Skip to main content

RAM क्या होती है, और ये कितने प्रकार की होती हैं? What is RAM, how many types of RAM are?

दोस्तों सबसे पहले तो आप सभी को मेरा प्यार भरा नमस्कार, जैसा की आप सभी को पता ही होगा की हम अपनी इस वेबसाइट पर Technology और Education से जुड़े आर्टिकल लिखते हैं, जो आप सभी के लिए बहुत ही काम के होते हैं। आज के इस आर्टिकल में हम जो जानकारी लाये हैं वो है RAM से सम्बंधित, कि RAM क्या होती है, ये कितने प्रकार की होती है, इसका काम क्या होता है? इत्यादि सभी जानकरी आपको हमारी इस पोस्ट में मिलेगी। RAM/Random Access Memory आप सभी ने जरूर सुना होगा, क्यूंकि जब भी आप कोई Computer या Mobile खरीदते हैं तो आपको दुकानदार ये जरूर पूछता है कि आपको कितने GB RAM में चाहिए। आपके किसी भी डिवाइस में अच्छी RAM का होना मतलब उसकी Performance का बढ़िया  बनाना, और अगर RAM छोटे या कम साइज की है तो आपके डिवाइस की Performance भी कम हो जाती है। यहाँ पर RAM से जुड़ी बहुत सी बाते और भी है जिनके बारे में हम आगे पुरे विस्तार से चर्चा करेंगे। 

What is RAM, Random Access Memory


रैम क्या है?What is RAM?  What is RAM in HINDI  
जैसा की मैं आर्टिकल के शुरुआत में भी बता चूका हूँ कि RAM को Random Access Memory कहते हैं, क्योंकि जब भी हम किसी भी Applications को चलते हैं तो वो डायरेक्ट RAM से ही Access या Run होते हैं, इसलिये RAM को Random Access Memory और Direct Access Memory भी कहा जाता है। जब भी हम किसी भी प्रोग्राम को Mobile या Computer पर चलाना चाहते हैं, तो वो सभी प्रोग्राम चलने से पहले RAM के अंदर अपनी जगह बनाकर Store रहते हैं, और जैसे ही हम इनको ओपन करते हैं ये Direct ही Open हो जाती है। RAM की Capacity का बड़ा या छोटा होना उसकी गुणवत्ता को कम या ज्यादा करता है। असल में RAM एक Volatile Memory होती है, जब तक हमारा System चालू रहता है तभी तक ये Application या Software को अपने अंदर Store रखती है, जैसे ही System बंद हो जाता है तो इसके अंदर Store हुई Application और Software फिर से फॉर्मेट हो जाते हैं, यानि इसके अंदर स्टोर डाटा गायब हो जाता है। आजकल RAM के बहुत से Version मौजूद हैं जैसे की DDR 1, DDR 2, DDR 3, DDR 4 इन सभी RAM के बारे में पूरी जानकारी हम आपको अलग से एक पोस्ट में देंगे, आज हम सिर्फ RAM क्या होती है, और ये कितने प्रकार की होती हैं? What is RAM, how many types of RAM are? के बारे में जानेंगे। 

RAM की विशेषताएं/Features of RAM           यहाँ पढ़ें: रैम की जनरेशन DDR 1,2,34

  • कंप्यूटर या मोबाइल की RAM में सभी Program/Application/Software इनस्टॉल होते हैं, और यहीं से ओपन होते हैं, बिना इसके हम किसी भी एप्लीकेशन पर काम नहीं कर सकते हैं।
  • यह मेमोरी कंप्यूटर या मोबाइल में सबसे ज्यादा USE होती हैं इसलिए इसे Working मेमोरी भी कहा जाता हैं।
  • किसी भी कंप्यूटर या मोबाइल का यह एक सबसे महत्वपूर्ण Part होती है, जितनी अधिक RAM हमारे सिस्टम में होगी, हमारा सिस्टम उतना ही अच्छा काम करता हैं, अगर हमारे सिस्टम में RAM कम होती है, तो सिस्टम की स्पीड कम हो जाती हैं, और कभी-कभी सिस्टम हैंग भी हो जाता है।
  • अगर अचानक से हमारे कंप्यूटर की Power सप्लाई फ़ैल हो जाये तो RAM  में मौजूद सारा डाटा गायब हो जाता हैं।
  • RAM की स्पीड Secondary Memory की तुलना में बहुत ज्यादा होती है।
  • किसी भी कंप्यूटर या मोबाइल में High Quality के Software या Program चलाने के लिए हमें ज्यादा बड़ी Capacity की RAM की जरूरत पड़ती है।
  • RAM सभी मेमोरी की तुलना में ज्यादा महँगी भी होती हैं।
  • RAM को कंप्यूटर की Working मेमोरी भी कहा जाता है। 


