Skip to main content

HTML/एचटीएमएल क्या है? विस्तृत जानकारी। What is HTML full detail in HINDI

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम HTML/एचटीएमएल क्या होता है? इससे सम्बंधित पूरी जानकारी आपके लिए लाये हैं। कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी और एजुकेशन से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं। आशा करता हूँ कि ये आर्टिकल भी आपको हमारे पिछले आर्टिकल की तरह पसंद आएगा। 
HTML/एचटीएमएल क्या है? विस्तृत जानकारी। What is HTML full detail in HINDI

एचटीएमएल क्या है/What is HTML - in Hindi, HTML Kya Hai? 
HTML दरअसल कंप्यूटर में कोड लिखने की एक बिलकुल ही सरल और उपयोगी भाषा होती है, जिसका इस्तेमाल कोई भी वेबसाइट बनाने में होता है। HTML का पूरा नाम Hyper Text Markup Language होता है।HTML के साथ-साथ किसी भी वेबसाइट को उसका सही प्रारूप देने के लिए CSS का इस्तेमाल भी होता है। एचटीएमएल भाषा Computer की अन्य भाषा जैसे C, C++, JAVA आदि के मुकाबले बहुत ही आसान होती है। एचटीएमएल का इसका इस्तेमाल करना कोई भी व्यक्ति बड़ी ही आसानी से और बहुत कम समय में सिख सकता है। यह भाषा काम करने में बहुत मजेदार भी है। 

HTML की खोज Computer Scientist Sir Tim Berners-Lee ने साल 1980 में जिनेवा/Geneva में की थी। HTML एक Platform-Independent Language है, जिसका इस्तेमाल किसी भी Platform या Operating System में किया जा सकता है जैसे Windows, Linux, Macintosh इत्यादि। HTML की मदद से Website बन जाने के बाद उसे  दुनिया का कोई भी व्यक्ति internet के जरिये देख सकता है। 

HTML का प्रयोग कैसे होता है?
जैसा की हम ऊपर बता चुके हैं कि HTML की मदद से कोई भी वेब पेज बनाना बिलकुल ही आसान होता है। इसे बनाने के लिए आपको दो चीजों की जरुरत होती है, एक होती है Notepad और दूसरा होता है Browser जैसे की Internet Explorer, Google Chrome, Mozilla Firefox इत्यादि। नोटपैड जिसमे HTML के कोड लिखे जाते हैं। ब्रोवेसर से आपकी वेबसाइट को पहचान मिलती है। HTML छोटे-छोटे कोड की सीरीज से बना होता है, जिहे टैग/Tag कहते हैं। HTML टैग ब्राउज़र को बताते है कि उस टैग के अंदर लिखे गए Elements को Website में कहाँ और कैसे दर्शाया जाये। HTML आपको ऐसे बहुत से Tag उपलब्ध करवाता है जो ग्राफ़िक/Graphic,फॉण्ट/Font, और रंग/Color के इस्तेमाल से आपकी वेबसाइट को एक आकर्षक रूप प्रदान करता है। Notepad में HTML कोड लिखने के बाद आपको इसे .HTML एक्सटेंशन के साथ सेव करना होता है। इसके बाद ही आप इसे ब्राउज़र में खोल पाएंगे। जैसे ही आप ब्राउज़र में HTML फाइल को ओपन करेंगे, तभी ब्राउज़र आपके द्वारा लिखे गए कोड को Translate कर वेब पेज के रूप में आपको दिखायेगा। आपकी वेबसाइट या वेब पेज आपके द्वारा लिखे गए कोड को नहीं दिखायेगा बल्कि आपके द्वारा कोड लिखते वक़्त सोची गई कल्पना जिसे आप वेब पेज पर देखना चाहते थे वो ही दिखायेगा। 

कैसे होते हैं HTML टैग?
HTML टैग में वैसे तो बहुत सारे टैग होते हैं, लेकिन हम यहाँ आपको कुछ बेसिक और जरुरी टैग के बारे में बताएंगे। HTML टैग किसी भी अन्य Text से पूरी तरह से भिन्न होता है। इन्ही के अंदर HTML कोड लिखा जाता है। HTML टैग दरअसल एक कीवर्ड/ Keyword होता है। किसी भी HTML टैग  को हम बंद ब्रैकेट/Bracket के अंदर लिखते हैं, जैसे - <HTML>, <HEAD >, <BODY> इत्यादि। इन्ही टैग की मदद से हम वेबसाइट को नया रूप दे सकते हैं। HTML टैग में हम Image, Table, Button, Colors का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

