कहाँ-कहाँ इस्तेमाल होता है डिजिटल आर्ट? जानिए विस्तार से। Fields of Digital Art to be use - LS Home Tech

Home Top Ad

Post Top Ad

Thursday, December 26, 2019

कहाँ-कहाँ इस्तेमाल होता है डिजिटल आर्ट? जानिए विस्तार से। Fields of Digital Art to be use

दोस्तो नमस्कार, हमारे इस वेब पोर्टल पर आपका स्वागत है, इस Portal पर हम Technology ओर Education से जुड़े आर्टिकल लिखते है, जो सामान्य-ज्ञान और किसी भी परीक्षा की तैयारी हेतु आपके लिए बड़े ही उपयोगी और ज्ञानवर्धक होते हैं। आज हम जानेंगे की डिजिटल आर्ट कहाँ-कहाँ इस्तेमाल होता है। पूरी जानकारी लेने के लिए पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।  

अगर आप भी डिजिटल आर्ट में इंटरस्ट/रूचि रखते हैं, तो अनेक प्रकार के कोर्स करके इस फिल्ड में प्रवेश कर सकते हैं, और जीवन में एक अच्छा मुकाम हासिल कर सकते हैं। यह एक ऐसा फिल्ड है जिसमे बहुत सारे करियर विकल्प हैं। इस प्रकार का कोर्स करने के बाद छात्रों को वेबसाइट डिज़ाइन, किताबे, पत्रिका, कंप्यूटर ग्राफिक, प्रोडक्ट डिजाइनिंग, कॉर्पोरटे सेक्टर, एडवर्टईजिंग, पोस्टर, बैनर, कार्ड डिज़ाइनर जैसे बहुत तरह के जॉब मिल सकते हैं। या फिर आप अपना फोटो स्टूडियो भी खोल सकते है।

Fields of Digital Art to be use


कहाँ-कहाँ इस्तेमाल होता है डिजिटल आर्ट?
डिजिटल आर्ट/Digital Art का दायरा क़ाफी विस्तृत है, इसका प्रयोग आजकल ग्राफिक डिजाइनिंग/Graphic Design, गेमिंग/Gaming, प्रिंटिंग/Printing, मिडिया/Media(Photo, Video), पैकेजिंग/Packaging, प्रोडक्ट डिजाइनिंग/Product Designing, कंप्यूटर ग्राफिक/Computer Graphics 2D विसुअल आर्ट/Visual Art, 3D विसुअल आर्ट जैसे विभिन्न प्रकार के उत्पादों में या उनके निर्माण में प्रयोग किया जाता है। 

ग्राफिक डिजाइनिंग/Graphic Designing  
ग्राफिक डिजाइनिंग के लिए कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर का प्रयोग करके बहुत से काम किये जाते हैं जैसे की -लोगो डिजाइनिंग, प्रोडक्ट पैकेजिंग, फिल्म स्टूडियो ग्राफ, फोटो एल्बम/ वेबसाइट पेज डिज़ाइनिंग आदि के लिए काम किया जाता है। 

डिजिटल आर्ट क्या होता है?

गेमिंग आर्ट/Gaming Art 
आजकल वीडियो गेमिंग/Video Gaming का काम सबसे शिखर पर है, किसी भी मोबाइल या कंप्यूटर के लिए गेम डिज़ाइन करने के लिए डिजिटल आर्ट का इस्तेमाल होता है, जिसमे आप अपने गेम के अनुसार कोई भी करैक्टर डिज़ाइन कर सकते हैं। गेमिंग डिजाइनिंग में 3DS मैक्स/3DS MAX, माया/Maya, हुडिनी/Hudini, ब्लैंडर/Blander जैसे काफी तरह के सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है। डिजिटल आर्ट में गेमिंग इंडस्ट्री का कारोबार सालाना अरबों डालरों का होता है और ये हर दिन नए कृतिमान स्थापित कर रहा है। 

प्रिंटिंग/Printing   
आजकल पब्लिकेशन का सारा काम डिजिटली ही किया जाता हैं जिनमे न्यूज़ पेपर/New paper, मैगजीन बुक पब्लिश, बुक डिज़ाइन प्रिंटिंग, शादी कार्ड/Wedding Card, कैलेंडर/Calendar, पोस्टर/Poster, पम्पलेट/Pumplet आदि शामिल होते हैं। 

मिडिया/Media  
इनमे डिजिटल आर्ट का इस्तेमाल बढ़-चढ़कर सबसे ज्यादा मीडिया में किया जाता है। इन मिडिया के अंतर्गत प्रिंट मिडिया, चैनल मिडिया, न्यूज़ मिडिया आते हैं जो सूचनाओं और ख़बरों को डिजिटल आर्ट के माध्यम से लोगो तक पहुंचाते हैं। प्रिंट मिडिया के अंतर्गत न्यूज़ पेपर मैगजीन बुक पब्लिश ,बुक डिज़ाइन प्रिंटिंग आदि आते है। वहीँ चैनल मिडिया के अंतर्गत अलग-अलग टीवी चैनल आते है और न्यूज़ मिडिया के अंतर्गत ख़बरों से सम्बंधित चैनल जैसे जी न्यूज़/ZEE News,आजतक/AAJTAK, एनडीटीवी/NDTV इत्यादि आते हैं। 

