Skip to main content

रैम/RAM Generation कोनसी है, DDR1, DDR2, DDR3, DDR4 में क्या अंतर होता है?

दोस्तों नमस्कार, आज की इस पोस्ट में हम बात करने वाले हैं, रैम/RAM के बारे में, और रैम/RAM की Generation के बारे में जो की Computer और Mobile दोनों में यूज़ होती है। हमारे पिछले आर्टिकल में हमने रैम/RAM क्या होती है, और ये कितने प्रकार की होती है? के बारे में विस्तार से बताया था। अगर आप वो पढ़ना चाहते हैं दिए गए लिंक पर क्लीक करके पढ़ सकते हैं।
What is RAM Generation?

तो आइये अब बात कर लेते हैं हमारे आज के विषय की जो है, रैम/RAM की जनरेशन के बारे में कि रैम/RAM Generation कोनसी है, और उनमें क्या-क्या अंतर होता है? जब भी आप कोई नया कंप्यूटर या लैपटॉप खरीदते हैं या मोबाइल खरीदते है तो आपसे दुकानदार ये जरूर पूछता है की आपको किसी भी डिवाइस के लिए कितने GB की रैम/RAM चाहिए? तो आप उनको कैसे बताएंगे की आपको कोनसी रैम/RAM की जरुरत है, तो यहाँ मैं आपको बतादूँ की रैम/RAM की फ़िलहाल तक चार जनरेशन मौजूद हैं, जिनमे DDR 1, DDR 2, DDR 3, DDR 4 शामिल है। अब बात आती है ये DDR क्या है, दोस्तों DDR का मतलब होता है Double Data RAM और इनके साथ लगने वाले 1,2,3,4 इसकी Generation की पहचान है। अब इन सभी जनरेशन में क्या अंतर होता है वो मैं आपको पूरी तरह से समझा देता हूँ।  

What is RAM Generation in Hindi?
चलिए अब जान लेते हैं कि इन चारों प्रकार की रैम में क्या अंतर होता है, और इनमे सबसे बेहतर रैम कोनसी होती है?  जैसा की इनके नामों से ही पता चलता है कि DDR2, DDR1 से बेहतर है, DDR3, DDR2 से बेहतर है, और DDR4, DDR3 से बेहतर है। अब बात आती है कि किस कारण ये एक दूसरे से बेहतर होती हैं, और इसमें ऐसा क्या फर्क होता है? हर एक रैम की अपनी एक खासियत होती है, क्यूंकि इन सभी को एक अंतराल पर विशेष रूप से शोध के बाद बनाया जाता है, जैसे की जब DDR1 रैम आई थी तब वो अपने समय के हिसाब से बेहतरीन थी, लेकिन उसके बाद आयी DDR2 जिसमें और ज्यादा मेमोरी के साथ कुछ और अपडेट शामिल किये गए थे, बिलकुल इसी तरह DDR3 और  DDR4 को भी एक विशेष अंतराल के बाद कुछ नयी चीजों को इनमे शामिल कर बनाया गया, और इस तरह से रैम की हर एक जनरेशन एक दूसरे से बेहतरीन होती गई। रैम भी एक Electronics Component होता है, जिसमें Transistor लगे होते हैं, और हर जनरेशन में इन्ही ट्रांज़िस्टरों में कुछ बदलाव करके एक नई जनरेशन तैयार की जाती है। समय के साथ हर नई जनरेशन की रैम में Transistor का साइज छोटा होता जा रहा है और उसकी क्षमता बढ़ती जा रही है। और RAM की इसी बढ़ती क्षमता को ही Generation में विभाजित किया है, हो सकता है, कि आने वाले कुछ ही दिनों में DDR 5 Generation की रैम आपको बाजार में मिल जाये। 

RAM की हर जनरेशन हर कंप्यूटर सिस्टम के लिए अलग-अलग होती है, अगर हमारे पास पुराना कंप्यूटर सिस्टम है तो उसमे हमें DDR 2 RAM लगी मिलेगी, जो बिच की जनरेशन के कंप्यूटर हैं तो उनमे आपको DDR 3 RAM मिलेगी, और जो बिलकुल ही नयी जनरेशन के कंप्यूटर है, उन सभी में लगभग DDR 4 RAM ही आपको मिलती है। इसमें ऐसा भी नहीं है कि आपके सिस्टम में DDR 2 रैम है और आप इसे DDR 4 से Upgrade करना चाह रहे हैं तो ऐसा बिलकुल भी संभव नहीं है, क्यूंकि DDR 4 रैम को चलने के लिए उचित Structure वाले Motherboard की जरुरत होती है। हर जनरेशन की रैम का Slot अलग-अलग तरह का होता है, इसलिए कोई भी रैम एक दूसरे के स्लॉट में फिट नहीं बैठ सकती सिवाय उस जनरेशन की रैम के।   

कोई भी रैम अपना काम Data Transfer Rate के हिसाब से करती है, और सभी DDR 1, DDR 2, DDR 3, DDR 4 रैम की Data को Transfer करने की क्षमता अलग-अलग होती है। अब आपके जेहन में ये सवाल जरूर आया होगा की Data Transfer Rate क्या होता है?, तो चलिए मैं आपको एक उदहारण के माध्यम से समझा देता हूँ, मान लीजिये कि किसी रैम की Data Transfer Speed 6400 MBPS तो इसका मतलब ये ही कि वो RAM किसी भी डाटा को HARD DISK से CPU में भेजता है, तो वो 1 सेकेंड में 6400 MB DATA को या तो रिसीव कर सकता है, या सेंड कर सकता है। तो आइये निचे दी गयी तालिका के हिसाब से हर जनरेशन की RAM की Data Transfer Rate जान लेते हैं। साथ ही आपको ये भी ध्यान रखने की जरुरत होती है कि रैम अपना काम आपके कंप्यूटर हार्डवेयर के हिसाब से धीमी और तेज गति से कर सकती है। 

Version         Standard name    DATA Transfer Rate
DDR1           DDR-200              1600 MBPS
                     DDR-266              2.1 GBPS
                     DDR-333              2.6 GBPS
                     DDR-400              3.2 GBPS

DDR2          DDR2-400             3.5 GBPS
                    DDR2-533             4.2 GBPS
                    DDR2-667             5.3 GBPS
                    DDR2-800             6.4 GBPS
                    DDR2-1066           8.5 GBPS

DDR3         DDR3-1066            8.5 GBPS
                   DDR3-1333            10.6 GBPS
                   DDR3-1600            12.8 GBPS
                   DDR3-1866            14.9 GBPS

DDR4         DDR4 2133             17 GBPS
                   DDR4 2400             19.2 GBPS
                   DDR4 2666             21.3 GBPS
                   DDR4 3200             25.6 GBPS

तो दोस्तों आशा करता हूँ की रैम के बारे में आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आयी होगी। अगर इससे सम्बंधित आप कोई सलाह या सुझाव हमें देना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आप हमारे दूसरे आर्टिकल के लिए हमें सब्सक्राइब भी कर सकते हैं। आप हमें कमेंट करके बता भी सकते हैं कि आपको किसी विषय पर हमारी वेबसाइट पर जानकरी चाहिए, हम जल्द से जल्द वो जानकारी हमारी वेबसाइट पर आपके लिए उपलब्ध करने की कोशिश। हमारी इस जानकारी को दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद 
Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma
My YouTube : Home Design !deas

हमारे और आर्टिकल यहाँ पढ़ें :


Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…