Skip to main content

Bitcoin/बिटकॉइन क्या है? जाने सम्पूर्ण जानकारी। What is Bitcoin? full information.

दोस्तो आज की इस पोस्ट में हम इन्टरनेट पर चलित एक ऐसी करेंसी/मुद्रा की बात करने वाले हैं जिसे हम छू नहीं सकते, बल्कि वर्चुअल तरीके से इसका इस्तेमाल कर सकते हैं, इसे खरीद ओर बेच सकते हैं। आपने नाम तो जरूर सुना होगा बिटकॉइन/Bitcoin, आखिर क्या है ये बिटकॉइन! इससे संबंधित आप के मन में बहुत से सवाल हो सकते हैं। तो बने रहिए हमारे साथ, इस पोस्ट में हम आपको इसके बारे मे पूरी जानकारी देंगे। 
Bitcoin/बिटकॉइन क्या है?

आज के दौर में Internet के बदौलत हम सभी की ज़िन्दगी सरल और सहज हो गयी है। आप इंटरनेट से किसी भी प्रकार की जानकारी पाने के साथ-साथ घर बैठे शॉपिंग, टिकट बुकिंग भी कर सकते हैं। आज ऐसा वक़्त है जब आप internet की मदद से भी बहुत पैसे कमा सकते हैं। यहाँ पर बहुत सारे तरीके हैं जिससे आप घर बैठे ही internet की मदद से पैसे कमा सकते हैं। पैसे कमाने के इन्ही तरीको में से एक तरीका है Bitcoin जिसकी वजह से हम बहुत सारे पैसे कमा सकते हैं। अब ये बिटकॉइन क्या है और इससे हम पैसे कैसे कमा सकते हैं, तो चलिए आपको बताते हैं।

बिटकॉइन/Bitcoin क्या है? 
What is Bitcoin in Hindi?
बिटकॉइन/Bitcoin दरअसल एक virtual currency है।जिसका इस्तेमाल हम केवल इंटरनेट पर ही कर सकते हैं। वैसे तो इसका काम भी बाकी कररेन्सियों/मुद्राओं जैसा ही है। लेकिन बिटकॉइन एक डिजिटल करेंसी है। बाकि की सभी currencies मौलिक रूप में हमारे पास होती है जिसे हम छू सकते हैं जैसे Rupee, Dollar, Pound इत्यादि। बिटकॉइन बाकि सभी currencies से बिलकुल अलग है क्यूंकि Bitcoin को हम सिर्फ के इन्टरनेट पर ही देख सकते हैं। इस करेंसी को हम पैसों की तरह छू नहीं सकते हैं। साथ ही Bitcoin को हम सिर्फ online wallet में store करके रख सकते हैं। 

बिटकॉइन/Bitcoin का अविष्कासर किसने किया?
बिटकॉइन/Bitcoin का आविष्कार सातोशी नकामोटो/Satoshi Nakamoto नामक एक चाइनीज व्यक्ति ने साल 2009 में किया था। इसे अविष्कार के बाद से  से ही इसकी लोकप्रियता बढती जा रही है। Bitcoin असल मे एक decentralized currency है, जिसका मतलब ये है की इसे control करने के लिए कोई भी bank या authority या सरकार नहीं है। कहने का मतलब ये है कि इसका कोई मालिक नहीं है। जिस प्रकार इंटरनेट का कोई मालिक नहीं है उसी तरह से बिटकॉइन का भी कोई मालिक नहीं है। जिस प्रकार हम इंटरनेट का इस्तेमाल करते उसी प्रकार से Bitcoin का इस्तेमाल कोई भी कर सकता है।


बिटकॉइन/Bitcoin का प्रयोग कैसे ओर कहाँ किया जाता है?
बिटकॉइन/Bitcoin का प्रयोग हम online payment करने के लिए या किसी भी तरीके का ऑनलाइन transactions करने के लिए कर सकते हैं। Bitcoin असल मे peer to peer network के बेस पर काम करता है। peer to peer का मतलब ये है की लोग एक दुसरे के साथ सीधा ही बिना किसी थर्ड पार्टी के या बिना किसी bank, credit card या फिर किसी company के माध्यम से आसानी से transactions सकते हैं। Bitcoin को transactions में प्रयोग करने के लिए सबसे तेज़ और सही तरीका माना जाता है। आजकल बहुत से देशों में लोग Bitcoin करेंसी को अपना रहे हैं। globel पेमेंट के लिए बिटकॉइन सबसे अच्छा तरीका है। ज्यादातर online developers, entrepreneurs, non-profit organisations इत्यादि इसका इस्तेमाल सबसे ज्यादा करते हैं।


