Skip to main content

10वीं के बाद छात्र क्या कैरियर ऑप्शन चुनें। जाने इस लेख में। What to do after 10th exam

प्रिय छात्रों नमस्कार, हमारे इस वेब पोर्टल पर आपका स्वागत है, इस Portal पर हम Technology ओर Education से जुड़े आर्टिकल लिखते है, जो सामान्य-ज्ञान और किसी भी परीक्षा की तैयारी हेतु आपके लिए बड़े ही उपयोगी और ज्ञानवर्धक होते हैं। आज की पोस्ट हम उन छात्रों के लिए लाये हैं जो दसवीं की परीक्षा की तयारी कर रहे हैं या फिर वो दसवीं पास कर चुके हैं। हम इस पोस्ट में आपको बताएंगे की दसवीं कक्षा के बाद आप कौन-कौनसे करियर विकल्प चुन सकते हैं, तो पूरी जानकारी लेने के लिए पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।  
10वीं के बाद छात्र क्या कैरियर ऑप्शन चुनें।

दसवीं कक्षा के बाद करियर विकल्प।
दसवीं कक्षा किसी भी बेस होता है, यहीं से आप अपने आगे आने वाले करियर के लिए सही दिशा का चुनाव कर सकते हैं। ज्यादातर छात्र यही सोचते हैं की दसवीं की परीक्षा के बाद क्या करें, हमे आगे की पढाई के लिए किस Stream/संकाय का चुनाव करना चाहिए, या फिर किसी Professional/वव्यसायिक कोर्स को चुनना चाहिए, या फिर किसी अन्य Traditional ऑप्शन का चुनना सही रहेगा। ये कुछ सवाल हैं जो अक्सर उन छात्रों के मन में आते हैं जो इस परीक्षा के आस-पास होते हैं। आपके मन में ये सवाल आना जायज है, क्यूंकि आपके इन सवालों का सीधा सम्बन्ध आपके आने वाले भविष्य को सुनिश्चित करता है। अगर आपके मन में सवाल आएंगे तो ही आप इनके बारे में जान पाएंगे। लेकिन इन सवालों से आपको परेशान होने की जरुरत नहीं है। 

यह परीक्षा इतनी निर्णायक क्यों होती है?
ये वो परीक्षा होती है जिसके बाद छात्रों के मन में आने वाले जीवन में कुछ खास करने की ललक पैदा होती है। दसवीं की परीक्षा के बाद छात्र एक ऐसे मोड़ पर खड़े होते हैं, जहाँ आपको ये तय करना होता है की आप जीवन में कितना समृद्ध और सशक्त इंसान बनना चाहते हैं। यहाँ पर आप कई बार सही निर्णय न ले पाने के कारण अपनी योग्यताओं का सही प्रयोग नहीं कर पाते। अगर आप करियर से जुड़े इस निर्णय को लेकर पूरी तरह से Confident हैं तो आप एक सही दिशा का चुनाव कर जीवन में अग्रसर हो सकते हैं। यहाँ पर आपको अपने अंदर की योग्यताओं को पहचान कर आगे के रस्ते का चुनाव करना होता है। 

छात्रों को अपने लिए सही विषय का चुनाव कैसे करना चाहिए?
दसवीं की परीक्षा के बाद ये निर्णय करना सबसे कठिन होता है की आप किस Stream/संकाय का चुनाव करें। इसलिए मैं आपको यही सुझाव दूंगा की आप अपनी रूचि और योग्यता के अनुसार ही संकाय का चुनाव करें, ताकि आप अच्छा स्कोर कर सकें। बहुत बार ऐसा होता है की बच्चे माता-पिता के दबाव या अपने दोस्तों की रुची के अनुसार विषयों का चुनाव कर लेता है, जो की उस छात्र की रूचि और उसकी क्षमताओं के बिलकुल उल्टा साबित हो जाता है। वो अपने मित्रो द्वारा किये गए चुनाव को सही मानकर उसी का अनुसरण करते हैं जो की आने वाले वक़्त में उनके लिए बहुत ही हानिकारक सिद्ध हो सकता है। इसलिए मेरी आपसे यही राय है की जब भी संकाय का चुनाव करें अपने दिल से सोचें अपनी क्षमताओं को जाने, वही चुने जिसे आप अच्छी तरह सिख सकें, पढ़ सकें, जान सकें। अगर माँ-बाप उनके अनुसार आपको किसी भी संकाय का चुनाव करने के लिए कहें तो उनको अपनी रूचि के बारे में जरूर बताएं। अगर आप हर संकाय के लिए अपने आप को योग्य मानते हैं तो आप उनके अनुसार भी संकाय का चुनाव कर सकते हैं। 


आइये अब जान लेते हैं दसवीं के बाद आप किन-किन स्ट्रीम्स/Stream /संकाय का चयन कर सकते हैं !

