Skip to main content

कंप्यूटर की-बोर्ड और उसके सभी बटन की जानकारी। Computer Key-Board and buttons full information in Hindi

प्रिय पाठकों नमस्कार, हमारे इस वेब पोर्टल पर आपका स्वागत है, इस Portal पर हम Technology ओर Education से जुड़े आर्टिकल लिखते है, जो सामान्य ज्ञान और किसी भी परीक्षा की तैयारी हेतु आपके लिए बड़े ही उपयोगी और ज्ञानवर्धक होते हैं। आज के इस आर्टिकल में हम कंप्यूटर कीबोर्ड की पूरी जानकारी देंगे, इसलिए आपसे अनुरोध है कि हमारी इस पोस्ट को पूरा पढ़ें और दोस्तों के साथ शेयर करें। 
Computer Key-Board and buttons full information in Hindi

कंप्यूटर की-बोर्ड/Key-Board/Keyboard  किसी भी कंप्यूटर का सबसे महत्वपूर्ण उपकरण होता है। इस उपकरण के माध्यम से हम कंप्यूटर के अंदर डाटा और सूचनाएं डाल सकते हैं, इसके कुंजी या बटन को की/Key भी कहा जाता है। इसके द्वारा कोई भी सुचना  Input की फ़ोरम में डालते हैं। इस उपकरण में टाइपराइटर/Typewriter की तरह बहुत से कुंजियाँ/Buttons  होती है, इन सभी कुंजियो/Buttons पर विभिन्न प्रकार के चिन्ह/Symbol और अक्षर/Character छपे होते हैं। इन्ही कुंजियों/Buttons को दबाकर कंप्यूटर के अंदर शब्द, संख्याएँ और चिन्ह टाइप किये जाते है। इन सभी कुंजियो के उपर छपे चिन्हों/Symbols से पहचाना जाता है की कोई कुंजी/Button किस कार्य के लिए है। आइये जानते हैं एक-एक करके इन सभी कुंजियों/Buttons के बारे में।

कंप्यूटर की-बोर्ड और उसके सभी बटन की जानकारी। Computer Key-Board and buttons full information in Hindi
कीबोर्ड दो प्रकार के होते हैं : सिंपल/Simple Keyboard और मल्टिमीडिआ/Multimedia Keyboard. 
सिंपल या सामान्य कीबोर्ड का प्रयोग सामान्य काम के लिए किया जाता है। जबकि मल्टीमीडिया कीबोर्ड का प्रयोग कुछ Advance कार्यों के लिए Shortcuts के रूप में किया जाता है।    

फंक्शन/Function Keys :- सामान्य कीबॉर्ड में ये Keys सबसे ऊपर की लाइन में होती हैं। जबकि मल्टीमीडिया कीबोर्ड में ये सभी Keys मल्टीमीडिया Keys के निचे वाली लाइन में होती है। फंक्शन/Function Keys हमेशा अलग-अलग Program या Software के हिसाब अलग-अलग आदेश अनुसार पहले से Define की गई होती है। किसी भी Function Key से कार्य लेने के लिए बस उसे दबाना होता है, और ये अपना काम कर देती है। कंप्यूटर Keyboard में F1 से लेकर F12 तक कुंजियाँ होती हैं। उदहारण के लिए F1 बटन का प्रयोग उस वक़्त चल रहे प्रोग्राम से सम्बंधित Help के लिए किया जाता है।

एस्केप/Escape Key :- इस के का प्रयोग किसी भी प्रोग्राम को Cancel/निरस्त करने या उससे बाहर निकलने ले लिए किया जाता है। यह Key/बटन Function Keys वाली लाइन में सबसे पहले होती है।  

नंबर/Number Keys :- कीबोर्ड में ऊपर से दूसरी पंक्ति में Number keys होती हैं। इन सभी Keys के ऊपर 0 से 9 तक अंक छपे हुए होते हैं। कंप्यूटर के अंदर किसी भी प्रकार की संख्या लिखने के लिए इन्ही Keys का इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा भी कीबॉर्ड से संख्याएं लिखने के लिए दाईं तरफ Numeric keys दी होती हैं, जिनसे भी हम संख्याएँ लिख सकते हैं। आइये इसके बारे में भी जान लेते हैं। 

