Skip to main content

भारतनेट परियोजना क्या है? What is Bharatnet Project? इसके क्या-क्या फायदे होने वाले हैं।

दोस्तों नमस्कार 
                      हमारी ब्लॉग वेबसाइट पर आपका बहुत स्वागत है, प्रिय पाठको आपने भारतनेट परियोजना(BharatNet Project) का नाम तो सुना ही होगा। इसका मूल उद्देश्य क्या है? इसे कितने चरणों में पूरा किया जायेगा। आज के इस लेख में हम  इन्ही विषयों पर ही चर्चा करेंगे। कृपया लेख पूरा पढ़ें। हमारी वेबसाइट पर हम टेक्नोलॉजी और एजुकेशन से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं। हमारा हर आर्टिकल आपको पूर्ण जानकारी देने वाला होता है, और आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं की "भारतनेट परियोजना" क्या है? इसके क्या-क्या फायदे होने वाले हैं। 
 How to be an IAS officer            How to be an IPS officer           What is web developer?
Bharat Net project make in India

भारतनेट परियोजना (Bhartnet Project) नेशनल ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क (NOFN/National Optical Fiber Network) का नया ब्रांड नाम है, जिसे भारत की सभी 2.5 लाख ग्राम पंचायतों को ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए, अक्टूबर, 2011 में लॉन्च किया गया था। 2015 में इसका नाम बदलकर भारत नेट रखा गया था।  इस परियोजना का मुख्य उद्देश्य देश की  2.5 लाख ग्राम पंचायतों को 100 एमबीपीएस कनेक्टिविटी की गति से आपस में जोड़ना है। जैसे-जैसे तकनिकी का विकास होता जा रहा है, अगर देखा जाये तो पूरा भारत आज के दिन भी इंटरनेट के माध्यम से आपस में जुड़ा हुआ है, लेकिन भारतनेट परियोजना के द्वारा समस्त भारत की ग्राम पंचायतों को बहुत तीव्र गति के नेटवर्क से आपस में जोड़ा जा रहा है।   

साल 2018 में 8 जनवरी को भारतनेट परियोजना का पहला चरण सरकार द्वारा पूरा कर लिया गया है, यानी की देश में लगभग एक लाख ग्राम पंचायतों में ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क बिछाया जा चुका है। साथ ही इसके दूसरे चरण में भी बाकि बची हुई ग्राम पंचायतों को ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी प्रदान की जाएगी और मार्च 2019 तक इसको पूरा करने की संभावना जताई जा रही है।  
How to be an IAS officer            How to be an IPS officer           What is web developer?
भारतनेट परियोजना के बारे में खास बात 
आपको बता दें की भारतनेट विश्व का सबसे बड़ा ग्रामीण ब्रॉडबैंड संपर्क करने का कार्यक्रम है। इसको Make in India के तहत कार्यान्वित किया जा रहा है। इस प्रोजेक्ट में किसी भी विदेशी कंपनी का सहयोग नहीं लिया जा रहा है। इस प्रोजेक्ट का पहला उद्देश्य था की मौजूदा ओप्टिकल फाइबर नेटवर्क को ग्राम पंचायत स्तर तक पहुंचाना। 
क्या आपको पता है कि सरकार ने इस नेटवर्क को दूरसंचार सेवा के लिए उपलब्ध करवाया है, जो की ग्रामीण क्षेत्रों में नेटवर्क कवरेज देता, आवाज और वीडियो के माध्यम से संचरण आराम से हो सके एक ऐसे नेटवर्क की परिकल्पना की है। इसके लिए राज्य और निजी क्षेत्रों के साथ साझेदारी करके ग्रामीण और दूरदराज क्षेत्रों में  लोगों को सस्ती ब्रॉडबैंड सेवाएं प्रदान करना है। जैसा की हम पहले भी जिक्र कर चुके हैं इन सभी तक जो नेटवर्क जायेगा उसका माध्यम होगा फाइबर केबल जो की धरती के अंदर पाइपों द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान तक नेटवर्क का संचरण बेहद तीव्रता से करती है। 

आइये जान लेते हैं फाइबर ऑप्टिकल केबल क्या होता है? What is fiber optical cable?
किसी भी नेटवर्क को संचरण करने के लिए दो माध्यम होते हैं, एक माध्यम होता है उपग्रह या satellite द्वारा और दूसरा माध्यम होता है केबल यानि फाइबर केबल द्वारा। इन नेटवर्क सिग्नलों को संचार करने के लिए कांच या प्लास्टिक के धागों का फाइबर के रूप में उपयोग करने की एक तकनीक को फाइबर ऑप्टिकल कहते हैं। यह किसी केबल के अंदर कांच के धागे का एक बंडल होता है, जिसमें प्रत्येक फाइबर प्रकाश की तरंगों पर मिश्रित संदेशों को प्रेषित करने के लिए सक्षम होता है। फाइबर ऑप्टिकल की सबसे बड़ी खूबी ये होती है की ये शुरू से अंत तक सिग्नल कम नहीं करता।  

