हार्डड्राइव या हार्डडिस्क क्या होती है? What is Hard Drive or Hard Disk and its main parts. - LS Home Tech

Home Top Ad

Post Top Ad

Monday, December 30, 2019

हार्डड्राइव या हार्डडिस्क क्या होती है? What is Hard Drive or Hard Disk and its main parts.

दोस्तों नमस्कार, हमारे वेब पोर्टल पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में मैं आपके लिए Internal Hard Disk जो की कंप्यूटर का ही एक Hardware होता है उसके बारे में विस्तार से जानेंगे। 
What is Hard Drive or Hard Disk and its main parts.

हार्डड्राइव या हार्डडिस्क क्या होती है? What is Hard Drive or Hard Disk in Hindi 
हार्ड डिस्क कंप्यूटर का बहुत ही महत्वपूर्ण पार्ट होती है जिसे HDD/Hard Disk Drive कहते हैं। हार्ड डिस्क या हार्ड ड्राइव एक डाटा स्टोरेज डिवाइस होती है, जिसमे कंप्यूटर का सारा डाटा ओर आपका पर्सनल डाटा सभी इसमे स्टोर कर सकते हैं। अगर हार्डवेयर की बात करें तो, हार्ड डिस्क एक तरह से कुछ डिस्कों/चकतियों का समूह होता है, जो आपके किसी भी प्रकार के Data को इलेक्ट्रोमग्नेटीकली/Electromagnetically रीड/Read और राइट/Write करती है और स्टोर/Store भी करती है। यह डाटा को Electromagnetically तरीके से एक गोलाकार डिस्क में संभाल कर रखती है। इसमें हर एक्शन/क्रिया के लिए रीड और राइट किये गए डाटा को स्टोर करने के लिए जिस जगह की जरुरत पड़ती है उसे सीक/Seek कहते हैं। किसी भी हार्ड डिस्क/Hard disk के अंदर जो गोल चक्तियाँ होती हैं उन्ही पर बने सेक्टर/सेक्टर में सारा डाटा स्टोर होता है, डाटा को रीड और राइट करने के लिए ये डिस्क/चक्तियाँ एक मोटर द्वारा घूमती है जिनकी घूमने की गति/Rotation Speed 4500 से 7200 RPM तक होती है। इन डिस्क के काम करने के समय को मिली/Mili सेकंड में मापा जाता है।


आजकल HDD की जगह SSD कार्ड भी ले रहे हैं, इन कार्ड की गति HDD से काफी ज्यादा होती है। SSD कार्ड के बारे में हम अपने अगले पोस्ट में विस्तार से बात करेंगे।   

हार्डड्राइव या हार्डडिस्क दो प्रकार की होती हैं।

  1. इंटरनल/Internal Hard Disk 
  2. एक्सटर्नल/External Hard Disk 
इंटरनल/Internal Hard Disk कंप्यूटर कैबिनेट में स्थाई/Permanent रूप से लगी रहती है, इसे आपको बार-बार हटाने या लगाने की जरूरत नहीं होतीं, इसे आप एक ही कंप्यूटर के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं, लगभग सभी कंप्यूटर का सारा व्यक्तिगत डाटा इन्ही में स्टोर होता है। इंटरनल हार्डडिस्क के अंदर ही आपके कंप्यूटर का ऑपरेटिंग/Operating सिस्टम मौजूद होता है, जो आपके कंप्यूटर को रन/Run करता है।

एक्सटर्नल/External Hard Disk मल्टीप्ल/Multiple कंप्यूटर के प्रयोग के लिए होती है। आजकल हमारे पास अपना कुछ पर्सनल/Personal डाटा होता है जिसे हम सदा अपने पास सहेज कर रखना चाहते हैं, जिनमे कुछ जानकारियां और जरुरी डॉक्यूमेंट/डॉक्यूमेंट होते हैं। इस अभी डाटा और जानकारियों को वैसे तो आप पेन ड्राइव/Pen Drive में भी रख सकते हैं लेकिन कई बार हमारा डाटा इतना ज्यादा होता है की वो पेन ड्राइव में नहीं आ पाता तो उसके लिए हम एक्सटर्नल/External Hard Disk का प्रयोग करते हैं। पेन ड्राइव की तरह ही इसे भी आप किसी भी कंप्यूटर के साथ डायरेक्ट USB केबल के माध्यम से जोड़ सकते हैं। आजकल External Hard Disk की स्टोरेज Capacity 500 GB/Gigabyte से लेकर 4 TB/Terabyte तक आसानी से मिल जाती हैं। 



