैं कि यह IELTS क्या होता है, इसका पैटर्न कैसा होता है और इसके लिए आवेदन कैसे किया जा सकता है, इसमे आपको क्या-क्या सिखाया जाता है।

क्या है IELTS/What is IELTS?

IELTS विदेश जाने के लिए इंग्लिश लैंग्वेज का टेस्ट है। अगर कोई उन देशों में जाकर काम करना चाहता या फिर पढ़ना चाहता है, जहां इंग्लिश संचार की मुख्य भाषा है तो यह टेस्ट देना पड़ता है। IELTS का फुल फॉर्म (International English Language Testing System) है। जिन देशों की यूनिवर्सिटियों में दाखिले के लिए IELTS को स्वीकार किया जाता है, इन देशों में UK, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, USA और कनाडा अहम हैं। IELTS टेस्ट के दौरान कैंडिडेट की इंग्लिश पढ़ने, बोलने, सुनने और लिखने/Reading, Speaking, listening, Writing skill परखी जाती है।


योग्यता/Eligiblity
IELTS exam देने के लिए कैंडिडेट की उम्र सामान्यतः16 साल से ज्यादा होनी चाहिए। संयुक्त राज्य अमेरिका/USA, कनाडा, यूके/UK, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया में study के लिए जो छात्र आवेदन करते हैं उनको ये exam देना पड़ता है। साथ जो लोग किसी अन्य व्यवसाय हेतु संयुक्त राज्य अमेरिका, यूके और ऑस्ट्रेलिया में काम करना चाहते हैं, उनको भी टेस्ट देना जरूरी होता है, इसके अलावा जो लोग कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में स्थायी रूप से बसना चाहते हैं, उनको भी यह टेस्ट देना होता है। इन देशों में जाने के लिए IELTS exam में अलग-अलग band सिस्टम होता है।


IELTS कितने प्रकार का होता है?
IELTS EXAM दो टेस्ट फॉर्मेट में उपलब्ध होते हैं। एक होता है ऐकडेमिक/Academic और दूसरा होता है जनरल/General purpose. अगर किसी को विदेश में पढ़ने जाना है, तो उसे ऐकडेमिक IELTS exam देना होता है। व्यवसायीक वीजा/Work Visa या स्थायी रूप से उन देशों में बसने के लिए जनरल/general purpose IELTS exam देना होता है। IELTS exam कुल 2 घंटे और 45 मिनट का होता है। IELTS exam हर साल 48 अलग-अलग तारीखों पर होता है, यानी हर महीने में 4 बार ये exam लिया जाता है। IELTS exam देने के लिए आप अपनी सुविधा के मुताबिक इन तारीखों में से कोई भी तारीख का चुनाव सकते हैं।

IELTS एग्जाम का पैटर्न कैसा होता है?IELTS Exam Pattern
IELTS के Syllabus में चार सेक्शन/section होते हैं। जिनमे पढ़ना, सुनना, बोलना और लिखना शामिल है। किसी भी कैंडिडेट की मार्किंग इन चार सेक्शनों के आधार पर ही की जाती है, उसके बाद स्टूडेंट का ओवरऑल IELTS स्कोर तैयार किया जाता है। कुल स्कोर सभी चार स्किल एरिया में प्राप्त स्कोरों का योग होता है। इसी score को band कहा जाता है। सभी चार स्किल में 1 से लेकर 9 स्केल तक स्कोर दिया जाता है। इसके अलावा ओवरऑल स्कोर भी दिया जाता है। जितना अच्छा आपका स्कोर होगा, तो किसी भी देश मे जाने, पढ़ने-लिखने, काम करने के लिए बहुत अच्छा रहेगा।


IELTS आवेदन कैसे करें? IELTS Registration
IELTS के लिए आप ऑनलाइन आवेदन के अलावा डाक या कूरियर से भी अपना ऐप्लिकेशन फॉर्म भेज सकते हैं,इसके लिए फॉर्म आपको किसी भी फोटोस्टेट की दुकान या इंटरनेट से भी मिल जाएगा।
निम्न तरीके से आप इसके ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।
सबसे पहले https://www.ieltsidpindia.com/ वेबसाइट ओपन करके इसमे अपने एकाउंट से लॉगिन करें, अगर एकाउंट नही है तो आप Register your test पर क्लिक करके नया बना सकते हैं। उसके बाद Register for IELTS का ऑप्शन चुनें। उसके बाद में आपकोइसमे अपनी व्यक्तिगत जानकारी जैसे आपकी शिक्षा,उम्र ,एग्जाम की अपनी तारीख और शहर का चुनाव करें। फॉर्म कम्पलीट होने के बाद आप इसके लिए टेस्ट शुल्क/exam fee क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड, नेट बैंकिंग से जमा कर सकते हैं।

What is IELTS exam.

IELTS परीक्षा शुल्क कितना होता है? IELTS Exam Fees
IELTS exam के लिए रजिस्ट्रेशन फीस 31 मार्च 2019 तक 11,300 रूपये है। इसके बाद 1 अप्रैल 2019 से ये फीस 13,250 रूपये होगी। इस परीक्षा से सम्बंधित किसी भी अन्य प्रकार की जानकारी आप इनकी E-Mail ID ielts.india@idp.com पर मेल करके भी ले सकते हैं। 


IELTS के लिए कोचिंग कहाँ से लें?
आजकल IELTS की तयारी के लिए बहुत से माध्यम हैं जैसे ऑनलाइन, यूट्यब से, ऑफलाइन ऑडियो विसुअल सामग्री, किसी संसथान से, पुस्तकों द्वारा, वो आप पर डिपेंड करता है की आपको किस माध्यम से तयारी करनी है। अगर आपको किसी अच्छे संसथान से IELTS से कोचिंग लेनी है तो आप अपने नजदीकी किसी अच्छे शहर के कोचिंग सेण्टर से संपर्क कर सकते हैं, हमारे देश में लगभग हर शहर में IELTS की कोचिंग देने वाले बहुत से संसथान मिल जायेंगे। इनमे फीस देकर आप अच्छी कोचिंग लेकर इस एग्जाम को पास कर सकते हैं। 


दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकरी अच्छी लगी तो, इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक Share करे तथा इस आर्टिकल संबंधी अगर किसी का कोई भी सुझाव या सवाल है तो वो हमें जरूर लिखें।




Comments

  1. ब्रो GRE के पेपर पे थोड़ा प्रकास डालें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks for your interest, we will post about it soon.

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…