RAM के प्रकार/Types of RAM
RAM मुख्य रूप से दो प्रकार की होती हैं, एक है Static RAM और दूसरी है Dynamic RAM, अब इन दोनों में क्या अंतर होता है और दोनों में क्या-क्या खूबियां होती है, सभी जानकारी आपको आगे दे रहे हैं। इन्हे S RAM और D RAM के नाम से जाना जाता है। 

S RAM यानि Static RAM
जैसा की इसके नाम से ही पता चल रहा है कि यह एक Static Random Access Memory है, यानि की ये एक स्थिर मेमोरी होती है। Static RAM को काम करने के लिए लगातार Power Supply की आवश्यकता होती है। इस मेमोरी को कोई भी डाटा याद रखने के लिए बार-बार Refresh नहीं करना पड़ता। यह एक Volatile मेमोरी होती है, जो System के बंद होते ही या Power Supply के बंद होते है खुद ब खुद Refresh हो जाती है, यानि की इसके अन्दर मौजुद सारा डाटा गायब हो जाता है। 

S RAM की विशेषताएं/Features of S RAM 

  1. इस तरह की Memory काफी लम्बे समय तक चलती है। 
  2. इस तरह की Memory बहुत तेज होती है। 
  3. यह एक स्टेटिक मेमोरी हैं, इसलिये इसे बार-बार Refresh करने की जरुरत नहीं होती। 
  4. इसे कंप्यूटर सिस्टम में कैश मेमोरी/Cache Memory की जगह प्रयोग कर सकते हैं, क्यूंकि इसकी स्पीड बहुत ज्यादा होती है।
  5. इसमें बहुत कम बिजली प्रयोग होती है।
  6. इस टाइप की मेमोरी को बनाने के लिये मैनुफैक्चरिंग में ज्यादा खर्चा आता है, इसलिए ये काफी महंगी भी होती हैं।
  7. इसका Size बहुत ज्यादा होता हैं।


D RAM यानि Dynamic RAM
यह Dynamic Random Access Memory होती है, इसका काम S RAM से थोड़ा अलग है, इस RAM को डाटा को याद रखने के लिए बार-बार Refresh करना पड़ता है, इसका कारण ये है कि इस RAM में Capacitor होते हैं जो Power को धीरे-धीरे ख़त्म करते रहते हैं, और जैसे ही पावर ख़त्म होती है तो सारा डाटा भी ख़त्म हो जाता है। D RAM भी Volatile मेमोरी होती है।  

D RAM की विशेषताएं/Features of D RAM

  1. यह एक Dynamic मेमोरी हैं, इसलिये इसे बार-बार Refresh करनें की जरूरत पड़ती हैं।
  2. इसमें बहुत ज्यादा बिजली प्रयोग होती है।
  3. इस टाईप की मेमोरी को बनाने के लिये मैनुफैक्चरिंग में बहुत कम खर्चा होता हैं, इसलिए ये सस्ती होती हैं।
  4. यह SRAM से सस्ती होती है, व गति में काफी धीमी होती हैं।
  5. इस Dynamic Random मेमोरी का Size कम होता है।
  6. Dynamic मेमोरी को एक सामान्य मेमोरी के रुप में प्रयोग में ले सकते हैं।
  7. इसमें ज्यादा डाटा को स्टोर करने की क्षमता होती है।


Mobile की RAM और PC या Computer की RAM में अंतर।
Difference between Mobile RAM and PC or Computer RAM.

  • ज्यादातर Mobile Processor में LPDDR/Low Power Double Data Synchronous RAM का प्रयोग होता है, और Computer में PCDDR/Personal Computer Double Data Rate Synchronous RAM का प्रयोग होता है।
  • Mobile की RAM को Power Saving के हिसाब से डिज़ाइन किया जाता है, और कंप्यूटर की RAM को Performance बढ़ाने के लिए डिज़ाइन किया जाता है।
  • Mobile RAM को ARM Architecture का इस्तेमाल कर डिज़ाइन किया जाता है, और कंप्यूटर RAM को Intel's x86 Architecture के इस्तेमाल से डिज़ाइन किया जाता है। 

तो दोस्तों आशा करता हूँ की आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आयी होगी। अगर इससे सम्बंधित आप कोई सलाह या सुझाव हमें देना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आप हमारे दूसरे आर्टिकल के लिए हमें सब्सक्राइब भी कर सकते हैं। आप हमें कमेंट करके बता भी सकते हैं कि आपको किसी विषय पर हमारी वेबसाइट पर जानकरी चाहिए, हम जल्द से जल्द वो जानकारी हमारी वेबसाइट पर आपके लिए उपलब्ध करने की कोशिश। हमारी इस जानकारी को दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद 
Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma
My YouTube : Home Design !deas

हमारे और आर्टिकल यहाँ पढ़ें :

Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…