Skip to main content

राष्ट्रीय गणित दिवस National Mathematics Day कब मनाया जाता है। Srinivas Ayangar Ramanujan jayanti

प्रिय पाठकों नमस्कार, हमारे इस वेब पोर्टल पर आपका सगत है, इस Portal पर हम Technology ओर Education से जुड़े आर्टिकल लिखते है, जो सामान्य ज्ञान और किसी भी परीक्षा की तैयारी हेतु आपके लिए बड़े ही उपयोगी और ज्ञानवर्धक होते हैं। आज के इस आर्टिकल में हम महान गणितज्ञ श्रीनिवास अयंगर रामानुजन जी के बारे में ओर राष्ट्रीय गणित दिवस मनाए जाने के पीछे की कहानी आपको बताएंगे। इसलिए आपसे अनुरोध है कि हमारी इस पोस्ट को पूरा पढ़ें।
राष्ट्रीय गणित दिवस National Mathematics Day कब मनाया जाता है

भारत के महान गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन जी के सम्मान में साल 2012 से उनके जन्मदिन 22 दिसंबर को राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाया जाता है। श्रीनिवास अयंगर रामानुजन का जन्म 22 दिसंबर, 1887 को हुआ था। इस महान विभूति का निधन 6 अप्रैल, 1920 को अल्पायु में ही टीबी की बीमारी के कारण हो गया था। वे बहुत ही विलक्षण प्रतिभा के धनी थे। साल 2012 में उस वक़्त के मौजूद प्रधानमंत्री श्री मनमोहन सिंह जी ने 22 दिसंबर को श्री रामानुजन के सम्मान में राष्ट्रीय गणित दिवस घोषित किया था।

कोन थे श्रीनिवास अयंगर रामानुजन? Who was S Ayangar Ramanujan?
एस रामानुजन जी का जन्म मद्रास से 400 किलोमीटर दूर इरोड नामक छोटे से गांव में हुआ था। रामानुजन जी का बचपन निर्धनता व कठिनाइयों में बीता। उनके पास खुद की किताबें खरीदने के पैसे भी नहीं होते थे, वो अधिकतर विद्यालय में अपने दोस्तों से किताबें मांगकर पढ़ा करते थे। उनकी रुचि गणित के अतिरिक्त अन्य किसी भी विषय में नहीं थी। अन्य विषयों में दिलचस्पी न होने के कारण वे बड़ी मुश्किल से ही परीक्षा पास कर पाते लेकिन गणित में वे 100 प्रतिशत अंक प्राप्त करते थे। साइंस या सामाजिक अध्यन जैसी पारंपरिक शिक्षा में रामानुजन का मन कभी भी नहीं लगा, वे ज्यादातर समय गणित में ही बिताते थे। उन्होंने दस वर्ष की उम्र में प्राइमरी परीक्षा में पूरे जिले में सर्वोच्च अंक प्राप्त किये और आगे की शिक्षा के लिए टाउन हाईस्कूल में उनका दाखिल हो गया। उनके गणित में इतने खो गए कि अत्यधिक गणित प्रेम ने ही उनकी शिक्षा में बाधा डाली। दरअसल, उनका गणित-प्रेम इतना बढ़ गया था कि उन्होंने अन्य विषयों को पढ़ना ही छोड़ दिया। अन्य विषयों की कक्षाओं में भी वह गणित ही पढ़ते थे और गणित के सवालों को हल किया करते थे। इसका परिणाम उनके लिए बहुत बुरा साबित हुआ। वो कक्षा 11वीं की परीक्षा में गणित को छोड़ कर बाकी सभी विषयों में फेल हो गए। इस परीक्षा में फेल होने के कारण उनको मिलने वाली छात्रवृत्ति बंद हो गई। उनकी पारिवारिक आर्थिक स्थिति पहले से ही ठीक नहीं थी और छात्रवृत्ति बंद हो जाने के कारण कठिनाइयां और बढ़ गई। यह दौर उनके लिए बहुत ही मुश्किलों भरा था।


अब रामानुजन जी युवा भी हो चुके थे। युवा होने पर घर की आर्थिक ओर भौतिक जरूरतों को पूरा करने के लिए रामानुजन ने एक दफ्तर में क्लर्क की नौकरी कर ली। नोकरी करते हुए जैसे ही उनको खाली वक़्त मिलता था वो एक ख़ाली पेज लेकर उसपर गणित के सवाल हल किया करते थे। दफ्तर में जब वो किसी सवाल को हल कर रहे थे तभी एक अंग्रेज की नजर उनके इन पेजों पर पड़ गई। उस अंग्रेज ने इनके अंदर छिपे महान गणितज्ञ को पहचान लिया और अपनी निजी दिलचस्पी लेकर उन्हें ऑक्सफर्ड/Oxford विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर हार्डी के पास भेजने का प्रबंध कर दिया। प्रोफ़ेसर हार्डी ने भी उनमें छिपी प्रतिभा को पहचाना। ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय से उनकी ख्याति पूरे विश्व में फैल गई। प्रोफ़ेसर हार्डी ने रामानुजन के लिए कैंब्रिज के ट्रिनिटी कॉलेज में गणित पर शोध के लिए उनकी व्यवस्था की।

ट्रिनिटी/Trinity कॉलेज से जुड़ने के बाद से ही रामानुजन के जीवन में एक नए युग का आरंभ हुआ। रामानुजन जी का जीवन दर्पण बदलने में प्रोफ़ेसर हार्डी का बहुत महत्वपूर्ण योगदान रहा है। रामानुजन ने प्रोफ़ेसर हार्डी के साथ मिल कर गणित पर कई शोधपत्र प्रकाशित किए। उनके एक विशेष शोध के लिए कैंब्रिज विश्वविद्यालय ने इन्हें बी.ए./BA. की उपाधि भी दी, जो आज के समय की पीएचडी/PHD. के बराबर थी।

India's top Mathematician
वहां उनका सबकुछ ठीक चल रहा था लेकिन इंग्लैंड की जलवायु और रहन-सहन की शैली रामानुजन जी के वातावरण के अनुकूल नहीं थी। इसी असंतुलित वातावरण के कारण उनका स्वास्थ्य खराब रहने लगा। उन्हें कोई बीमारी लग चुकी थी, जांच के बाद पता चला की उन्हें टी.बी. हो चुकी थी। वहां के डॉक्टरों ने उनके स्वास्थ्य को देखते हुए उन्हें वापस भारत लौटने की सलाह दी। भारत लौटने पर भी उनके स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं हुआ। धीरे-धीरे उनकी हालत ओर ज्यादा खराब होती गई ओर आखिर में डॉक्टरों ने भी जवाब दे दिया।इस विलक्षण प्रतिभा के धनी ने 26 अप्रैल, 1920 को दुनिया को अलविदा कह दिया।


तो दोस्तो आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमें जरूर लिखे, आप पोस्ट के नीचे Comment Box में अपनी प्रतिक्रियाएं ओर अगर कोई सुझाव है तो वो भी लिख कर भेज सकते हैं। साथ ही आप हमें हमारे द्वारा प्रकाशित नए लेख पढ़ने के लिए Subscribe भी कर सकते हैं।

Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma

Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…