Skip to main content

Web Hosting/वेब होस्टिंग क्या है और कितने प्रकार की होती है? What is Web Hosting and types of Web Hosting.

दोस्तों नमस्कार, हमरे Web Portal पर आपका स्वागत है, हम अपने इस पोर्टल  पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं। हमारे सभी आर्टिकल/Article या पोस्ट/Post उन सभी के लिए बहुत काम के होते हैं जो टेक्नोलॉजी के बारे में जानने की रूचि रखते हैं। आज हम Web Hosting/वेब होस्टिंग के बारे में विस्तार से बात करने वाले हैं की Web Hosting/वेब होस्टिंग क्या है, और ये कितने प्रकार की होती हैं। 

Web Hosting/वेब होस्टिंग क्या है? Types of Web Hosting in Hindi
Web Hosting/वेब होस्टिंग दरअसल एक प्रकार की सर्विस/Service है, जो की हमें अपनी वेबसाइट/Website को Internet पर लगातार चालू रखने की सुविधा प्रदान करती है। Website होस्टिंग के लिए हमें एक Powerful Server की आवश्यकता होती है जो की हमेशा Internet से Connected रहे, ताकि हमारी Website 24 घंटे बिना किसी रूकावट के हमारे Users के लिए उपलब्ध रहे।

Windows/Linux Web Hosting 
किसी भी कंपनी से Hosting खरीदते वक़्त आपके पास दो विकल्प होते हैं, एक होता है Windows और दूसरा होता है Linux बेस। आप इन दिनों में से किसी की भी होस्टिंग प्रयोग कर सकते हैं। लेकिन यहाँ बात आती है की इनकी सर्विस में क्या फर्क है। 
तो आइये बता देते हैं-

  • दोनों ही Server बहुत ही बढ़िया हैं लेकिन Windows सर्वर Linux सर्वर से ज्यादा Secure होता है। 
  • Windows होस्टिंग थोड़ा महंगा होता है। क्यूंकि Windows ले Licence के लिए कंपनी को पैसे देने पड़ते हैं।
  • Linux एक Open Source Operating System है तो इसे प्रयोग करने के लिए होस्टिंग कंपनी को पैसे नहीं देने पड़ते। इसी कारण से ये सस्ता होता है।  

Web Hosting/वेब होस्टिंग के प्रकार 
दोस्तों यहाँ हम कुछ Web Hosting/वेब होस्टिंग सर्विस प्रदाता के बारे में बात करेंगे जिनका विवरण हम निचे पुरे विस्तार से दे रहे हैं, आजकल 5 प्रमुख होस्टिंग सर्विस प्रदाता कंपनी है।  
  • Shared Server होस्टिंग
  • VPS/Virtual Private Server होस्टिंग
  • Dedicated Server होस्टिंग
  • Cloud  होस्टिंग
  • WordPress होस्टिंग
Shared Web Hosting/शेयर्ड वेब होस्टिंग। 
शेयर्ड वेब होस्टिंग/Shared Web Hosting में एक ही सर्वर/Server होता है, जहाँ हजारों Websites की Files/Documentation एक साथ एक ही Computer Server में स्टोर हो कर रहते हैं। इसी कारण से इस Hosting का नाम Shared रखा गया है। 

Shared Web Hosting उन लोगों के लिए सही विकल्प है जिन्होंने नई वेबसाइट को बनाया हो, क्यूंकि ये Shared Web Hosting सबसे सस्ती होती है। इस Hosting से आपको तब तक कोई समस्या नहीं आती जब तक आपका Web Portal/Website मशहूर न हो जाये। जब आपकी Website पर Traffic/Visitor की संख्या बढ़ने लगे तो आप अपना Web Hosting Provider बदल भी सकते हैं। इस Shared Web Hosting सर्विस में बहुत सारे यूजर एक साथ एक ही Server System की CPU और RAM का इस्तेमाल करते हैं, तो निश्चित है की इसमें आपको कभी-कभी आपकी Website या Page खोलने में समान्य के मुकाबले थोड़ा समय लग सकता है। इस होस्टिंग सर्विस का सबसे बड़ा माइनस/Minus point यही है। 

