Skip to main content

नेशनल बिल्डिंग कोड क्या है? What is National Building Code? राष्ट्रीय भवन संहिता

नेशनल बिल्डिंग कोड दरअसल भारत सरकार द्वारा बनाया गया किसी भी नई कमर्शियल या रेसिडेंटल बिल्डिंग बनाने से पहले उसके अंदर मौजूद किये जाने वाले सुरक्षा उपायों से संबंधित है। भारत में  पहली बार राष्ट्रीय भवन कोड 1970 में बनाया गया था, और बाद में 1983 और 1987 में संशोधन किया गया। भारत का राष्ट्रीय भवन कोड एक दस्तावेज है जो किसी भी भारतीय बिल्डिंग मानकों के बारे में व्यापक जानकारी उपलब्ध करवाता है, जिन्हें भवनों के निर्माण के दौरान पालन करने की आवश्यकता होती है। यह नियम सुरक्षा उपायों के लिए विभिन्न आवश्यकताओं को संबोधित करती है। इन सभी नियमों को बिल्डिंग बनाते समय या उसके बाद कार्यान्वित करने की आवश्यकता होती है। 
What is Rastriya building code

नेशनल बिल्डिंग कोड 2015 ने संहिता/Code में कुछ संशोधनों का प्रस्ताव दिया था, जीसके बाद एक मसौदा परामर्श के लिए जारी किया गया था, और इसके लिए 2015 के अंत तक विभिन्न हितधारकों से सरकार के द्वारा  टिप्पणियों/Observations की मांग की गई थी। नेशनल बिल्डिंग कोड आपको को आग और जीवन सुरक्षा के बारे में बताता है। राष्ट्रीय भवन संहिता/National Building Code में सुरक्षा उपाय आपके पास हर उस जगह में होना चाहिए जिसे आप लोगों के लिए इस्तेमाल करते हैं। ऐसा भी नहीं है कि हर दिन संकट की परिस्थितियां होती हैं, लेकिन अगर कभी भी कोई भी गड़बड़ी हो जाए तो हमारे पास उनसे निपटने के लिए उपयुक्त साधन वहां मौजूद होने चाहिए। 

राष्ट्रीय भवन संहिता/National Building Code ने आग और जीवन सुरक्षा से संबंधित कुछ नियम नए नियम 2005 में तय किये थे जिनका पालन करना आग और सुरेख की दृष्टि से इनका पालन करना अनिवार्य है। यहाँ आग से पूर्ण सुरक्षा ही समाधान नहीं है, राष्ट्रीय भवन संहिता/National Building Code ऐसे उपायों को निर्दिष्ट करता है, जो सुरक्षा की वह डिग्री प्रदान करेगा जो "उचित रूप से तत्काल प्राप्त" हो सकते हैं।राष्ट्रीय भवन संहिता ने यहां सात महत्वपूर्ण चीजों को तवज्जो दी है, इसमें इमारतों को और भवनों को कोड के अनुसार अधिभोग के चरित्र के आधार पर नौ श्रेणियों में वर्गीकृत किया है, आवासीय भवनों को आगे छह उप-श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है। इन सब श्रेणियों में अग्नि-सुरक्षा मानकों को प्रमुखता के आधार पर लगाये जाने के बारे में बताया है।

किस भी तरह के खतरे से बचने के लिए कोड के अनुसार, हर इमारत का निर्माण पूर्ण रूप से राष्ट्रीय भवन संहिता अनुसार ही होना चाहिए ताकि किसी भी समय मुसीबत से बचने के लिए आवश्यक समय अवधि के दौरान आग, धुआं, धुएं या आतंक से बचा जा सके। निकास के नियम के तहत, दरवाजे, गलियारे व अन्य मार्गों को बाहर निकलने के रूप में जरुरी बनाया जाना चाहिए। बहार निकलने के रास्तों में लिफ्ट को श्रेणी में नहीं रखा जा सकता। कोड के अनुसार : किसी भवन में संख्या, चौड़ाई या निकास की सुरक्षा को कम करने के लिए भवन में कोई परिवर्तन नहीं किया जाना चाहिए।  

नेशनल बिल्डिंग कोड क्या है? What is National Building Code?
जरुरी अग्नि सुरक्षा अभ्यास: जैसा कि तीव्र आग लगने के मामले में गंभीर समस्या का कारण हो सकता है, जब तक कि व्यवस्थित दमकल और व्यवस्थित निकासी तैयार करने की कोई योजना को सही रूप न दिया जाये। बिल्डिंग बनने के पहले तीन महीनों में कम से कम एक बार फायर ड्रिल आयोजित की जानी चाहिए। उसके बाद, इस तरह के ड्रिल को छह महीने में एक बार आयोजित किया जाना जरुरी है। फायर अलार्म सिस्टम : बड़े आकार की इमारतों में जहां आग में रहने वालों को पर्याप्त चेतावनी उपलब्ध नहीं हो पाती है, वहां पर स्वचालित अग्नि पहचान यंत्र, और अलार्म सुविधाएं आवश्यक हैं। आग बुझाने के यंत्र : बिल्डिंग के उपयोग और ऊंचाई के आधार पर, सभी बिल्डिंग में आग बुझानेवाले, गीली रेज़र, जल स्प्रे और स्वचालित आग बुझाने की मशीन उपलब्ध होनी चाहिए। 
हमारे और आर्टिकल यहाँ पढ़ें :



Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…