Bitcoin की कीमत/Value कितनी है?
बिटकॉइन/Bitcoin की value आप मौजूद समय मे जानने के लिए इंटरनेट पर देख सकते हैं, क्योंकि इसकी वैल्यू हमेशा कम या ज्यादा होती रहती है। लेकिन फिर भी हम आपको बता देते हैं कि आज के दिन एक बिटकॉइन की कीमत करीबन 999 डॉलर है, यानी एक Bitcoin की कीमत भारतीय मुद्रा के हिसाब से करीबन 65,000 से 70,000₹ हो जाती है। इसकी वैल्यू काम या ज्यादा इसके इस्तेमाल की वजह से होती रहती है, अगर इसकी डिमांड ज्यादा हो तो वैल्यू ज्यादा हो जाती है।


बिटकॉइन/Bitcoin करेंसी की तय सीमा कितनी है?
किसी भी देश में उसकी मुद्रा/Currency को छपने की एक तय सीमा होती है। ठीक उसी प्रकार से बिटकॉइन/Bitcoin की भी तय सीमा है। अब तक बिटकॉइन की तय सीमा के अनुसार 21 मिलियन/Million से ज्यादा bitcoin market में नहीं आ सकते। 21 मिलियन से ज्यादा बिटकॉइन कभी भी और किसी भी हालत में ऑनलाइन मार्किट में  जायेंगे। अभी तक ऑनलाइन मार्किट में करीबन 13 मिलियन bitcoin आ चुके हैं। इसके बाद के सभी बिटकॉइन माइनिंग के जरिये ही आएंगे। 

बिटकॉइन/Bitcoin वॉलेट/Wallet क्या है? Hindi
जैसा कि हम आपको बता चुके हैं कि Bitcoin को हम सिर्फ electronically store करके ही रख सकते हैं। बिटकॉइन को रखने के लिए आपको bitcoin wallet की जरुरत होती है। बिटकॉइन वॉलेट काफी प्रकार के होते हैं जैसे की Desktop wallet, Mobile wallet, Online या web-based wallet इनमें से किसी भी  एक wallet का इस्तेमाल करके हम इसमें अपने बिटकॉइन रख सकते हैं। ये सभी wallet हमें Address के रूप में हमें unique id उपलब्ध करवाते हैं।अगर आपने कहीं से कोई bitcoin कमाया है और उसको आपको अपने account या wallet में store करना चाहते हैं तो आपको उस वॉलेट को ओपन करने के लिए उस यूनिक address की जरुरत पड़ेगी जो आपको उस वॉलेट में एकाउंट बनाने पर मिला होगा। बिटकॉइन Wallet की मदद से ही आप bitcoin को खरीद या बेच भी सकते हैं। आप जो bitcoin बेचते हैं उसके बदले में आपको जितने भी पैसे मिलते हैं वो आप अपने bank account में भी transfer bitcoin wallet के जरिये ही करवा सकते हैं।


बिटकॉइन/Bitcoin इस्तेमाल का रिकॉर्ड कहाँ रहता है?
जैसा कि हम ऊपर बात कर चुके हैं कि बिटकॉइन का कोई मालिक नही है तो हमारे द्वारा कमाए गए या इस्तेमाल किये गए बिटकॉइन का रिकॉर्ड को रखता है।जिस प्रकार से हम किसी भी बैंक से ऑनलाइन ट्रांसेक्शन करते हैं तो उसका सारा रिकॉर्ड उस बैंक के पास रहता है। बैंक रिकॉर्ड से ही हम ये पता लगा सकते हैं कि हमने कब और कितने पैसे कहाँ इस्तेमाल किये। लेकिन यहां Bitcoin का तो कोई भी मालिक नहीं है, इसलिए उसके साथ किये गए हर transactions का रिकॉर्ड एक public ledger/खाते में रहता हैं। इस लेजर को bitcoin “blockchain” कहते हैं। इसमे हमारे द्वारा bitcoin के साथ किये गए किसी भी बिटकॉइन  transactions details store हो जाती है। इसमे blockchain ही केवल इसका प्रमाण होता है की बिटकॉइन से कब और कितना transaction हुआ है।


