SMPS क्या होता है/What is SMPS? - LS Home Tech

Post Top Ad

Your Ad Spot

Wednesday, May 19, 2021

SMPS क्या होता है/What is SMPS?

SMPS क्या होता है/What is SMPS?

जब भी कंप्यूटर का जिक्र आता है तो हमारे जेहन में इसका इलेक्ट्रॉनिक रूप ही होता है, ओर हो भी क्यों ना, क्योंकि कंप्यूटर Electricity पर चलने वाला यंत्र है। अब कंप्यूटर को चलाने के लिए जो इलेक्ट्रिसिटी यंत्र होता है, उसे शार्ट में SMPS यानी सिस्टम मोड पावर सप्लाई ओर हिंदी में तंत्र युक्त विद्युत आपूर्ति कहते हैं। कोई भी कंप्यूटर या फिर लैपटॉप, बिना विद्युत के नहीं चल सकते इनके लिए Power की जरूरत होती है। और कंप्यूटर में बहुत सारे अलग-अलग पुर्जे लगे होते हैं, जिनको उनकी क्षमता के अनुसार खास विद्युत आपूर्ति की जरूरत होती है, सही से काम करने के लिए। जहां बिजली से चलने वाले दूसरे उपकरण 200 से 220 वोल्टेज के करंट से चलते हैं, इसके विपरीत कंप्यूटर सिस्टम को SMPS के द्वारा उसके विभिन भागों को प्रवाहित बिजली को रूपांतरित करके दिया जाता है। 
SMPS Kya hota hai

यहां आपको ये भी बता दूं कि SMPS को 220 वोल्टेज बिजली की जरूरत होती है चलने के लिए, लेकिन इसके आगे वो सभी पुर्जों को उनकी जरूरत के हिसाब से तय पावर ही देता है। क्योंकि कंप्यूटर मदरबोर्ड विभिन्न छोटे पुर्जों का हब होता है, जिसमे हार्डडिस्क, CPU, CD RW, कूलिंग फैन इत्यादि को अलग-अलग मात्रा में पावर दी जाती है। ओर ये सारा काम SMPS ही करता है। आइये आज हम आपको SMPS के बारे में विस्तार से जानकारी देते हैं।

SMPS क्या होता है/What is SMPS?
दरअसल SMPS किसी भी कंप्यूटर के कैबिनेट में ऊपर पीछे की तरफ लगने वाला इलेक्ट्रिसिटी कंट्रोल करने के लिए एक बॉक्स होता है, जिसे Power Supply भी कहा जाता है। जो कंप्यूटर में लगे विभिन्न पुर्जो को उनके सामर्थ्य अनुसार बिजली देता है। सामान्य PC में आप इसे देख सकते हैं, लैपटॉप में इसे मदरबोर्ड के साथ ही जोड़ा जाता है। कंप्यूटर में इसके लिए एक खास जगह निश्चित होती है। 

SMPS के अंदर एक Circuit Board होता है, जिसमे से कंप्यूटर को पावर देने के लिए बहुत से अलग-अलग कलर ओर अलग-अलग वोल्टेज के लिए तार दिए हुए होते हैं, ओर उनके सिरे पर अलग-अलग प्रकार के Socket दिए होते हैं। इन्ही सॉकेट के द्वारा कंप्यूटर के सभी हार्डवेयर को पावर सप्लाई दी जाती है। इसका मुख्य काम AC/Alternative Current करंट को DC/Direct Current में बदलना होता है, ओर DC को भी अलग-अलग वोल्टेज के हिसाब से देना होता है।कहने का मतलब ये है कि इसके द्वारा निकली गयी पावर विभिन वोल्टेज में होती है, जैसे -5, +5, 3, वोल्ट से लेकर +12 ओर दूसरी मात्रा में भी स्विच करता रहता है। एसएमपीएस पावर को Convert करने के लिए Diode, Capacitor ओर Regulator का इस्तेमाल करता है। 