साइंस/Science संकाय/Stream का चुनाव। Science Side 
कसी भी माँ-बाप का सपना होता है की उनका बच्चा Science विषय से ही पढाई करे। सामान्यत देखने में यही आया है की जो छात्र साइंस/Science,मैथ/Math और इंग्लिश/English में काफी अच्छे होते हैं, ज्यादातर वही साइंस/Science संकाय का चुनाव करते हैं। यह स्ट्रीम बच्चो को इंजीनियर/Engineer, डॉक्टर/Doctor, आईटी/IT, साइंटिस्ट/Scientist, कंप्यूटर विज्ञान/Computer साइंस जैसे क्षेत्रों में करियर चुनने के अवसर प्रदान करती है। साथ ही ये स्ट्रीम आपको विभिन्न ज्ञानक्षेत्रों में काम करने के अवसर भी प्रदान करती है। इस स्ट्रीम को चुनने का छात्र के लिए सबसे बड़ा फायदा ये भी होता है की आगे चलकर छात्र कॉमर्स/Commerce या आर्ट्स/Arts किसी भी संकाय में एडमिशन/दाखिला ले सकता है। इसके विपरीत दूसरे संकाय/Stream का चुनाव करके आप आगे चलकर साइंस/Science स्ट्रीम की पढाई नहीं कर सकते। मान लीजिये आपने 12वीं साइंस स्ट्रीम से पास की है, तो आप आगे तीनो स्ट्रीम में से किसी भी स्ट्रीम का चुनाव कर सकते हैं, वहीँ अगर आपने 12 वीं कॉमर्स से की है तो आप आगे  सिर्फ कॉमर्स या आर्ट्स का ही चुनाव कर सकते हैं। आर्ट्स से 12वीं करने वाले छात्रों के पास आर्ट्स के आलावा कोई और विकल्प नहीं होता। 

कक्षा 11 और 12 में आप कंप्यूटर विज्ञान, इलेक्ट्रॉनिक्स, आईटी, जैसे कुछ ऐच्छिक/Optional विषयों के साथ जिनमे रसायन विज्ञान, जिव विज्ञान, भौतिकी और गणित शामिल होते हैं ऐसे विषयों का चयन करना होता है। इन सब के आलावा छात्र को चुने हुए इंस्ट्रक्शंस की भाषा के रूप में एक अनिवार्य भाषा का चयन भी करना होता है। इस स्ट्रीम में छात्र को थ्योरी/Theory के साथ लैबोरेटरी/Lab में प्रेक्टिकल/Practical ज्ञान भी दिया जाता है।      
अगर आप इंजीनियरिंग/Engineering में दिलचस्पी रखते हैं तो आप पीसीएम/PCM यानि भौतिकी/Physics , रसायन/Chemistry और गणित/Math  को मूल विषयों के रूप में चुन सकते हैं। अगर आप मेडिसिन/Medicine  में रुचि रखते हैं तो आप पीसीएमबी/PCMB यानि भौतिकी/Physics, रसायन/Chemistry, गणित/Math, या जीवविज्ञान/Biology  विषय ले सकते हैं। 


कॉमर्स/Commerce संकाय/Stream का चुनाव। Commerce Side 
कॉमर्स संकाय साइंसStream के बाद सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला स्ट्रीम है। यह स्ट्रीम Business विषय के लिए सबसे उपयुक्त होता है। अगर आप स्टैटिक्स/Statics, फायनांस/Finance, बंकिन/Banking या इकोनॉमिक्स/Economics के क्षेत्र में जाना चाहते हैं तो ये स्ट्रीम आपके लिए सबसे बेहतर है। इस साइड से पढाई करने के बाद आप CA/चार्टर्ड एकाउंटेंट्स, CS/कंपनी सेक्रेटरी, Accountant/एकाउंटेंट, SB/निवेश बैंकिंग और EA/वित्तीय सलाहकार जैसे उच्च तनख्वाह वाले  पद पर काम करने का अवसर प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए 12 वीं के बाद आपको इनसे सम्बंधित ज्ञानक्षेत्र का चुनाव करना होगा। 

कॉमर्स/Commerce स्ट्रीम में छात्र के रूप में आपको बिजनेस/Business, इकोनॉमिक्स/Economics, एकाउंटेंसी/Accountancy, बिजनेस स्टडी/Business Study और बिजनेस लॉ/Business Law आदि मूल विषयों की पढाई करनी होती है। इन सब के आलावा छात्र को कॉमर्स स्ट्रीम के एक भाग के रूप में अकाउंटिंग/Accounting, ऑडिटिंग/Auditing, इनकम टैक्स/IT, मार्केटिंग/Marketing, जनरल बिजनेस/Genral Business और इकोनोमिक्स/Economics में प्रशिक्षण भी दिया जाता है। इस स्ट्रीम में भी आपको एक आवश्यक भाषा का चुनाव करना होता है । 