Shared होस्टिंग के फायेदे। 

  1. Shared होस्टिंग का इस्तेमाल और इसका Setup करना बहुत ही सरल होता है। 
  2. किसी भी Basic Websites के लिए ये बेहतरीन विकल्प है। 
  3. इसकी किमत कम होने के कारण कोई भी इसे आसानी से खरीद सकता है। 
  4. Shared होस्टिंग का Control Panel बहुत ही यूजर फ्रेंडली होता है। 

Shared होस्टिंग के नुकसान। 

  1. Shared होस्टिंग में आपको बहुत ही Limited Resources Access करने को मिलती हैं। 
  2.  यह एक Shared सर्विस होती है इसलिए इसमें आपकी वेबसाइट की Bandwidth ऊपर-निचे होने की सम्भावना रहती है।  
  3. Shared होस्टिंग की सिक्योरिटी भी थोड़ी Low होती है। 

VPS/Virtual Private Server होस्टिंग। 
इस प्रकार की होस्टिंग सर्विस में इस पर पूरा अधिकार आपका होता है। VPS होस्टिंग में Visualization Technology का प्रोयाग किया जाता है। इसमें आपको एक Secure और Powerful सर्वर की सुविधा मिलती है। इसमें आपकी Website को जितने Resource की जरुरत होती है वो उतना प्रयोग कर सकती है। इसमें आपको अपनी सर्विस किसी के साथ शेयर करने की जरुरत नहीं होती, इसी कारण से ये Hosting Service थोड़ी महंगी हो सकती है, लेकिन साथ ही इसमें आपकी वेबसाइट को सिक्योरिटी भी ज्यादा मिलती है। जिन वेबसाइट पर ज्यादा Traffic होता है वो प्राय इसी होस्टिंग का इस्तेमाल करते हैं। 

VPS/Virtual Private Server होस्टिंग के फायदे। 

  1. यह Hosting Service आपको सबसे बेहतरीन Performance प्रदान करती है। 
  2. इसमें आपको Dedicated होस्टिंग की तरह Full Control मिलता है। 
  3. इस होस्टिंग सर्विस में आपको ज्यादा Flexibility मिलती है। आप इसे अपने तरीके से Customize भी कर सकते हैं। 
  4. आप इसमें Memory, Bandwidth बदल सकते हैं और इन्हे Upgrade कर सकते हैं। 
  5. इसे कोई भी खरीद सकता है क्यूंकि ये Dedicated Hosting की तुलना में ये ज्यादा महंगी सर्विस नहीं है। इसे कोई भी खरीद सकता है जिनकी साइट पर ट्रेफिक ज्यादा हो। 
  6. इसका Security सिस्टम बहुत ही उम्दा होता है। साथ ही ये आपको अच्छा Support प्रदान। 

VPS/Virtual Private Server होस्टिंग के नुकसान। 

  1. इसमें आपको Dedicated Hosting  की तुलना में काफी कम Resources मिलते हैं। 
  2. इसे प्रयोग करने के लिए आपके पास Technical ज्ञान का होना भी जरुरी होता है। 
  3. इस होस्टिंग सर्विस में आपको शेयरिंग का कोई विकल्प नहीं मिलता, जैसे की Shared होस्टिंग में। 

