29 दिसम्बर 2018 से लागू होने वाले ट्राई के नए नियम क्या हैं? TRAI new rule for Cable and DTH. - LS Home Tech

Home Top Ad

Post Top Ad

Friday, December 28, 2018

29 दिसम्बर 2018 से लागू होने वाले ट्राई के नए नियम क्या हैं? TRAI new rule for Cable and DTH.

दूरसंचार नियामक ट्राई TRAI (Telecom Regulatory Authority of India) की नई गाइडलाइंस के आधार पर कहा जा रहा है कि 29 दिसंबर से केबल टीवी (Cable TV) और डीटीएच (DTH) महंगे हो सकते हैं,और कुछ मामलों में ये बढ़ोतरी 50% तक हो सकती है। 

Tata sky new price
दूरसंचार नियामक ट्राई (TRAI) की नई गाइडलाइंस के आधार पर कहा जा रहा है कि 29 दिसंबर 2018 से केबल टीवी (Cable TV) और डीटीएच (DTH) महंगे हो जाएंगे और कुछ मामलों में ये बढ़ोतरी 50% तक होगी. हालांकि कुछ दूसरे लोगों का कहना है कि ऐसा कुछ नहीं होगा और नए नियमों से आपको कम पैसे चुकाने होंगे. आइए पहले जान लें कि ट्राई की गाइडलाइंस क्या हैं। अब लोगों को सिर्फ उन्हीं चैनलों के लिए भुगतान करना होगा, जिन्हें वे देखना चाहते हैं। फ़िलहाल जो सिस्टम चल रहा है उसमे ब्रॉडकास्टर्स पैकेज में अपने हिसाब से चैनल देते हैं, यानी आपको अपना मनपसंद चैनल देखने के लिए कुछ ऐसे चैनल्स के लिए भी पैसे देने पड़ रहे हैं, जो आप कभी भी नहीं देखते। 

क्या हैं TRAI के नए नियम
TRAI की नई गाइडलाइंस के मुताबिक टीवी दर्शकों को 100 फ्री टू एयर चैनल मिलेंगे। इनमें से 26 चैनल तो दूरदर्शन के होंगे बाकी 74 चैनल और होंगे। कहने का मतलब ये है की अब फ्री टू एयर कुछ भी नहीं रहा, इसके लिए उन्हें टैक्स हटाकर 130 रूपये का भुगतान करना होगा। इसके अतिरिक्त अपने मनपसंद चैनल को देखने के लिए तय राशि का भुगतान करना होगा। सभी प्रमुख ब्रॉडकास्टर्स जो केबल ओर डीटीएच सर्विस देते हैं सभी ने अपने पैकेज एनाउंस किए हैं। सोनी पिक्चर नेटवर्क का एचडी पैकेज 90 रुपये में मिल रहा है, जी इंटरटेनमेंट के पैकेज 45 रुपये से और स्टार इंडिया के पैकेज 49 रुपये से शुरू हो रहे हैं। 


ट्राई ने सभी केबल और डीटीएच ऑपरेटर्स से कहा है कि वह टीवी दर्शकों को अपने वेबसाइट के जरिए चैनल चुनने और ऑनलाइन पेमेंट की सुविधा उपलब्ध कराएं। वेबसाइट पर चैनलों की सूची कीमत के साथ उपलब्ध होगी। इसके अलावा उपभोक्ता कॉल सेंटर के जरिए भी चैनल चुन पाएंगे।


क्या होगा इंस्टॉलेशन चार्ज!
TRAI के नए नियमों के मुताबिक अब देश भर में चैनल का शुल्क एक ही होगा। यानी अब रीजनल प्राइजिंग नहीं की जा सकती। यदि किसी चैनल की एमआरपी 19 रुपये से अधिक है तो उसे किसी पैकेज में शामिल नहीं किया जा सकता। उस चैनल को अलग से खरीदना होगा। नए नियम के अनुसार ब्राडकास्टर 90 दिन से अधिक के लिए प्रमोशनल ऑफर भी नहीं दे सकते हैं। नए ग्राहकों से वन टाइम इंस्टॉलेशन चार्जेज के तौर पर 350 रुपये से ज्यादा नहीं लिए जा सकते। इसी तरह एक्टिवेशन चार्ज 100 रुपये से अधिक नहीं होगा। इस तरह देखा जाए तो ग्राहकों के लिए सुविधाएं कुछ न कुछ बढ़ी ही हैं। लेकिन ऐसा सिर्फ चुनिंदा चैनल देखने वाले ग्राहकों के लिए ही है। 