न्यूमेरिक/Numeric Keypad :- यह बटन सेट कीबोर्ड के दाईं और निचे की तरफ संख्या युक्त Buttons/Keys का समूह होता है। इसके द्वारा संख्यात्मक डाटा तैयार किया जाता है। आप इसे कैलकुलेटर/Calculator की तरह इस्तेमाल कर सकते है। इसके द्वारा हम दाएं हाथ से संख्यात्मक डाटा टाइप कर सकते हैं। इस Keypad को Active करने के लिए Num-Lock/NumLK बटन को दबाया जाना आवश्यक होता है। 

अल्फाबेट/Alphabet Keys :- इन सभी Keys के ऊपर English के अक्षर छपे होते हैं। इन्ही Keys से आप अन्य भाषा भी लिख सकते हैं। किसी भी एक Key को दबाने या Press करने पर कंप्यूटर के अंदर एक अक्षर बनता है। इसे Shift बटन के साथ दबाने पर वही अक्षर Capital छप जाता है। 

कर्सर कण्ट्रोल बटन/Cursor Control Keys :- ये चार बटन या Keys होती हैं जिन पर दाएं-बाएं, ऊपर-निचे तीर/Arrow के निशान बने होते हैं। इन Keys के माध्यम से से कर्सर/कर्सर को बिना माउस के कण्ट्रोल किया जा सकता है। इनमे से किसी भी बटन को दबाने पर Cursor उस बटन पर बने तीर की दिशा में चला जाता है। इसी तरह दूसरे सभी बटन से कर्सर ऊपर-निचे भी जायेगा। लिखते समय इन Keys का इस्तेमाल बहुत ज्यादा होता है।  

Cursor Control Keys के उपर चार और Keys होती है जो अक्सर लम्बी लिखाई के वक़्त काम में आती है। 

  1. HOME :- Home key, Cursor को लाइन के शुरू में ले जाती है। 
  2. END :- End key, Cursor को लाइन के अन्त/आखिर में ले जाती है। 
  3. PAGE-Up :- यह बटन Cursor को एक Page आगे ले जाता है। 
  4. PAGE-Down :- यह बटन Cursor को एक Page पीछे ले जाता है। 
एंटर/Enter key :- यह Key कंप्यूटर कीबोर्ड की सबसे महत्वपूर्ण Key होती है। इसे कंप्यूटर में OK Key के रूप में लिया जाता है। एंटर बटन का मतलब होता है की आप किस भी डाटा को प्रोसेस करने की अनुमति देते हैं। इस Key का प्रयोग लगभग हर एक काम के लिए किया जाता है। लिखते समय नया Paragraph शुरू करने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। किसी भी प्रोग्राम को अंतिम रूप देने या परिणाम पाने के लिए भी इसी Key/Button का प्रयोग किया जाता है।



कण्ट्रोल/Ctrl/Control key :- ये वो Keys होती हैं जो किसी दूसरी Keys के साथ मिलकर कुछ विशेष कार्य करती हैं। इन Keys का काम विभिन्न Software के हिसाब से बदलता रहता है। कीबोर्ड के अंदर ये दो Keys होती हैं। किसी भी फाइल को Save, Open, New File या Copy-Paste करने के लिए इसी Key का इस्तेमाल होता है। 

शिफ्ट/Shift key :- आपने देखा होगा की Keyboard में दाएं और बाएं तरफ एक-एक Shift बटन या Key होती है। शिफ्ट का काम होता है बदलना वो किसी भी Key को बदल सकता है, अगर Keyboard से सीधे ही कोई बटन दबाते हैं तो स्क्रीन पर वही अक्षर छपता है। इसे इस तरह से समझ सकते हैं - मान लीजिये हमने कीबोर्ड से 4 नंबर दबाया है तो स्क्रीन पर 4 ही अंकित होगा, वहीँ अगर हम इसी बटन को Shift key के साथ दबाते हैं तो 4 की जगह $ का निशान अंकित होगा। इसी तरह कसी भी अक्षर को भी हम Shift बटन से बिना Caps Lock ऑन किये Upper-case या Lower-case में बदल सकते हैं। किसी भी भाषा को लिखते समय हम अक्षरों या चिन्हों के प्रयोग के लिए Shift बटन का इस्तेमाल करते हैं।   