पैकेजिंग/Packaging  
आधुनिक युग में  प्रोडक्ट को ज्यादा आकर्षक बनाने के लिए डिजिटल आर्ट का प्रयोग काफी होता है। इससे कोई भी ज्यादा लुभावना लगता है और प्रोडक्ट की ज्यादा बिक्री होने के चांस होते हैं। आप कोई भी सस्ते से सस्ती पैकिंग भी देखेंगे तो उस पर आपको लुभावने इलस्ट्रेटर/Illustrator या तस्वीरें मिलेंगी।  

प्रोडक्ट डिजाइनिंग/Product Designing 
आजकल कोई भी कंपनी अपने किसी भी उत्पाद/Product को बाजार में लेन से पहले उस प्रोडक्ट का डिज़ाइन तैयार करवाती है, ताकि वो दिखने में बेहतर होने के साथ अच्छी गुणवत्ता से युक्त भी हो। या तो कम्पनी अपने प्रोडक्ट का डिज़ाइन खुद तैयार करती है, या फिर यो डिज़ाइन को किसी डिजिटल आर्ट प्रोफेशनल फर्म से बनवाती है।  

कंप्यूटर ग्राफिक/Computer Graphic 2D, 3D Modeling 
3D डिज़ाइन कंप्यूटर सॉफ्टवेयर से बना वो मॉडल होता है जीसके हम तीनो आयामों/Dimensions को देख सकते हैं, इसमें उस प्रोडक्ट या करैक्टर की लम्बाई, चौड़ाई और ऊंचाई तीनो आयामों का अहसास होता है। इसका इस्तेमाल ज्यादातर गेम डिज़ाइन और कार्टून एनीमेशन बनाने के लिए होता है, आजकल इसके बेस पर बहुत सी फिल्मों का निर्माण भी हो रहा है।   
2D ग्राफिक वो ग्राफिक होते हैं जिसमे दो आयामी अक्स ही आपको दिखाई देता है। इसमें लम्बाई और चौड़ाई ही शामिल होती है। इसमें आप कार्टून/Cartoon करैक्टर, सामान्य टेक्स्ट, लोगो या प्रोडक्ट कवर/Cover डिजाइन कर सकते हैं।  

डिजिटल आर्ट कोर्स कहाँ से करें।
ग्राफिक डिज़ाइनिंग के क्षेत्र में कई प्रकार के कोर्स मौजूद है। इसमें से कुछ कोर्स 6 महीने से लेकर 4 साल तक के डिग्री कोर्स तक होते हैं। इसके लिए छात्रों को कम से कम 12 वीं  पास होना आवश्यक है। ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट छात्रों के लिए भी ये कोर्स मौजूद है। डिजिटल आर्ट के अंतर्गत छात्रों के लिए अनेक प्रकार के कोर्स होते हैं। 

Course Name : 

  • ग्रेजुएट डिप्लोमा इन डिजाइन
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन डिजाइन
  • विजुअल कम्युनिकेशन डिजाइन
  • एप्लाइड आर्ट्स ऐंड डिजिटल आर्ट्स
  • प्रिंटिंग ऐंड मीडिया इंजीनियरिंग
  • बैचलर इन फाइन आर्ट्स
  • एनिमेशन 

दिल्ली कोलकाता, बैंग्लोर, हैदराबाद जैसे बड़े सिटी में ये कोर्स आसानी से उपलब्ध होते हैं। वहीँ आजकल लगभग सभी कॉलेज और विश्वविधालय में या प्राइवेट संसथान में भी ये कोर्स उपलब्ध होते हैं। 

भारत के कुछ प्रमुख संस्थान 

  • नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ डिज़ाइन ,अहमदाबाद
  • इंडस्ट्रियल डीजाइन  सेंटर, मुंबई
  • डिपार्टमेंट ऑफ़ डिज़ाइन ,गुहाटी
  • आई आई टी ,गुहाटी
  • आई आई टी, मुंबई

तो दोस्तो आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमें जरूर लिखे, आप पोस्ट के नीचे Comment Box  में अपनी प्रतिक्रियाएं ओर अगर कोई सुझाव है तो वो भी लिख कर भेज सकते हैं। साथ ही आप हमें हमारे द्वारा प्रकाशित नए लेख पढ़ने के लिए Subscribe भी कर सकते हैं।

Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma
My YouTube : Home Design !deas





No comments:

Post a Comment

Featured Post

5G टेक्नोलॉजी के फायदे और नुकसान। Advantages and Disadvantages of 5G Technology.

जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी का विकास होता जा रहा है, टेक्नोलॉजी हमारे जीवन को समृद्ध बना रही है, इसके बहुत से फायदे होने के साथ ही कुछ नुकसान भी ...

Contact Form

Name

Email *

Message *

Newsletter

Advertisement

Post Top Ad

Your Ad Spot