इंटरनल/Internal हार्डड्राइव के ये चार भाग/Parts होते है,जिनके द्वारा आप इनकी पहचान कर सकते हैं। 

  • IDE/Integrated Drive Electronics Drive
  • SATA/Serial Advance Technology Attachment Drive
  • SCSI/Small Computer System Interface Drive
  • SAS/Serial Attached SCSI Drive

IDE/Integrated Drive Electronics Drive :
इन हार्डडिस्क को DE/Drive Electronic और PATA/Parallel Advance Technology Attachment Drive भी कहा जाता है। इनमे 40 पिन का कनेक्टर/Connector होता है। इसकी डाटा ट्रांसफर रेट/गति 133 MB/Megabyte प्रति सेकंड होती है। यह एक समय में 8 Bit डाटा को भेज सकती है। इस ड्राइव को कंप्यूटर मदरबोर्ड/Motherboard से जोड़ने के लिए PATA केबल का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें दो ड्राइव एक साथ जोड़े जा सकते हैं होस्ट और क्लाइंट की तरह। 

SATA/Serial Advance Technology Attachment Drive :
इस ड्राइव में 7 पिन का कनेक्टर/Connector होता है, जिनमे से 4 पिन 2 युग्म/जोड़े में काम करती है, जो एक पतले लाल रंग की केबल के साथ कंप्यूटर मदरबोर्ड/Motherboard के साथ कनेक्ट होती है। इसकी डाटा ट्रांसफर रेट/गति 300 MB/Megabyte प्रति सेकंड होती है। यह डाटा Bit के बाद Byte के फॉर्मेट से भेज सकती है। इसमें एक ही ड्राइव को जोड़ा जा सकता है। 

SCSI/Small Computer System Interface Drive :
SCSI केबल को SCSI हार्ड डिस्क को मदरबोर्ड/Motherboard से जोड़ने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसमें ज्यादातर 50 से 68 पिन मौजूद होती है। इसकी डाटा ट्रांसफर रेट/गति 640 MB/Megabyte प्रति सेकंड होती है। इसके साथ अधिकतम 16 ड्राइव जोड़े जा सकते हैं। 

SAS/Serial Attached SCSI Drive :
इसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा स्टोर करने के लिए किया जाता है, यह बाकियों से पावरफुल तच्नोलोग्य का यूज़ करती है। इसकी डाटा ट्रांसफर रेट/गति 805 MB/Megabyte प्रति सेकंड होती है। इसकी केबल के साथ हम अधिकतम 128 ड्राइव जोड़ सकते हैं। 

तो दोस्तो आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमें जरूर लिखे, आप पोस्ट के नीचे Comment Box  में अपनी प्रतिक्रियाएं ओर अगर कोई सुझाव है तो वो भी लिख कर भेज सकते हैं। साथ ही आप हमें हमारे द्वारा प्रकाशित नए लेख पढ़ने के लिए Subscribe भी कर सकते हैं।

Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma
My YouTube : Home Design !deas

हमारे द्वारा लिखित और आर्टिकल यहाँ पढ़ें :

No comments:

Post a Comment

Featured Post

5G टेक्नोलॉजी के फायदे और नुकसान। Advantages and Disadvantages of 5G Technology.

जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी का विकास होता जा रहा है, टेक्नोलॉजी हमारे जीवन को समृद्ध बना रही है, इसके बहुत से फायदे होने के साथ ही कुछ नुकसान भी ...

Contact Form

Name

Email *

Message *

Newsletter

Advertisement

Post Top Ad

Your Ad Spot