Skip to main content

आईपी एड्रेस क्या होता है/What is IP Address in Hindi

आईपी एड्रेस क्या है/What is IP Address in Hindi
अगर आप इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं, तो आपने जरूर IP Address का भी इस्तेमाल किया होगा। IP Address यानी Internet Protocol Address होता है, जैसा की इसके नाम से विदित होता है। आईपी एड्रेस Internet का Addressing System होता है, जिसके द्वारा Internet Communication संभव हो पाता है। Internet पर जब भी हम किसी Information को access करते हैं, तो वो Information हम तक इसी IP Address की सहायता से पहुंच पाती है, यह IP हमारे नेटवर्क कार्ड में Coded होते है। IP यानी Internet Protocol का मतलब यही है, की हम हम बिना किसी समस्या के Internet पर मौजूद सूचना का आदान-प्रदान कर पाएं। Protocol शब्द का तात्पर्य यहाँ पर ये होता कि Internet पर मौजूद सूचना के आदान-प्रदान में कोई बाधा ना हो।
IP Address kya hota hai?

IP address कैसे काम करता है/How IP Address work?
इंटरनेट पर हम किसी भी डाटा को Access किसी Server से करते हैं, इसमे जब हम Computer पर या एक Server से दूसरे Server पर सूचना भेजते हैं तो, ये उस आने और जाने वाली सूचना या डाटा को छोटे-छोटे टुकड़ों में विभक्त कर देता है, जिसे Packet के नाम से जाना जाता है। भेजे जाने वाले प्रत्येक पैकेट पर उसके भेजने वाले के नाम(Server/Computer) के साथ, जहां उसे जाना होता है, उस जगह का Address दिया होता है, जिससे वो डाटा या सूचना आसानी से सही पते पर पहुंचती है। यहां आपको ये बतादें की जो सूचना छोटे पैकेट के रूप में हमारे पास आ रही है या भेजी जा रही होती है, अपने सही पते पर जाने से पहले, Network Card में स्थित IP में जाकर एक पूर्ण सूचना बन जाती है, ओर हमे स्क्रीन पर दिखाई देती है।

आईपी एड्रेस के प्रकार/Types of IP Address.
IP Address के कई प्रकार होते हैं, जिनका इस्तेमाल अलग-अलग कामों के लिए अलग-अलग तरीके से होता है। आइये इन सभी के बारे में जान लेते है:
1. Private IP Address 
2. Public IP Address
Static IP Address
Dynamic IP Address 

Private IP Address: इस आईपी एड्रेस का इस्तेमाल किसी भी Device को Router ओर दूसरे Device के साथ Communicate करने के लिए किया जाता है। किसी भी Private Network के अंदर इसे प्राइवेट आईपी एड्रेस को Manually तरीके से Set या Assign किया जाता है।

Public IP Address: ये Main IP Address होते हैं, जिसे दुनियाभर के Device में Network Communication के लिए इस्तेमाल किया जाता है। पब्लिक आईपी एड्रेस को ISP यानी Internet Service Provider द्वारा Assign किया जाता है। जब भी हम अपने Mobile द्वारा कोई Request भेजते हैं तो, वो सीधे ISP के पास जाती है, ओर ISP उसे उसके सही पते पर भेजता है।

उपरोक्त दोनों तरह के आईपी एड्रेस Dynamic भी हो सकते हैं, और Static भी हो सकते हैं।

Dynamic IP Address: ये आईपी एड्रेस निरंतर बदलते रहते हैं। जब कभी भी हम इंटरनेट Access करते हैं, तो इसे ISP द्वारा Assign कर दिया जाता है।

Static IP Address: ये आईपी एड्रेस कभी भी नहीं बदलते, यानी निरंतर स्थिर रहते हैं।

आईपी एड्रेस के वर्ज़न/Version of IP Address
आईपी एड्रेस के अभी तक दो वर्जन ही प्रचलन में है, IPv4 ओर IPv6, जिनका इस्तेमाल कम्युनिकेशन के लिए किया जाता है।

IPv4/IP version 4: ये IP का चौथा वर्ज़न है, जिसे Mobile Communication के लिए प्रयोग किया जाता है। इसका साइज 32 Bit होता है। IPv4 केवल 4 Billion एड्रेस को Support करता है। कहने का मतलब ये है कि इसके द्वारा 4 Billion डिवाइस को Address प्रदान किया जा सकता है। इसका कोड 192.169.0.1 होता है।

IPv6/IP version 6: बढ़ते डिवाइस ओर IP Address की मांग के कारण, इस वर्जन को जारी किया गया है। इसका साइज 128 Bit होता है, जो कि IPv4 से चार गुना ज्यादा Address जनरेट कर सकता है। जैसे-जैसे Communication Devices बढ़ते जा रहे थे, वैसे-वैसे ही IP Address की कमी भी महसूस होने लगी थी, क्योकि Mobile ,Computer आदि को Communicate करने के लिए इन IP Address की जरुरत होती है, इसी समस्या को दूर करने के लिए IPv4 के नए Version IPv6 को Devolpe किया गया।

तो दोस्तों आशा करता हूँ की आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी "आईपी एड्रेस क्या होता है/What is IP Address in Hindi"पसंद आयी होगी। अगर इससे सम्बंधित आप कोई सलाह या सुझाव हमें देना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आप हमारे दूसरे आर्टिकल के लिए हमें सब्सक्राइब भी कर सकते हैं। आप हमें कमेंट करके बता भी सकते हैं कि आपको किसी विषय पर हमारी वेबसाइट पर जानकरी चाहिए, हम जल्द से जल्द वो जानकारी हमारी वेबसाइट पर आपके लिए उपलब्ध करने की कोशिश। हमारी इस जानकारी को दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद 


Join us :
My Facebook:  Lee.Sharma


Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…