Skip to main content

रिमोट कण्ट्रोल क्या है और कैसे काम करता है? What is remote control and how does it work?

LSHOMETECH के सभी पाठकों को नमस्कार, दोस्तों हमारी इस वेबसाइट पर आपको Technology और Education से जुड़ी हर प्रकार की जानकारी मिलेगी। मेरा आर्टिकल लिखने का मकसद ही यही है कि मैं आप लोगों को हिंदी भाषा में बिलकुल सरल तरिके से समझा सकूं। आज की इस पोस्ट में हम एक ऐसी चीज के बारे में जानेंगे, जिसका टेक्नोलॉजी के बदलाव में बहुत ही बड़ा योगदान है, जी हाँ आज हम बात करने वाले हैं Remote Control के बारे में, आज के जमाने में शायद ही ऐसा कोई घर बचा हो जहाँ पर किसी न किसी तरह का रिमोट ना हो यानि हर घर में रिमोट जरूर मिल जायेगा। Remote Control ने बहुत सी चीजों के इस्तेमाल को आसान बना दिया है, इसका इस्तेमाल हर प्रकार की Electronics डिवाइस में होता है जैसे की TV, AC, Set Top Box और हर प्रकार के Media Player के साथ और आजकल तो Light भी रिमोट कण्ट्रोल से चलने वाली आ गयी हैं। Remote Control के मदद से आप एक ही जगह पर बैठे बिना हिले ही सभी चीज़ों को कण्ट्रोल कर सकते हैं, हमें Physically किसी भी Object को छूने की जरुरत ही नहीं होती है, हम उनको अपने Voice, Infrared Signal या Radio Signal से कण्ट्रोल कर सकते हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक Remote Control का सबसे ज्यादा इस्तेमाल TV देखते वक़्त किया जाता है। आप भी जरूर सोच रहे होंगे की आपके घर में कितने रिमोट हैं, कोई बात नहीं आप जरूर गिनिए, लेकिन आपको रिमोट से जुड़ी हर प्रकार की जानकारी हम इस पोस्ट में देने वाले हैं , जैसे की- रिमोट कण्ट्रोल क्या है और कैसे काम करता है? What is remote control and how does it work?, Remote Control Kya Hai-Hindi तो पोस्ट को पूरा जरूर पढ़िए, और जानकारी अच्छी लगे तो इसे दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिये। 
Universal Remote Control

रिमोट कंट्रोल क्या है? What is Remote Control?  in Hindi
Remote Control किसी भी Electronic डिवाइस की एक Accessory होती है, या होता है, जिसका इस्तेमाल हम उस डिवाइस को दूर से Operate करने के लिए करते हैं, जैसे की- Home Appliances like TV, DVD Player, AC, Microwave, Audio Player, Digital Lighting और इनके साथ इसका प्रयोग Industrial फील्ड की बहुत सी मशीनों को Operate करने में किया जाता है। Remote का अर्थ होता है दूर, इसलिए इसे किसी भी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को दूर से ही काम करवाने हेतु बनाया गया है। आजकल तो बहुत से ऐसे डिवाइस आ रहे हैं जो केवल Remote Control से ही चलते हैं, उनमे Manual ऑपरेटिंग के लिए कोई बटन ही नहीं होता। आजकल रिमोट कण्ट्रोल में उनके प्रयोग के अनुसार कई तरह की टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है, जैसे की Infrared, Radio Waves, Bluetooth, Wi-Fi इत्यादि। आप अपने मोबाइल को भी आधुनिक तकनीक की मदद से किसी भी डिवाइस के लिए रिमोट कण्ट्रोल बना सकते हैं। 
पहला रिमोट कण्ट्रोल कैसा था? How was first Remote Control?
दुनिया का पहला Remote Control साल 1950 में बनाया गया था, तब असल में ये रिमोट नहीं था, क्यूंकि इसे Wire की मदद से Connect किया जाता था, लेकिन इस तरिके ने Wireless रिमोट बनाने के दरवाजे खोल दिए थे। आजकल ज्यादातर घेरलू रिमोट में Infrared Beam का इस्तेमाल होता है, वहीँ कुछ स्पेशल काम के लिए बनाये गए रिमोट में दूसरी तरह की Wireless Technology यूज़ की जाती है। 