SMPS कैसे काम करता है? how SMPS works?
जैसे ही किसी भी कंप्यूटर को स्टार्ट किया जाता है, सबसे पहले इसका SMPS ही काम करता है, जैसे ही SMPS में बिजली आती है, तो वो AC फ़िल्टर के पास जाती है, जहां से Neutral ओर Face को Filter, Diode ओर Capacitor की मदद से अलग किया जाता है, ओर आउटपुट को एक Rectifier को दिया जाता है। इसके आगे जो भी पावर निकलती है वो अब AC से बदलकर DC हो चुकी होती है। इसके बाद इसे Switching Transistor को दे दिया जाता है। यहां ओर 2 NPN Transistor का इस्तेमाल किया जाता है जो पावर को फिर से AC में बदल देता है। ये सारा काम SMPS का Primary Circuit करता है। Primary Circuit के Rectifier ओर Filter एक आउटपुट स्टार्टर transformer के साथ जुड़े होते हैं, जो डायरेक्टली एक Amplifier IC के साथ कनेक्टेड होता है। इसी IC से SMPS का सारा Power Management किया जाता है। 

Amplifier IC से तीन प्रमुख तार बाहर निकलते हैं जो Green, Violet ओर Gray कलर के होते हैं। इसके आगे इसका Secondary Circuit शुरू हो जाता है जो करंट को फिर से Rectifier ओर Filter की मदद से पावर को DC में बदल देते हैं, जिनकी Value 12 Volt, 5Volt ओर 3Volt हो जाती है। इन तीनों आउटपुट तार के द्वारा Motherboard को Supply दी जाती है, जिसमे Switching Transistor ओर Amplifier IC आपस मे Driver के माध्यम से Connected रहती है, ओर इस पावर को Amplifier IC के द्वारा कंट्रोल किया जाता है। इसमे Secondary Switching Circuit से एक तार आता है जो Amplifier IC को इंगित करता है कि Load घाट या बढ़ रहा है। इसके बाद ड्राइवर Switching के On-Off की प्रक्रिया को बढ़ा देता है, जो आगे Constant Speed में Voltage देता रहता है, जो कि +12, +5 ओर +3 वोल्टेज Supply करता है। पावर के इस मोड को Switching Mode Power Supply कहा जाता है।

SMPS कितने प्रकार के होते हैं?
काम और कार्यप्रणाली के आधार पर SMPS को AT SMPS, ATx SMPS ओर BABY SMPS से निर्धारित किया जाता है। इसमे AT ओर ATx एसएमपीएस को सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है।
चार भागों में बांटा गया है। AT का मतलब Advance Technology होता है और ATx का मतलब Advance Technology Extended होता है। ये एसएमपीएस चार टाइप के होते हैं।

Types of SMPS in Hindi
  1. DC to DC Convertor
  2. Forward Convertor
  3. Flyback Convertor
  4. Self-Oscillating Flyback Convertor

Power Connector of SMPS
किसी भी Motherboard को Power देने के लिए, SMPS Connector मौजूद होते हैं, जो Technology के आधार पर दो तरह के होते हैं, 20 पिन ओर 24 पिन। ये मदरबोर्ड को +12 वोल्टेज का करंट देते हैं। AT SMPS में 20 पिन वाला कनेक्टर लगता है, ओर ATx SMPS में 24 पिन वाला कनेक्टर लगता है। CPU को पावर देने के लिए 4 पिन का कनेक्टर इस्तेमाल होता है, जो AT ओर ATx में समान ही होता है। और ये 12 वोल्टेज की सप्लाई देता है। इसी तरह से एक कनेक्टर ओर होता है, जिसमे भी 4 पिन का इस्तेमाल होता है और इसे Hard Disk या CD, DVD RW को पावर देने के लिए लगाया जाता है। हो सकता है आने वाले समय मे SMPS में कुछ और तकनीकी बदलाव किए जाएं और इसकी क्षमता को भी बढ़ाया जाए।
 
Join us :
My Facebook:  Lee.Sharma
My YouTube: LS Home Design

हमारे और आर्टिकल यहाँ पढ़ें :




No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Featured Post

5G टेक्नोलॉजी के फायदे और नुकसान। Advantages and Disadvantages of 5G Technology.

जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी का विकास होता जा रहा है, टेक्नोलॉजी हमारे जीवन को समृद्ध बना रही है, इसके बहुत से फायदे होने के साथ ही कुछ नुकसान भी ...

Contact Form

Name

Email *

Message *

Advertisement

Post Top Ad