Skip to main content

Google का आविष्कार किसने किया था? Who invent Google Search Engine?

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम गूगल/Google के आविष्कार की जानकारी आपके लिए लाये हैं। कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।
Google का आविष्कार किसने किया था? Who invent Google Search Engine?

दोस्तों इंटरनेट आज के युग में सबसे महत्वपूर्ण चीज बन गई है, और आधुनिक जीवन का बहुत सारा काम इंटरनेट पर ही टिका हुआ है। और जब बात इंटरनेट की आती है तो इंटरनेट पर किसी भी प्रकार की जानकारी प्राप्त करने के लिए हम सबसे पहले गूगल की मदद लेते हैं। हम किसी भी प्रकार की जानकारी इंटरनेट से पा सकते हैं, लेकिन कुछ  जानकारियों तक हम सीधे जा सकते हैं वहीँ जब हम कुछ ढूंढ रहे हो और वो हमें मिल ना रहा हो तब हम Google Search की मदद लेते हैं। अब सवाल उठता है कि आखिर ये गूगल है क्या इसे किसने बनाया था जो आज ये इंटरनेट का अभिन्न अंग कैसे बन गया ? 

Who invented Google
दरअसल गूगल एक सर्च इंजन है जिसके नाम से आज Google कंपनी मशहूर है, और ये दुनिया का सबसे बड़ा Search Engine है। Google सर्च इंजन के माध्यम से हम इंटरनेट पर कोई भी जानकारी बहुत ही आसानी से पा सकते हैं। जब हम Google सर्च में कुछ Text लिखते हैं तो वो हमारे सामने बहुत सारे विकल्प उपलब्ध करवाता है, जिनमे से हम उपयुक्त लगने वाली जानकारी को पा सकते हैं। आपको ये भी बता दें कि पहले Google का नाम शुरुआत में Googol रखा गया था, लेकिन बाद में इस नाम को बदलकर Google कर दिया गया। Googol का मतलब होता है 1 के पीछे 100, जल्दबाजी में हुई  स्पेल्लिंग की गलती की वजह से इसका नाम Google बन गया। आज Google दुनिया की बहुत सी जानकारी अपने पास रखता है। 

Google का आविष्कार किसने किया था? Who invent the Google?
आइये अब आते हैं मूल जानकारी की और, दुनिया के सबसे मशहूर Search इंजन की खोज या इसको विकसित करने का श्रेय सेर्गी ब्रिन/Sergry Brin और लेर्री पेज/Larry Page को जाता है। इन दोनों ने मिलकर साल 1998 में इसे डेवॅलप किया था। सेर्गी ब्रिन/Sergry Brin और लेर्री पेज/Larry Page दोनों ही कंप्यूटर साइंटिस्ट थे इनकी मुलाकात Stanford University में हुई थी। उनकी इस मुलाकात के बाद दोनों ने मिलकर जनवरी 1996 में Search Engine के बारे में एक कंप्यूटर प्रोग्राम बनाना शुरू किया जिसका नाम उन्होंने Backrub रखा। इस प्रोग्राम के पूरा होने के बाद उन्होंने एक और नए प्रोग्राम पर काम शुरू किया, शुरुआत में उनका प्रोग्राम इतना अच्छा नहीं बना, इसके बाद उन्होंने थोड़ी और मेहनत करके इस और अच्छा बनाया। लेकिन इस प्रोग्राम के Licence के लिए दोनों के पास उतने पैसे नहीं थे जिससे वो उस प्रोग्राम का लाइसेंस ले सकें। पैसे जुटाने के लिए वो दोनों इस प्रोग्राम का Demo लेकर Sun Microsystem कंपनी के Co-Founder Andy Bechtolsheim के पास गए। Andy Bechtolsheim ने उनके डेमो को देखकर ही उनको 1 लाख डॉलर का चैक दे दिया। उसके बाद दोनों ने कैलिफ़ोर्निया/California के Menlo Park में अपना ऑफिस खोल लिया, और Google.com के नाम से इसे 4 जनवरी 1998 को लांच किया गया। 

उस वक़्त Google केवल 10,000 Queries ही सर्च देता था। उसके बाद गूगल को अन्य  10 भाषाओँ में बनाया गया। प्रति वर्ष गूगल पर सर्च की संख्या अरबों में बढ़ रही है। प्रति सेकंड गूगल पर 65 से 70 हज़ार के करीब सर्च किये जाते हैं।

Google Mobile
आज के दिन Google इंटरनेट से जुड़ी दुनिया की सबसे बड़ी विश्वव्यापी कंपनी है।  

Google के बारे में कुछ विशिष्ट जानकारी। 

  • गूगल अपनी शुरुआत में सिर्फ 10000 प्रश्नो के ही उतर देता था। 
  • गूगल 4 बिलियन प्रयोगकर्ताओ को 123 भाषाओं में 160 देशो तक पहुँचता है। 
  • गूगल 2 ट्रिलियन प्रश्नों का उतर देने में सक्षम है। 
  • 20 % लोग गूगल पर वॉइस/Voice सर्च का उपयोग करते है। 
  • गूगल पर मोबाइल से डेस्कटॉप के मुकाबले ज्यादा जानकारियां सर्च की जाती है। 
  • गूगल एक प्र्शन का उतर देने में 1000 कंप्यूटर और 0.2 सेकंड लगाता है। 
  • गूगल एक उतर को लाने में 1500 मील का सफर तय करती है, डाटा सेण्टर जाकर आने में
  • गूगल हर सेकंड 4000 प्रश्न खोज रहा होता है। 
  • 16 से 20 % प्रश्न गूगल में पहली बार पूछे जा रहे होते है। 
  • गूगल का चीन में 10.89 % की हिस्सेदारी है सर्च इंजन मार्किट में। 
  • अल्फाबेट/Alphabet जो की गूगल की पैरेंट कंपनी है, उसका मार्किट कैपिटलाइजेशन 851.3 बिलियन डॉलर है। 
  • गूगल में 89058 से भी ज्यादा कर्मचारी काम करते है। 
  • 56 % लोग मातृत्व से जुडी हुई जानकारी सर्च करते है अपने मोबाइल से। 
  • गूगल पर लगभग 50% सुरक्षित सर्च की जाती है। 
  • 56% गूगल पर खुद को भी सर्च करते है। 
  • स्वास्थ पर सबसे ज्यादा सर्च Cook Island के लोग करते है। 
  • सबसे ज्यादा स्वास्थ से जुड़ा हुआ Text जो सर्च किया जाता है वो है how to eat healthy
  • स्वास्थ पर सबसे कम सर्च इटली/Itley के लोग करते है। 
  • गूगल से 2013 सितम्बर को 21.5 बिलियन यूआरएल/URL हटाने को कहा गया था। 


तो दोस्तो आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमें जरूर लिखे, आप पोस्ट के नीचे Comment Box  में अपनी प्रतिक्रियाएं ओर अगर कोई सुझाव है तो वो भी लिख कर भेज सकते हैं। साथ ही आप हमें हमारे द्वारा प्रकाशित नए लेख पढ़ने के लिए Subscribe भी कर सकते हैं।



Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma
My YouTube : Home Design !deas

हमारे द्वारा लिखित और आर्टिकल यहाँ पढ़ें :



Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…