Skip to main content

What is Domain?,डोमेन क्या होता है, तथा इसके प्रकार जानिए विस्तार से। DNS

दोस्तो नमस्कार हमारे वेब पोर्टल पर आपका स्वागत है। हम अपने इस वेब पोर्टल पर टेक्नोलॉजी और एजुकेशन से संबंधित ब्लॉग पोस्ट करते हैं आप हमारे इस पोर्टल पर किसी भी प्रकार की कंप्यूटर, एजुकेशन और सामान्य जो टेक्निकल नॉलेज है उससे संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, और आज के इस आर्टिकल में, मैं आपको बताऊंगा की डोमेन नेम क्या है? डोमेन कितने प्रकार के होते हैं? 

डोमेन क्या होता है? What is Domain?

आइये जान लेते हैं डोमेन क्या है? 
दोस्तों डोमेन को मैं आपको एक सीधी लाइन में और छोटी लाइन में समझा सकता हूं जब भी हम कोई भी वेबसाइट खोलते हैं, उसके एड्रेस बार में जो हम टेक्स्ट एंटर करते हैं जिसके साथ .com,.gov. .in, .biz, .net या कोई भी डॉट के बाद लगा एक्सटेंशन हो, वो डोमेन कहलाता है। इंटरनेट पर आपके वेबसाइट या ब्लॉग की पहचान के लिए आपके पास एक नाम होना चाहिए जिसे हम डोमेन नाम/domain name कहते हैं। इसी डोमेन नाम से आपकी website/blog की पहचान होती है। जैसे आप हमारी वेबसाइट को ले लीजिए जिसमें https://www.lshometech.com है, इसके साथ .com लगा है यही असल में डोमेन नाम है। यह हमारा जो वेब एड्रेस है, हमारी वेबसाइट का, इसी को हम डोमेन बोलते हैं। यानी सीधे अर्थों में हम यह कह सकते हैं किसी भी वेबसाइट का एड्रेस उसका डोमेन नाम होता है। डोमेन नेम के माध्यम से ही हम किसी भी वेबसाइट को सीधे एक्सेस कर पाते हैं। अगर मैं आपको इससे भी आसान शब्दों में समझाने की कोशिश करूँ तो यह इस प्रकार से आप समझ सकते हैं, जैसे कि हमारा सबका घर का एक एड्रेस/Address होता है, ठीक उसी प्रकार इंटरनेट की दुनिया में भी डोमेन नाम किसी भी वेबसाइट का पता ही होता है, जिसे हम web address कहते हैं। 

ये भी पढ़ें 

आइए अब मैं आपको बता दूं कि डोमेन नाम की शुरुआत कैसे हुई। शुरुआती दौर में जब वेबसाइट का डेवलपमेंट हुआ था उस वक्त जो डोमेन नेम था वो उसका IP Address होता था जो इस प्रकार से था जैसे 114.2225.1232.2.1 या 123.1234.123.1.1 इनको याद रखने में बहुत दिक्कत आती थी, हर कोई इस तरह के वेब एड्रेस को याद नहीं रख पाता था। जैसे-जैसे वेबसाइटों की संख्या बढ़ने लगी तब इन IP एड्रेस को याद रखने में ज्यादा दिक्कत आने लगी। आप एक अंदाज़ा लगा सकते हैं की आज किसी भी वेबसाइट का IP एड्रेस 123.1234.123.1.1 ऐसा होता तो आपको कितनी दिक्कत होती। अगर फेसबुक का एड्रेस 123.1234.123.1.2  होता तो आपके लिए बहुत दिक्कत होती है इनको याद रखना। इसी नंबर सिस्टम की समस्या से निजात पाने और कुछ नया करने के लिए DOMAIN NAME SYSTEM यानि DNS नामक एक नई युक्ति का इज़ाद किया गया। पहली बार DNS जारी करने का काम America की कंपनी ICANN(Internet Corporation of Assigned Names and numbers) ने किया। 



कैसे काम करता है डोमेन?
DNS यानि Domain Name System इसे हम हिंदी में डोमेन नाम विधि भी कहते हैं। हम इंसान किसी भी डोमेन नाम को आसानी से याद रख सकते हैं। डोमेन IP Address का ही एक रूप होता है। हम बेशक कंप्यूटर पर वेबसाइट को उसके डोमेन नाम से लिखते हैं लेकिन कंप्यूटर का algorithm उसको नंबर सिस्टम में ही read करता है। जैसे ही कोई यूजर ब्राउज़र के address bar में वेब एड्रेस/डोमेन नाम टाइप करता है, वो Server पर जाकर IP Address में बदल जाता है। 


डोमेन नाम कितने प्रकार के होते हैं?
डोमेन नाम सामान्यत तीन प्रकार के होते हैं। Top/First Level, Second Level, Third Level.

Top/First Level Domain/टॉप लेवल डोमेन्स
टॉप लेवल Domain Name की वैल्यू सबसे ज्यादा होती है, Google search engine और दुसरे search engine Top Level Domains को ज्यादा प्रार्थमिकता देते है। यहाँ हम आपको Top Level Domains के कुछ उदहारण दे रहे हैं, जैसे :
.Com (Commercial sites)
.Org  (Organization sites)
.Biz   (Business sites)
.Edu  (Education sites)
.Gov (Government sites)


सेकंड लेवल डोमेन Country Code Top Level Domain (CcTLD) होते हैं।
Country Code टॉप लेवल डोमेन भी एक तरह का Top Level Domain ही है, बस फरक इतना है की अगर आप इस लेवल के डोमेन को खरीदते है तो कोई भी देख के बता सकता है, की आपकी वेबसाइट किस देश की है, या किस देश की  है? Country Code लेवल डोमेन्स तब चुनते है, जब आपका टारगेट एक पूरा देश हो। यहाँ कुछ उदहारण दे रहे हैं Country Code टॉप लेवल डोमेन के। 
.in (India)
.us (United States)
.br (Brazil)
.uk (United kingdom)

थर्ड लेवल डोमेन/Third Level
थर्ड लेवल डोमेन सेकंड लेवल डोमेन से पहले आता है, इसे हम सब-डोमेन (Sub-domain) भी कहते है।  सब-डोमेन आप फ्री मे भी बना सकते है। इसके लिए आपको डोमेन नाम खरीदने की जरुरत नहीं होती। अगर आपके पास एक डोमेन है, तो आप उसका सब-डोमेन आसानी से बना सकते है। जैसे की हम अगर अपनी वेबसाइट gyan.lshometech.com इसमे gyan हमारा सब-डोमेन है। 



अगर आप भी अपनी खुद की वेबसाइट बनाना चाहते है तो आपको भी Domain name खरीदना होगा, इसे आप Domain name सर्विस प्रोवाइडर से खरीद सकते हैं, इसके लिए आपको उनकी कीमत चुकानी पड़ेगी, इनकी कीमत आपके डोमेन नेम के हिसाब से होती है, जो ज्यादा नहीं होती। यहाँ पर हम कुछ domain name service provider की लिस्ट दे रहे हैं। 

  • Bigrock.co
  • GoDaddy.com
  • Domain.com
  • Name.com
  • Namecheap.com
  • HostGator.in
  • Znetlive.com
  • eWeb Guru.com
दोस्तों आशा करता हूँ आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। अगर हमारे द्वारा दी गई जानकरी अच्छी लगी तो इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक Share करे तथा इस आर्टिकल संबंधी अगर किसी का कोई भी सुझाव या सवाल है तो वो हमें जरूर लिखें।

Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma

Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…