आर्ट्स/Arts /कला संकाय/मानविकी। Art Side 
जो छात्र साइंस या कॉमर्स संकाय का चुनाव किसी कारणवश नहीं करते आगे पढ़ने वाले वो सभी छात्र आर्ट/Art स्ट्रीम का चुनाव करते हैं। आजकल ज्यादातर छात्र इस  नहीं करना चाहते, देखा जाये तो इस स्ट्रीम से पढाई करने के बाद भी अवसरों की भरमार है। इस स्ट्रीम का चुनाव वो छात्र भी करते हैं जो साइंस या कॉमर्स स्ट्रीम के होते हैं, लेकिंग उनकी अभिरुचि के कारण आर्ट का चुनाव करते हैं। आजकल आर्ट्स के छात्रों के पास भी आगे चलकर बहुत ही अच्छे करियर विकल्प मौजूद हैं। आर्ट स्ट्रीम आपको बहुत ऑफ-बीट और रोमांचक करियर चुनने के अवसर प्रदान करती है। आर्ट स्ट्रीम का छात्र स्टूडेंट जर्नलिज्म/Generalism, लिटरेचर/Literature, सोशल वर्क/Social Work, एजुकेशन/Education और अन्य कई प्रकार के करियर विकल्पों को चुन सकता है। 

आर्ट्स स्ट्रीम के छात्रों के पास बहुत से विषयों में से उनके पसंदीदा विषय चुनने का विकल्प होता है। इन विषयों में से छात्र कोई भी विषय चुन सकता है जिनमे समाजशास्त्र/Social Science, इतिहास/History, साहित्य/Literature, मनोविज्ञान/Psychology, राजनीति विज्ञान/ Political Science, दर्शन/Philosophy , अर्थशास्त्र/Economics इत्यादि विषयों का  अध्ययन कर सकता है। इस स्ट्रीम में भी आपको एक अनिवार्य भाषा का चयन करना होता है।    

उपरोक्त जानकारी के बाद भी, अगर आपको लगता है कि आप स्ट्रीम/Stream के चयन को लेकर भ्रमित/Confuse और अनिश्चित/Unstable हैं, तो आपको इस बारे में अपने माता-पिता, प्रोफेशनल काउंसलर या सीनियर से सलाह जरूर लेनी चाहिए। आजकल बहुत सारे और भी करियर विकल्प मौजूद हैं जो दसवीं के बाद आपकी आप चुन सकते हैं।  मेरी सलाह यही है की अगर आप माता-पिता, प्रोफेशनल काउंसलर या सीनियर की सलाह लेते हैं तो वो सही दिशा चुनने में आपकी बहुत मदद करेंगे। 

सही निर्णय लेने की क्षमता का विकास करें। 
किसी भी काम की सफलता के पीछे हमारे द्वारा सही समय पर लिए गए सही निर्णय का बहुत योगदान होता है। इसलिए मैं आपसे यही कहूंगा की कोई भी निर्णय लेने से पहले अपने बड़े/सीनियर्स, माता-पिता, अध्यापक या अन्य अभिभावक से राय-मश्वरा जरूर करना चाहिए। इस बात का हमेशा ध्यान रखें की यह बात आपके लिए कितनी सही है, और इस बात के क्या दूरगामी परिणाम आपके लिए हो सकते हैं। आपको अपने खुद के अंदर ही सहीं निर्णय लेने की क्षमता का विकास करना होता है। आप ये भी मान के चलें की आपके द्वारा लिया गया कोई भी निर्णय आपके जीवन का आखिरी निर्णय नहीं होता। आप समाज में कहीं पर भी जाएँ हर जगह आपमें सही निर्णय लेने की परख की पहचान की जाएगी। सही निर्णय लेने की क्षमता पर ही आपका करियर कुछ हद तक निर्भर भी करता है। इसीलिए आपको दसवीं के बाद सही निर्णय लेने की कोशिश करनी चाहिए।  इस कोशिश से आपके अंदर तार्किक क्षमता का विकास होगा जो आने वाले जीवन में आपके लिए बहुत ही सही साबित होगा।   

जब आप छोटे होते हैं तो आपसे सम्बंधित हर चीज का निर्णय आपके माता-पिता/अभिभावक ही लेते है। लेकिन दसवीं की परीक्षा के बाद आप अपने लिए अपने करियर से जुड़े Options के चुनाव के लिए आजाद होते हैं। इसलिए दसवीं के बाद आपको क्या करना है, यह निर्णय अब आपको ही सही तरीके से करना है। हो सकता है कुछ निर्णय को लेने से पहले आप कंफ्यूज हो जाएँ, तो इसमें घबराने वाली कोई बात नहीं, आप इसके लिए किसी से परामर्श भी ले सकते हैं।  


तो दोस्तो आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमें जरूर लिखे, आप पोस्ट के नीचे Comment Box  में अपनी प्रतिक्रियाएं ओर अगर कोई सुझाव है तो वो भी लिख कर भेज सकते हैं। साथ ही आप हमें हमारे द्वारा प्रकाशित नए लेख पढ़ने के लिए Subscribe भी कर सकते हैं।

Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma
My YouTube : Home Design !deas


Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…