बिटकॉइन/Bitcoin कैसे कमा सकते हैं? in Hindi
देखिए बिटकॉइन/Bitcoin को कमाने के हम तिन तरीकों के बारे में बात करेंगे।
पहला तरीका: अगर आपके पास पैसा है तो आप एक bitcoin सीधे 999 डॉलर देकर खरीद सकते हैं। जरूरी नहीं है की आपको एक bitcoin ही खरीदना है, तो आपको पुरे के पुरे 999$ देने होंगे। आप चाहे तो bitcoin की सबसे छोटी unit जिसे “satoshi” कहा जाता है, सातोशी बिटकॉइन की ही एक छोटी इकाई होती है, इसे भी खरीद सकते हैं। जैसे की 1₹ में 100 पैसे होते हैं, ठीक उसी तरह 1 bitcoin में 10 करोड़ satoshi होते हैं। आप bitcoin की सबसे छोटी इकाई/रकम satoshi खरीद कर धीरे धीरे जोड़कर 1 या उससे ज्यादा bitcoin जमा कर सकते हैं। धीरे-धीरे करके  जब आपके पास ज्यादा bitcoin जमा हो जाएं तो आप कीमत बढ़ने पर उनको बेच भी सकते हैं।

दूसरा तरीका : यदि आप online किसी को कोई भी सामान बेच रहे हों और वो खरीददार बदले में आपको बिटकॉइन देना चाहे तो आप उससे व्व बिटकॉइन ले सकते हैं। इस तरीके से  आपका सामान भी बिक जाएगा ओर आपको bitcoin भी मिल जायेगा। जब तक आप उसे प्रयोग नहीं करेंगे वो आपके bitcoin wallet में store रहेगा। आप अगर चाहे तो बाद में उस bitcoin को ज्यादा कीमत में बेच कर मुनाफा भी पा सकते हैं।

तीसरा तरीका : ये तरीका है बिटकॉइन/Bitcoin mining का। इसके लिए आपको एक तीव्र गति प्रोसेसर/high speed processor वाले एक computer की जरुरत होगी। इस कंप्यूटर का hardware भी काफी अच्छा होना चाहिये। जैसा कि हम बता चुके है कि bitcoin का इस्तेमाल केवल online payment करने के लिए ही करते हैं, और जब कोई भी bitcoin से payment करता है तो उसके द्वारा किये गए transaction को verify किया जाता है। जिस माध्यम से बिटकॉइन को verify करते हैं, उन्हें miners कहते हैं। किसी भी miners के पास high performance computer और GPU होता है। इसके जरिये ही कोई भी miners किसी भी transactions को verify करता है की जो ट्रांजेक्शन हुआ है वो सही है या गलत। इसमे किसी प्रकार की कोई हेरा-फेरी तो नहीं कि गई। उनके द्वारा की गई इस verification के बदले उन्हें कुछ bitcoins इनाम के तौर पर मिल जाते हैं।


बिटकॉइन/Bitcoin प्रयोग करने के फायदे क्या हैं?

  • बिटकॉइन से आपका Transaction फीस Credit card या Debit card से Payment करने के मुकाबले बहुत ही कम होता है। 
  • बिटकॉइन/Bitcoin को आप पूरी दुनिया में कहीं भी और कभी भी बिना किसी परेशानी के भेज सकते हैं।  
  • आपका बिटकॉइन Account कभी बंद या ब्लॉक नहीं होता। जैसे कभी किसी कारण से बैंक हमारे Credit या Debit card को Block कर देता है। 
  • अगर आप सोने-चाँदी की तरह बिटकॉइन में इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो आप बेशक कर सकते हैं। आने वाले समय में इससे आपको काफी फायदा हो सकता है। बिटकॉइन के रेटों में गिरावट कम ही देखने को मिलती है। 
  • बिटकॉइन के  कितना ही भी पैसा प्रयोग कर सकते हैं क्यूंकि Bitcoin की Transaction process में कोई सरकार या Authority आपके ऊपर नज़र नहीं रखती है।  
  • बहुत से लोग हैं जो इसका इस्तेमाल अनुचित काम करने के लिए भी करते हैं, ये उन लोगों के लिए फायेदमंद होता है। 

बिटकॉइन/Bitcoin प्रयोग करने के नुकसान क्या हैं?