परियोजना के कितने चरण होंगे? 
प्रथम चरण जो की पूरा हो चूका है इसमें अंडरग्राउंड ऑप्टिक फाइबर केबल (OFC) को लाइनों के द्वारा ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी को एक लाख ग्राम पंचायत उपलब्ध कराया गया है। 8 जनवरी 2018 तक पहले चरण को पूरा कर लिया गया है। 

द्वितीय चरण भूमिगत फाइबर, पावर लाइनों, रेडियो और उपग्रह मीडिया पर फाइबर का उपयोग करके देश में सभी 1.5 लाख ग्राम पंचायतों को कनेक्टिविटी प्रदान करेगा। इस काम को पूरा करने की सीमा मार्च 2019  गई है। द्वितीय चरण को सफल करने के लिए, बिजली के ध्रुवों पर OFC लगाने को भी शामिल किया गया है साथ ही इसमें राज्यों की भागीदारी भी महत्वपूर्ण होगी।  यह भारतनेट रणनीति का एक नया हिस्सा है क्योंकि एरियल OFC द्वारा कनेक्टिविटी के तरीके में कम लागत, तेज कार्यान्वयन, आसान रखरखाव और मौजूदा पावर लाइन आधारभूत संरचना के उपयोग सहित कई फायदे हैं। सरकार द्वारा ग्राम पंचायतों में नागरिकों को वाई-फाई हॉटस्पॉट कनेक्टिविटी प्रदान करने का प्रस्ताव दिया गया है। 

How to be an IAS officer            How to be an IPS officer           What is web developer?
साल 2019 से 2023 तक तृतीय चरण में, अत्याधुनिक, Future Proof Network जिलों और ब्लॉक के बीच फाइबर केबल समेत, नई तकनीक रिंग टोपोलॉजी के साथ बनाया जाएगा। इसमें निचे दिए गए कुछ प्रावधान शामिल होंगे -
  • अत्याधुनिक नेटवर्क जो भविष्य में किसी तकनीकी खराबी से मुक्त होगा। 
  • जिलों और प्रखंडों के बीच में fiber cables बिछाये जायेंगे। 
  • इसमें ring topology का उपयोग किया जायेगा जिससे कि व्यर्थ का संचरण रोका जाए। 
इस प्रोजेक्ट के लिए निवेश कोन कर रहा है ?
भारतनेट परियोजना को यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फंड (USOF/Universal Service Obligation Fund) के माध्यम से निवेश किया जा रहा है जिसमें लगभग 20,100 करोड़ की फंडिंग होगी। यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फंड (USOF) की स्थापना ग्रामीण और दूरदराज के क्षेत्रों में किफायती और उचित कीमतों पर लोगों को 'बेसिक' टेलीग्राफ सेवाओं को जन-जन तक पहुंच प्रदान करने के मौलिक उद्देश्य से की गई थी। इसके बाद मोबाइल सेवाओं, ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी और ग्रामीण और दूरस्थ क्षेत्रों में OFC जैसे बुनियादी ढांचे के निर्माण सहित सभी प्रकार की टेलीग्राफ सेवाओं तक पहुंच को सक्षम करने के लिए सब्सिडी समर्थन प्रदान करने के लिए दायरा बढ़ाया गया है। 

भारतनेट के द्वारा डाली हुई broadband से भारत सरकार की अन्य योजनाओं को चलाने में भी सहायता मिलेगी, जैसे – भारतमाला, सागरमाला, समर्पित भारवाहक कॉरिडोर (Dedicated Freight Corridors), औद्योगिक कॉरिडोर, उड़ान (UDAN-RCS), Digital India आदि। 


तो दोस्तों आशा करता हूँ की आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आयी होगी। अगर इससे सम्बंधित आप कोई सलाह या सुझाव हमें देना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आप हमारे दूसरे आर्टिकल के लिए हमें सब्सक्राइब भी कर सकते हैं। आप हमें कमेंट करके बता भी सकते हैं कि आपको किसी विषय पर हमारी वेबसाइट पर जानकरी चाहिए, हम जल्द से जल्द वो जानकारी हमारी वेबसाइट पर आपके लिए उपलब्ध करने की कोशिश। हमरी इस जानकारी को दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद 


Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma
My YouTube : Home Design !deas

हमारे और आर्टिकल यहाँ पढ़ें :



Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…