साल 1970 में Infrared Remote Control को Invent किया गया था। इस प्रकार के रिमोट कण्ट्रोल में इंफ्रारेड लाइट और Photo Receptor टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है, और अलग-अलग Function के लिए अलग-अलग Light Frequency का इस्तेमाल किया जाता है। ये सभी रिमोट किसी भी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को सिग्नल भेजने के लिए Invisible Light Beam का इस्तेमाल करते हैं। 

रिमोट कंट्रोल के प्रकार/Types of Remote Control. 
अब बात आती है कि Remote Control कितने प्रकार के होते हैं? तो आइये आपको इसकी भी जानकारी दे देते हैं। Remote Control को मुख्य रूप से तीन Category में विभाजित किया गया है, जो हैं IR/Infrared Remote Control, RF/Radio Frequency Remote Control और Voice Controlled Remote Control. तो आइये इन सभी के बारे में जान लेते हैं। 

IR/Infrared Remote Control
आमतौर पर हमारे घर के सभी रिमोट इसी तकनीक का इस्तेमाल करते हैं, जो कि Infrared Beam या Signal के द्वारा काम करते है। इस प्रकार के रिमोट तभी काम करते हैं जब Signal Receiver इंफ्रारेड लाइट के बिलकुल सीध में हो। उदाहरण के लिए, हमारे TV Set में जिस Remote Control का इस्तमाल होता है, वो एक IR/Infrared Remote Control होता है, जिसको Operate करते वक़्त इसे Receiver की तरफ Aim करना होता है, जिससे की इसके Signals के जाने में कोई तकलीफ न हो क्यूंकि Infrared Signals में Directional Feature होता है, जिसके Light Beam सीधी रेखा में ही Travel करती हैं। IR/Infrared Remote Control की कीमत बाकि रिमोट की तुलना में काफी कम होती है, और Multi Function के लिए इसे आसानी से Encode भी किया जा सकता है। 

इंफ्रारेड रिमोट कैसे काम करता है? How does infrared remote work?
इस प्रकार के रिमोट में Light का इस्तेमाल Signals को Carry करने के लिए किया जाता है। Infrared light को Plain-Old Heat भी कहा जाता है। IR/Infrared Remote Control लाइट के Binary कोड को Pulses के द्वारा Send करता है, जिनमे अलग-अलग Commands हो सकते हैं, जैसे की-  Power On/Off , Volume Up/Down या फिर अन्य Operation जो की भी IR रिमोट से किये जा सकते हैं, उन सभी Pulses को एक Receiver जो की आपके द्वारा कण्ट्रोल किये जाने वाले डिवाइस में लगा होता है, ये इन Light Pulses को डिवाइस में स्थित Microprocessor फिर से Binary Code में Decode कर देता है और आपके द्वारा दी गई कमांड को किर्यान्वित करता है। 

RF/Radio Frequency Remote Control
इस टेक्नोलोग्य से युक्त रिमोट कण्ट्रोल का इस्तेमाल किसी भी दूरवर्ती/Distant Object को कण्ट्रोल करने के लिए किया जाता है। इसके द्वारा बहुत प्रकार के Radio सिग्नल को भेजकर किसी भी डिवाइस को कण्ट्रोल किया जा सकता है। इनका सबसे ज्यादा इस्तेमाल Automatic Barrier System, Gate Opener, Electric Garage Door, Burglar Alarm और Industrial Automation System में किया जाता है। इस प्रकार के रिमोट कण्ट्रोल की कीमत थोड़ी ज्यादा होती है, क्यूंकि इसकी Circuit प्रणाली थोड़ी जटिल होती है। इस रिमोट से आप किसी बी डिवाइस को लम्बे डिस्टेंस से भी ऑपरेट कर सकते हैं।  इस रिमोट की प्रवेश/Penetration क्षमता काफी मजबूत होती है।  

कैसे काम करता है RF रिमोट?How does RF remote work?
इस प्रकार के रिमोट Light Signal के बदले Radio Waves को Transmit करते हैं, जो की Binary कमांड को Correspond करता है। जब आप इस रिमोट से कोई भी बटन दबाते हैं तो एक Radio Receiver जो की कण्ट्रोल की जाने वाली डिवाइस में लगा होता है, भेजे गए सिग्नल को Decode करता है, और जिस काम के लिए बटन को दबाया जाता है उसे कर देता है। Radio Signal खुली हवा के माध्यम से Travel करते हैं, ये सिग्नल दिवार के पार और लम्बी दुरी तक काम करते हैं। RF रिमोट इस Interference को पहचानने के लिए उन्हें Specific RF में भेजता है, और Radio Signal में Digital Address Codes को Embedded भी करता है। Intended Device में लगा Radio Receiver पता करता है, की कब Signal को Respond करना है, और कब Ignore करना है। 

