Skip to main content

वेब डिजाइनिंग क्या है, और वेब डिज़ाइनर कैसे बने? What is web designing, and how to become a web designer?

दोस्तों नमस्कार, आज की इस पोस्ट में मैं आपको आधुनिक ज़माने की सबसे प्रमुख टेक्नोलॉजी से विकसित क्षेत्र के बारे में बताने वाला हूँ, ये वो टेक्नोलॉजी है जिसके माध्यम से आप आज पूरी दुनिया जुड़े हुए है। इंटरनेट एक ऐसा माध्यम है जो पूरी दुनिया को आपसे में जोड़े हुआ है, और इसी से सम्बंधित आज हमारा विषय है Web Designing क्या है और आप कैसे एक Web Designer बन सकते हैं। 
इस विषय की पूरी जानकरी आपको इस पोस्ट में मिल जाएगी। अगर आप भी एक बेहतरीन Career ऑप्शन की तलाश में हैं तो आपके लिए इससे अच्छा कोई ऑप्शन हो ही नहीं सकता, बस आपमें कुछ रचनात्मक गुण होने चाहिए। आप भी, वेब डिजाइनिंग क्या है, और वेब डिज़ाइनर कैसे बने? What is web designing, and how to become a web designer? से सम्बंधित पूरी जानकारी पाना चाहते हैं तो आपको इस पोस्ट को जरूर पढ़ना चाहिए।
Web Designing full Detail in Hindi

Web Designing इस क्षेत्र में न केवल पैसा है, बल्कि विस्तृत Career की संभावना भी है। आजकल ज्यादातर लोग सरकारी नौकरी की तरफ भाग रहे हैं, लेकिन कुछ लोग हैं जो प्राइवेट जॉब को ज्यादा अहमियत देते है या फिर खुद का कुछ काम करना चाहते हैं। अगर आप खुद का काम करना चाहते है या फिर आप वेब डिजाइनिंग के काम से जुड़ी किसी सरकारी या प्राइवेट कंपनी में नौकरी करना चाहते हैं तो आपको निश्चित रूप से इस क्षेत्र में जाना चाहिए। वेब डेवलपर की बहुत सी सरकारी नौकरियों में भी मांग होती है, अन्यथा प्राइवेट जॉब तो आप किसी भी कंपनी में कर ही सकते हैं, जहाँ आपको बहुत अच्छा सैलेरी पैकेज/Salary Package मिलता है।

अगर आप एक अच्छे वेब डेवलपर बनना चाहते हैं तो आपके पास कुछ Creative Skills और कुछ Technical Abilities होनी चाहिए, ये दोनों योग्यता अगर आपमें है तो आप इस क्षेत्र में बहुत अच्छा नाम और दाम पा सकते हैं। अब सवाल आता है की वेब डिज़ाइनर बनने के लिए आपको कैसे शुरुआत करनी चाहिए। इसके लिए आपको सही मार्गदर्शन की जरुरत होती है, जहाँ आपको कोई ये बता सके कि इस क्षेत्र में काम करने के लिए आपको किन-किन चीजों को सिखने की आवश्यकता होगी, कौन सी Computer Language आपको सीखनी होगी, आपको इसके लिए कोनसे Tools का इस्तेमाल करना होगा इत्यादि। इन सब चीजों की जानकरी के लिए अब आपको कहीं और जाने की जरुरत नहीं, हम आपको यहीं पर पूरी जानकारी देंगे जो आपको वेब डिजाइनिंग सिखने में पूरी मदद करेगी।

वेब डिजाइनिंग क्या है/What is Web Designing?
किसी भी Website के निर्माण से लेकर उसके किर्याशील होने तक की सारी प्रक्रिया Web Designing के अंतर्गत ही आती है, यानि वेबसाइट बनाने के Process को ही वेब डिजाइनिंग कहा जाता है। इसमे Web Page, Layout, Content Production, Graphic Design सहित कई चीजें आती है। इसे Web Development Process भी कहा जाता है, जिसके अंतर्गत वेबसाइट को Attractive और Easy to Use यानि प्रयोग करने में आसान बनाने के लिए User Interface, Visual Imagery जैसे कई Factors पर ध्यान दिया जाता है। एक Web Designer किसी Website को तैयार करने के लिये कई Software Tool और Computer Language का इस्तेमाल करते है। वेबसाइट को HTML नाम की Markup Language के द्वारा तैयार किया जाता है, किसी भी वेबसाइट के स्ट्रक्चर के निर्माण के लिए HTML टैग बहुत  ही महत्वपूर्ण होते हैं। वेबसाइट की आंतरिक कार्यप्रणाली या अंदुरनी Element Layout को डिज़ाइन करने के लिए CSS/Cascading Style Sheet का इस्तेमाल किया जाता है। HTML और CSS की स्टाइलिंग से ही ये तय होता है की आपकी वेबसाइट कैसी दिखेगी। वेब डिज़ाइनर को ये भी ध्यान रखना होता है की कोई भी वेबसाइट जिसका वो निर्माण कर रहे है वो Responsive और Fully Functional भी होनी चाहिए।