HTML में अलग-अलग टैग अलग-अलग तरिके से काम करते हैं। इसमें जब आप अपना HTML पेज  ब्राउज़र के माध्यम से ओपन करते हैं, तो आपको कोई टैग बिना दिखाई दिए ही अपना प्रभाव दिखते हैं। आइये अब हम कुछ सामान्य टैग के बारे में बात करते हैं जिनका इस्तेमाल किसी भी वेबसाइट को बनाने के लिए किया जाता है। 
आप चाहें तो शुरुआत में कमेंट/Comment टैग भी लिख सकते हैं, लेकिन यह कोई अनिवार्य नहीं है। ये आपके ऊपर निर्भर करता है की आप अपने Html Document के लिए Comment लिखना चाहते हैं या नहीं। ये Commentआपको Browser में दिखाई नहीं देगा। 
HTML में Comment टैग लिखने का तरीका :- Comment<!”….”>

HTML में पहला और सबसे जरुरी Tag होता है Head टैग जिसे Header टैग कहा जाता है। इससे हमे Html Document की जानकारी मिलती है। HTML में Comment टैग को छोड़ कर बाकि जितने भी टैग होते हैं सभी का Start और End होता है। उदहारण के लिए :- <head>...........</head>  <Body>............</Body> 
अगर आप Start टैग को लिखने के बाद उसका End टैग नहीं लिखते तो उस टैग का असर किसी भी तरिके से आपके ब्राउज़र पर नजर नहीं आएगा। यही कारण है की आपको End टैग लिखना बहुत ही जरुरी होता है। HTML टैग का Keyword केस-सेंसेटिव नहीं होता, आप HTML टैग को Capital या Small लेटर में लिख सकते हैं। Start और End टैग के विच की जगह में ही आपको अपना मैसेज लिखना होता है जो आप वेब ब्राउज़र में देखना चाहते हैं। 

Head टैग के अंदर टाइटल/Title लिखा जाता है, जो हमारे वेब पेज के Title को दर्शाता है। उदहारण :- <title>HTML kya hai </title> जब हम इसे Browser में देखेंगे तो हमें यही Text ब्राउज़र के सबसे ऊपर Title Bar में बाईं और दिखाई देगा। 

Title टैग के बाद Body टैग लिखा जाता है। इस टैग के अन्दर Web-page को आकर्षक बनाने के लिए जितने भी टैग होते हैं, उन सभी का प्रयोग किया जा सकता है। 
जैसे:- <body bgcolor=”green” text=”white”> Hello! How are you? </body>

इसमें bgcolor का मतलब है background color जहाँ आपके वेबपेज के background का रंग हरा दिखेगा और जो येText लिखा है उसका रंग सफ़ेद दिखेगा। इसी प्रकार से आप और भी बहुत सारे टैग का इस्तेमाल <body> टैग के अन्दर करके अपने वेबपेज को और सुन्दर बना सकते हैं। 

HTML Document Script को लिखने का तरीका। 

<html>
<head>
<title>———————</title>
</head>
<body>
<h1>——</h1>  इसे Heading Tag कहते हैं। 
<p>——–</p>    इसे Paragraph Tag कहते हैं।  
<b>——–</b>    इसे Bold Tag कहते हैं। 
</body>
</html>

Video या Sound Add करना - HTML Programmer को Web page पर Graphic, Video और Sound Add करने के लिए सुविधा देता है, जो इसे और ज्यादा आकर्षित बनाता है।
Link Adding - HTML Programmer को Web-pages पर Link Add करने की सुविधा देता है, HTML Anchor Tag द्वारा, इसलिए यह Browsing में Users के Interest को और बढ़ा देता है।
Effective Presentation - HTML के साथ Effective Presentation बना सकते है, क्योंकि इसमें बहुत सारे Formatting Tag है। 

ये तो थे HTML के कुछ बेसिक टैग जो इसके लिए बहुत ही जरुरी होते हैं, इसमें ओर भी बहुत सारे टैग होते हैं जिनका जिक्र हम अपने आर्टिकल में आपसे जरूर करेंगे।

दोस्तो आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमें जरूर लिखे, आप पोस्ट के नीचे Comment Box  में अपनी प्रतिक्रियाएं ओर अगर कोई सुझाव है तो वो भी लिख कर भेज सकते हैं। साथ ही आप हमें हमारे द्वारा प्रकाशित नए लेख पढ़ने के लिए Subscribe भी कर सकते हैं।

Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma
My YouTube : Home Design !deas

हमारे और आर्टिकल यहाँ पढ़ें :





Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…