आल्टर/Altr keys :- ये Keys भी कीबोर्ड पर दो होती हैं, इनका इस्तेमाल ज्यादातर Shortcut Command को प्रयोग करने के लिए अलग-अलग Software के हिसाब से अलग-अलग तरिके से किया जाता है। Alt+F4 बटन दबाने पर आप सीधे हो कंप्यूटर को Shut-Down कर सकते हैं। 

कैप्सलॉक/Caps Lock key :- यह एक प्रकार का Toggle बटन होता है, जो एक बार दबाने पर सक्रिय और दूसरी बार दबाने पर निष्क्रिय हो जाता है। इस बटन को दबाने पर सभी अक्षर/Character बड़े यानि Upper-Case/Capital में लिखे जायेंगे। इसे फिर से दबाने पर यह निष्क्रिय हो और अक्षर Lower-Case/Small लिखे जाते हैं।  

बैकस्पेस/Back Space key :- इस बटन पर भी एक बाएं तरफ मुँह किये तीर का निशान बना होता है। यह Key लिखते वक़्त किसी भी अक्षर को मिटने के लिए प्रयोग की जाती है। इंटरनेट पर इसे Return Key के नाम से जाना जाता है। 

नमलॉक/Num Lock key :- यह भी एक प्रकार का Toggle बटन होता है, न्यूमेरिक/Numeric Keypad को ऑन-ऑफ करने के लिए इसी Key का इस्तेमाल किया जाता है। इस बटन के ऑफ रहने पर Numeric Keypad कर्सर कण्ट्रोल Keys की तरह ही काम करता है। 

टैब/Tab key :- टैब/Tab यानि Tabulator Key जो की टाइप करते वक़्त एक बार दबाये जाने पर कर्सर/Cursor को Space-Bar के मुकाबले अधिक दुरी तक ले जाता है। Tab बटन की मदद से आप कंप्यूटर स्क्रीन पर एक Dialogbox से दूसरे Dialogbox पर जम्प कर सकते हैं। 

स्पेसबार/Space Bar :- यह Keyboard का सबसे लम्बा बटन होता है। लिखते समय किन्ही भी दो शब्दों या अक्षरों के बिच खाली जगह देने के लिए Space-Bar या Space बटन का इस्तेमाल किया जाता है। 

डिलीट/Delete key :- यह Key बैकस्पेस बटन के बिलकुल ऊपर होती है जिसका काम किसी भी लिखित सामग्री या अन्य प्रोग्राम/डाटा इत्यादि को डिलीट/Delete या मिटाने/Erase के लिए किया जाता है। 

प्रिंट स्क्रीन/Print Screen key :- इस Key का इस्तेमाल अक्षर स्क्रीन पर चल रहे प्रोग्राम का स्क्रीनशॉट/Screenshot लेने के लिए किया जाता है। आप इस Key के इस्तेमाल से उस प्रोग्राम से स्क्रीनशॉट को प्रिंट भी कर सकते हैं, आप चाहे तो उसे सेव भी कर सकते हैं।  

पॉज/Pause key :- यह Key कीबोर्ड के उपर दाएं तरफ ऊपर की और होती है। इस बटन से आप अस्थ्याई तोर पर चल रहे प्रोग्राम को रोक सकते हैं। इसी बटन को दोबारा दबाने पर फिर से Program चलने लगता है। ज्यादातर Computer गेम/Game को चलते वक़्त बिच में रोकने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। 

स्क्रॉल लॉक/Scroll Lock key :- यह बटन/Button कीबोर्ड के उपर पॉज/Pause key के पास ही स्थित होता है।  यह किसी भी टेक्स्ट/Text या रन कर रहे प्रोग्राम के Scroll को अस्थ्यायी रूप से एक जगह पर स्थिर कर देता है।  फिर से Program के स्क्रॉल को सक्रिय करने के लिए इसी बटन का इस्तेमाल दोबारा करना पड़ता है। 

तो दोस्तो आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमें जरूर लिखे, आप पोस्ट के नीचे Comment Box  में अपनी प्रतिक्रियाएं ओर अगर कोई सुझाव है तो वो भी लिख कर भेज सकते हैं। साथ ही आप हमें हमारे द्वारा प्रकाशित नए लेख पढ़ने के लिए Subscribe भी कर सकते हैं।


Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma






Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…