कीमत में अंतर नहीं कर सकेंगे ऑपरेटर्स
नए नियम लागू होने के बाद कोई भी केबल या डीटीएच ऑपरेटर्स चैनलों के लिए अलग-अलग चार्ज नहीं ले पाएंगे। सभी प्लेटफॉर्म पर चैनलों की सामान कीमत होगी। अगर दो अलग- अलग सर्विस प्रोवाइडर्स के उपभोक्ता एक जैसे चैनल देख रहे हैं तो उनका भुगतान भी एक जैसा ही होगा।

इलेक्ट्रॉनिक यूजर गाइड से तय होंगे हर चैनल के रेट : 

नए नियमों के मुताबिक, इलेक्ट्रॉनिक यूजर गाइड में हर चैनल के रेट तय होंगे। ट्राई के चेयरमैन आरएस शर्मा ने एक टीवी चैनल से बातचीत में कहा कि ग्राहकों पर अब जबरदस्ती पैकेज नहीं थोपे जा सकेंगे। उन्होंने कहा कि ट्राई के इस कदम से केबल ऑपरेटर और डीटीएच कंपनियों की मनमानी रुकेगी। लोग कम पैसे में पसंदीदा चैनल देखने का मजा ले पाएंगे।



कीमतों में बढ़ोतरी कैसे होगी!
अभी तक टाटा स्काई, डिश टीवी एयरटेल टीवी या फिर डेन जैसे नेटवर्क आपको पैकेज की पेशकश करते रहे हैं। अक्सर ग्राहकों को लुभाने के लिए ये आकर्षक प्रमोशनल पैकेज देते हैं। अब इस पर लगाम लग जाएगी और ग्राहकों को खुद चैनल सलेक्ट करना होगा और उसके हिसाब से ही भुगतान करना होगा। ऐसे में नए नियमों से बेसिक पैकेज की कीमत में हो सकता है कि कोई कमी न आए, या ये पैकेज थोड़ा सस्ता पड़ जाए। लेकिन मीडियम पैकेज और प्रीमियम पैकेज की लागत बढ़नी तय है। फायदा सिर्फ उन्हीं ग्राहकों को होने वाला है जो सिर्फ कुछ चैनल ही लेना चाहते हैं। लेकिन अगर आप चाहते हैं कि आपके यहां सभी चैनल आएं, तो अब निश्चित रूप से आपको ज्यादा पैसे देने होंगे। 

आपके सवाल और TRAI  के जवाब :

सवाल - नया प्लान नहीं लिया तो 29 दिसंबर से टीवी नहीं देख पाएंगे?

जवाब – नहीं, केबल या डीटीएच अचानक से ठप नहीं होगा।


सवाल – नए नियम लाने की क्या जरूरत है?


जवाब – ऑपरेटर्स दर्शकों पर जबरन सैकड़ों चैनल न थोपे इसलिए ।  


सवाल - क्या टीवी देखना महंगा पड़ने वाला है?


जवाब - चैनल देखने के आधार पर खर्च कम होने वाला है।


सवाल - सेट टॉप बॉक्स खराब हुआ तो खर्च कौन करेगा?


जवाब - 3 साल तक खराब होने पर फ्री में मेंटेनेंस होगा।


सवाल - क्या गांवों में टीवी देखना महंगा हो जाएगा?


जवाब – नहीं, आप किसी को पे चैनल देखने को मजबूर नहीं कर सकते हैं।


सवाल - अगर एडवांस पैकेज लिया है तो क्या करना होगा?


जवाब - एडवांस पैकेज ज्यों के त्यों ही चलते रहेंगे।



तो दोस्तों आशा करता हूँ की आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आयी होगी। अगर इससे सम्बंधित आप कोई सलाह या सुझाव हमें देना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आप हमारे दूसरे आर्टिकल के लिए हमें सब्सक्राइब भी कर सकते हैं। आप हमें कमेंट करके बता भी सकते हैं कि आपको किसी विषय पर हमारी वेबसाइट पर जानकरी चाहिए, हम जल्द से जल्द वो जानकारी हमारी वेबसाइट पर आपके लिए उपलब्ध करने की कोशिश। हमरी इस जानकारी को दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद 


Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma
My YouTube : Home Design !deas

हमारे और आर्टिकल यहाँ पढ़ें :


No comments:

Post a Comment

Featured Post

5G टेक्नोलॉजी के फायदे और नुकसान। Advantages and Disadvantages of 5G Technology.

जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी का विकास होता जा रहा है, टेक्नोलॉजी हमारे जीवन को समृद्ध बना रही है, इसके बहुत से फायदे होने के साथ ही कुछ नुकसान भी ...

Contact Form

Name

Email *

Message *

Newsletter

Advertisement

Post Top Ad

Your Ad Spot