Voice Controlled Remote 
इस प्रकार के रिमोट कण्ट्रोल को Ultrasonic Remote Control भी कहा जाता है। इस तरह के रिमोट का इस्तेमाल आजकल की डिजिटल टीवी/Digital TV Fire-stick में किया जाता है और Street Light Switch, Staircase Corridor में भी किया जाता है। इन रिमोट कण्ट्रोल की कार्यप्रणाली बहुत ही सिंपल होती है, जो की किसी भी Voice के हिसाब से काम शुरू या बंद करते हैं। उदहारण के लिए अगर आप Digital TV Fire-stick का इस्तेमाल कुछ प्रोग्राम देखने के लिए करते हैं तो आपको इंटरनेट से कुछ भी प्रोग्राम देखने के लिए बस रिमोट के Mic के पास कुछ बोलना होता है, और वो उसे ही सर्च कर आपकी स्क्रीन पर दिखा देता है। 

यूनिवर्सल रिमोट क्या होता है?What is a universal Remote?
Universal Remote एक ऐसा रिमोट होता है जिसके द्वारा हम हैं अपने कई डिवाइस को कण्ट्रोल कर सकते हैं। किसी भी Specific डिवाइस के साथ उसका Specific रिमोट कण्ट्रोल आता है, वहीँ Universal रिमोट को आप अलग से ले सकते हैं और उसे लगभग अपने सभी रिमोट से कण्ट्रोल होने वाले डिवाइस के लिए प्रयोग कर सकते हैं। इसे प्रयोग करने में नए यूजर थोड़ा बहुत Confuse हो सकते है क्यूंकि इसमें बटन कुछ ज्यादा होते हैं और किसी भी Device के साथ इसे Merge करने में भी थोड़ा वक़्त लग सकता है। आजकल लोग इस तरह के रिमोट का इस्तेमाल ज्यादा ही कर रहे हैं, क्यूंकि हर घर में रिमोट से कण्ट्रोल होने वाले एक से अधिक डिवाइस मौजूद होते हैं। तो चलिए इस रिमोट की कुछ खूबियों के बारे में जान लेते हैं। 

Universal Remote के फायदे। 

  • किसी भी आम रिमोट की तुलना में इसमें ज्यादा फंक्शन्स होते हैं। 
  • अलग-अलग Device के लिए अलग-अलग रिमोट रखने की आवश्यकता नहीं होती। 
  • ये रिमोट Advance Technology से युक्त होते हैं। 
  • इन रिमोट पर Obstacle का कोई असर नहीं पड़ता। 
सामान्य Remote Control के advantages और Disadvantages

Advantages Of Remote 
Remote सभी लोगों के लिए किसी भी इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस को Operate करने के लिए आसान बनाता है।
विकलांग व्यक्तियों के लिए तो रिमोट सबसे अच्छी चीज है, ताकि वो किसी चीज को ऑपरेट आसानी से Operate कर सकें। 

Disadvantages Of Remote 
अगर Remote और Receiver के बिच कोई Obstacles हो तब इससे Transmission में Difficulty पैदा हो सकती है। 
इन्हें चलने के लिए External Batteries की जरुरत पड़ती है। 

तो दोस्तों आशा करता हूँ की आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आयी होगी। अगर इससे सम्बंधित आप कोई सलाह या सुझाव हमें देना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आप हमारे दूसरे आर्टिकल के लिए हमें सब्सक्राइब भी कर सकते हैं। आप हमें कमेंट करके बता भी सकते हैं कि आपको किसी विषय पर हमारी वेबसाइट पर जानकरी चाहिए, हम जल्द से जल्द वो जानकारी हमारी वेबसाइट पर आपके लिए उपलब्ध करने की कोशिश। हमारी इस जानकारी को दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद 
Join us :
My Facebook:  Lee.Sharma

हमारे और आर्टिकल यहाँ पढ़ें:

Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…