Content Production ये भी वेब डिजाइनिंग का एक हिस्सा होता है जिसमें Article, eBook, Blog Post, Research, Analysis करने या लिखने या उसके निर्माण करने की प्रक्रिया शामिल होती है। इस प्रक्रिया को ही Content Production कहा जाता है, जो की किसी भी वेबसाइट के लिए सबसे अहम होता है।

Site Maintenance Site Management किसी भी वेबसाइट को बेहतर काम करने के लिए उसकी Maintenance बहुत जरूरी होती है, इसीलिए Web Designing के अंतर्गत Site में होने वाली कुछ Mistakes और Issues को नियमित रूप से Check किया जाता है, और वेबसाइट को अपडेट/Update किया जाता है।

वेब डिज़ाइनर कैसे बने? How to become a Web Designer?
आज के दिन डिजिटल होते भारत में वेब डेवलपरों की बहुत बड़ी मांग है, और आने वाले समय में ये और भी बढ़ने वाली है। एक वेब डिज़ाइनर बनने के लिए आपको कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और कुछ कंप्यूटर Language के बारे में जानकारी होना आवश्यक होता है।आइये आपको विस्तार से बता देते है इन सभी के बारे में।

HTML और CSS सीखें। 
अगर आप web designing के क्षेत्र में सफल होना चाहते है, तो आपको HTML, CSS जैसी कंप्यूटर language को सीखना अनिवार्य होता है। HTML जो की web की foundation language होती है। HTML एक markup language है, जिसका प्रयोग किसी भी web page को विकसित करने में किया जाता है। इसके साथ ही एक और भाषा है जिसे CSS कहते हैं जो HTML में लिखे गये Documentation को Represent करती है। आप अगर HTML और CSS की कोडन/Coding अच्छे से सिख जाते हैं तो आपके लिए वेबसाइट बनाना बहुत ही आसान हो जाता है। 

JavaScript और JQuery सीखे। 
HTML और CSS के साथ ही आपको कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज Java Script और JQuery को भी सीखना जरुरी होता है। इन दोनों को सिख जाने के बाद आप एक हाई लेवल की वेबसाइट का निर्माण कर सकते हैं। Java Script एक Client Side Scripting Language है, जो Internet Browser के अंदर चलती है। दूसरी तरफ JQuery एक Java Script लाइब्रेरी है, JQuery सीखना आपके लिए बहुत ही उपयोगी साबित हो सकता है, क्यूंकि इसके प्रयोग से आपका जावा स्क्रिप्ट कोड लिखने का काम बहुत कम हो जाता है। 

Photoshop, Illustrator ग्राफ़िक डिजाइनिंग सीखें।  
Photoshop एक Photo Editing, Image Creation सॉफ्टवेयर है और Illustrator एकपूर्ण रूप से Graphic Design Software है। किसी भी Website या Web-Page को बनाने से पूर्व उसके पूरे Structure को, कि वह स्क्रीन पर कैसी दिखाई देगी, यह सब Photoshop में ही Design किया जाता है। Photoshop आपके वेब पेज का Final Output दिखाता है, जो आपको तैयार होने के बाद मिलता है। साथ ही इलस्ट्रेटर सॉफ्टवेयर की मदद से हम अपनी साइट के लिए कई अन्य ग्राफ़िक डिज़ाइन बना सकते हैं जो की हम Photoshop में नहीं बना सकते। ये प्रक्रिया जरूरी भी होती है, क्यूंकि किसी भी Web Page को बनाने से पूर्व उसका एक Demo तैयार कर लिया जाता है और जिसे देख कर उसकी Coding उसी हिसाब से शुरू की जा सकती है। असल में यह हमें एक Idea देता है, ताकि हम अपने Web Page के Design और Pixel Resolution के हिसाब से सही बना सकें। 
तो दोस्तो आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमें जरूर लिखे, आप पोस्ट के नीचे Comment Box  में अपनी प्रतिक्रियाएं ओर अगर कोई सुझाव है तो वो भी लिख कर भेज सकते हैं। साथ ही आप हमें हमारे द्वारा प्रकाशित नए लेख पढ़ने के लिए Subscribe भी कर सकते हैं।


Join us :
My Facebook:  Lee.Sharma

हमारे द्वारा लिखित और आर्टिकल यहाँ पढ़ें :

Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…