  • बिटकॉइन को कण्ट्रोल करने के लिए कोई सरकार या अन्य कोई Authority इसके पीछे नहीं है। इसलिए बिटकॉइन के दामों में उतर-चढाव आता रहता है। इसी कारण से बिटकॉइन खरीदना थोड़ा रिस्की सा हो सकता है। 
  • बिटकॉइन अकाउंट को अगर कोई हैक करले तो आपके सारे बिटकॉइन जा सकते हैं, और आप कहीं से कोई मदद भी नहीं ले सकते।  इसलिए बिटकॉइन अकाउंट को अपडेट करते रहे। लम्बे समय तक इसे न छोड़ें।  

बिटकॉइन/Bitcoin कहाँ से खरीदें? How to Buy Bitcoin ?
हम भारत में बिटकॉइन को सोने-चाँदी के जैसे ही खरीद सकते हैं भारतीय मुद्रा/currency क बदले। तो आइये जान लेते है की कैसे और कहाँ से हम इन्हे खरीद सकते हैं। Unocoin और Zebpay वेबसाइट से आप बिटकॉइन खरीद सकते हैं। 

Unocoin एक ऐसी वेबसाइट है जिस पर आप बिटकॉइन खरीद भी सकते हैं और बेच भी सकते हैं। यह एक User friendly वेबसाइट है जिसका इस्तेमाल कोई भी आसानी से कर सकता है। 

Unocoin द्वारा ग्राहक को दी जाने वाली सेवाएं :

  • अगर आप Unocoin इस्तेमाल करते हैं तो आपको कोई Charge बैक देने की आवश्यकता नहीं होती। 
  • आप यहाँ पर कभी भी और किसी भी वक़्त अपने Bitcoin बेच सकते हैं। मौजूदा दाम के हिसाब से। इसमें आपको 0% Volatility Risk होता है। 
  • भुगतान विधि के रूप में Bitcoin को स्वीकार करने के लिए Unocoin ग्राहकों को कोई भी शुल्क नहीं लेता है। यानि 0% फीस। 
  • आप बड़ी आसानी से अपना कोई भी बिजनेस Unocoin के साथ integrate कर सकते हैं। 
  • आप अपना Bitcoin address खुद तैयार कर सकते हैं जिसे की कोई भी पढ़ सकता है, इसमें आप 2 step Authentication से ज्यादा security पा  सकते हैं। 

ZebPay द्वारा ग्राहक को दी जाने वाली सेवाएं :
Zebpay भी एक बहुत ही यूजर फ्रेंडली website है जिससे आप आसानी से bitcoin खरीद सकते हैं। Zebpay की पहुँच Unocoin के मुकाबले बहुत सारे vendors के साथ है, जिससे की ये आपको ज्यादा सुविधा प्रदान करती है। 
आप Zebpay का इस्तेमाल मोबाइल आप से भी कर सकते हैं। 
बिटकॉइन खरीदने का सबसे अच्छा सिक्योर और फ़ास्ट तरीका आपको जेबपे ही प्रदान करती है। 
आप Zebpay की मदद से अपने मोबाइल और DTH को भी रिचार्ज कर सकते हैं। 
इसमें आप Amazon, Flipkart और MakeMyTrip के voucher खरीद सकते हैं, जिससे की आप10% तक बचत कर सकते हैं। 

तो दोस्तों ये थी हमारे द्वारा बिटकॉइन से सम्बंधित पूरी जानकारी, आशा करता हूँ आपको ये जानकारी जरूर पसंद आयी होगी, अगर जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। 


Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma


Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…