Dedicated Server होस्टिंग। 
Dedicated Server होस्टिंग में आपको अपनी Website के लिए एक व्यक्तिगत Server मिलता है, जो केवल आपकी Website के लिए ही प्रयोग किया जाता है। इसमें आपकी Website का सारा डाटा मौजूद होता है।  इसके किसी के साथ शेयर नहीं किया जाता है। Dedicated Server होस्टिंग सबसे महंगी होती है क्यूंकि इसका सारा किराया केवल एक ही व्यक्ति विशेष को देना पड़ता है। इस Hosting Service का प्रयोग केवल वही Website करती है जिन पर Visitor या Traffic बहुत ही ज्यादा होती है। लगभग सभी E-Commerce वेबसाइट जैसे की Flipkart, Amazon, Mintra, Snapdeal इत्यादि इसी होस्टिंग सर्विस का इस्तेमाल करती है। 

Dedicated Hosting के फायदे। 

  1. इसमें Client को ज्यादा सिक्योरिटी और Flexibility प्रदान की जाती है। 
  2. इस Hosting सर्विस की Security सबसे ज्यादा होती है। 
  3. बाकि Hosting सर्विस के मुकाबले ये सर्विस ज्यादा महंगी होती है, क्यूंकि ये सर्विस सबसे ज्यादा स्टेबल होती है। 
  4. इस सर्विस में आपको Full Root/Administrative Access प्रदान किया जाता है। 


Dedicated Hostingके नुकसान। 
  1. इस सर्विस को Control करने के लिए आपके पास Technical Knowledge का होना बहुत जरुरी होता है। 
  2. इसमें अगर आप अपने Problems को खुद Solve नहीं कर सकते तो आपको किसी Technicians को जॉब पर रखना पड़ेगा। 

Cloud Web होस्टिंग। 

Cloud वेब होस्टिंग एक प्रकार की ऐसी होस्टिंग सर्विस है जो की किसी दूसरे Clustered Server का इस्तेमाल करती हैं। यहाँ पर Clustered Of Server को ही Cloud कहा जाता है। इसका सीधा सा मतलब ये है की आपकी Website किसी दूसरे Server के Virtual Resources का इस्तेमाल करती है। इसी के कारण ये आपके सभी Aspects को पूर्ण करती है। इस होस्टिंग सर्विस में Load को Balance किया जाता है। साथ ही इसमें Security का भी खासा ध्यान रखा जाता है। इस सर्विस में सारे Hardware Resources Virtually मौजूद होते हैं इन्हे कभी और कहीं पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है।  

Cloud Hosting के फायदे। 

  1. इस होस्टिंग सर्विस में आपके Server के Down होने के चांस कहत ही कम होते हैं।
  2. Cloud होस्टिंग के अंदर सभी चीजें मौजूद होती है जिसके कारण इसमें लग्गिंग नहीं आती।   
  3. Cloud Hosting सर्विस में High Traffic को भी बड़ी आसानी से Handle किया जा सकता है। 
Cloud Hosting के नुकसान। 

  1. इसमें आपको Root Access की सुविधा नहीं मिलती। 
  2. बाकि सर्विस की तुलना में इस प्रकार की होस्टिंग कुछ महंगी होती है।

WordPress Web होस्टिंग। 
आप WordPress से भी वेब होस्टिंग ले सकते हैं, यह काफी सस्ती और आम यूजर के लिए सहज होती है। इसका इस्तेमाल करना काफी आसान होता है। आजकल ज्यादातर नए ब्लोगर इसी सर्विस का इस्तेमाल करते हैं। 

दोस्तों इस पोस्ट में हमने आपको Web Hosting/वेब होस्टिंग और उसके प्रकारों से सम्बंधित मुख्य जानकारी दे दी है फिर भी अगर इसमें हमसे कुछ छूट गया है और आपको उस बारे में कुछ और जानकारी है तो आप हमे उससे अवगत जरूर करवाएं। साथ ही अगर आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगी तो आप इसे अपने मित्रों के साथ Facebook, WhatsApp पर जरूर शेयर करें। ताज़ा जानकारी और अपडेट पाने के लिए आप हमें निचे दाएं कोने में घंटी के बटन पर क्लीक करके सब्सक्राइब/Subscribe भी कर सकते हैं।


Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma

Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…