Skip to main content

कंप्यूटर बेसिक जानकारी। Basic Computer Knowledge in Hindi

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में  मैं आपको कंप्यूटर के बारे में कुछ बेसिक जानकारी देने वाला हूँ, जो हर किसी के लिए जानना जरुरी है। कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं, या फिर आप साइट के दाईं और दिए गए लेबल को सेलेक्ट कर पढ़ सकते हैं।

Basic Computer Knowledge

Basic Computer Knowledge in Hindi
पिछले कुछ सालों से कंप्यूटर का प्रयोग तेजी से बढ रहा है, और मुझे लगता है कि आज के जमाने में Basic Computer Knowledge तो सभी की होनी ही चाहिए। जब तक आप कंप्यूटर को प्रयोग नहीं करेंगे तो आपको उसके बारे में ज्यादा कुछ नहीं पता लगेगा, इसलिए आप कंप्यूटर की कुछ बेसिक जानकारी हमारी इस पोस्ट को पढ़कर भी पा सकते हैं। हमारे इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपके लिए कंप्यूटर को समझना और भी आसान हो जायेगा। आजकल कंप्यूटर ऐसी चीज नहीं रह गई है जिसे कोई जानता ही न हो, आज कंप्यूटर आपको हर जगह मिल जाते हैं, स्कूल, कॉलेज, बैंक, ऑफिस, दुकान, रेलवे स्टेशन और भी बहुत सारी जगहों पर कंप्यूटर का उपयोग होता है। कंप्यूटर के आने के बाद किसी भी काम को बड़ी तीव्रता से और आसानी से किया जाने लगा है। पहले बहुत से ऐसे काम होते थे जिनके लिए हमें किसी न किसी ऑफिस के चक्कर काटने पड़ते थे, लेकिन कंप्यूटर की मदद से हम उनमे से बहुत सारे काम घर पर बैठकर ही कर सकते हैं। यहाँ पढ़ें शिक्षा के क्षेत्र में कंप्यूटर का क्या योगदान है? 

कंप्यूटर बेसिक जानकारी। Basic Computer Knowledge in Hindi
Computer एक Electronics डिवाइस या उपकरण है, जिसके आने के बाद पुरे विश्व ने बहुत से क्षेत्रों में बहुत तरक्की की है। कंप्यूटर की मदद से किसी भी Data को जरुरी जानकारी में बदला जा सकता है। कंप्यूटर किसी भी प्रकार के डाटा को Accept कर सकता है और उसे प्रोसेस/Process कर सकता है। कंप्यूटर में डाटा को पहले Input किया जाता है उसके बाद कंप्यूटर उस डाटा को Process करता है, फिर आपको Output के रूप में सही Result मिलता है। कंप्यूटर की सबसे बड़ी ख़ासियत यही है की वो आपको कम समय में सटीक/Accurate परिणाम देता है।

CPU/Central Processing Unit
इसे कंप्यूटर का मस्तिष्क कहा जाता है, क्यूंकि ये कंप्यूटर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। इसी के द्वारा कंप्यूटर हर काम के लिए प्रोसेसिंग करता है। CPU कंप्यूटर Motherboard पर लगी हुई एक मध्यम आकर की Chip का समूह होता है, जिसके ऊपर एक कूलिंग फैन/Cooling Fan लगा होता है। CPU कंप्यूटर के सभी भागों जैसे मॉनिटर, कीबोर्ड, माउस और अन्य डिवाइस को संचालित करता है, Microsoft Windows, Linux, UNIX आदि सभी कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम में CPU का इस्तेमाल होता है। 

Input Device/इनपुट डिवाइस 
इनपुट डिवाइस वो डिवाइस होते हैं जो कंप्यूटर के साथ जुड़े होते हैं, और इनके माध्यम से कंप्यूटर के अंदर डाटा डाला जाता है। कंप्यूटर के प्रमुख इनपुट डिवाइस हैं Mouse, Keyboard, Microphone, Scanner, Video Capture Device इत्यादि। 

Output Device/आउटपुट डिवाइस 
कंप्यूटर के आउटपुट डिवाइस वो होते हैं जिनके द्वारा हम प्रोसेस किये गए डाटा को रिजल्ट के रूप में देख या सुन सकते हैं। कंप्यूटर के प्रमुख आउटपुट डिवाइस हैं Moniter/LED, Printer, Speaker इत्यादि। 

Hardware/हार्डवेयर 
कंप्यूटर के अंदर लगे या कंप्यूटर के साथ जुड़े किसी भी पुर्जे को Hardware कहा जाता है। हार्डवेयर वो होते हैं जो किसी पदार्थ या धातु की मदद से बने होते हैं। हार्डवेयर को हम छू सकते हैं देख सकते हैं जैसे की HDD, DVD ROM, SSD, RAM, CPU इत्यादि।

Software/सॉफ्टवेयर 
कंप्यूटर अपने आप कुछ भी नहीं करता ये तो आपके द्वारा दिए गए निर्देशों/Instructions के अनुसार काम करता है, इन्ही Sets of Instructions को प्रोग्राम या सॉफ्टवेयर कहा जाता है। सॉफ्टवेयर वो होते हैं जिनके द्वारा कंप्यूटर काम करता है या चलता है। कंप्यूटर के अंदर हर काम को करने के लिए अलग सॉफ्टवेयर होता है जिसे Computer एप्लीकेशन के नाम से भी जाना जाता है। सॉफ्टवेयर को हम छू नहीं सकते, क्यूंकि ये आभाषी होते हैं। सॉफ्टवेयर दो प्रकार के होते हैं System Software और Application Software. सिस्टम सॉफ्टवेयर वो होते हैं जो कंप्यूटर को चलाते है जिनको Operating System भी कहा जाता है, जैसे Windows, Linux, Macintosh इत्यादि। एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर वो होते हैं जिनके द्वारा हम कंप्यूटर के अंदर अलग-अलग काम कर सकते हैं जैसे Office(Word, Excel,Power Point,Access), Photoshop, Corel Draw, Auto CAD, Typing Tutor इत्यादि। सॉफ्टवेयर की पूरी जानकारी के लिए आप इस लिंक पर क्लीक करें। कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के प्रकार 

कंप्यूटर पेरीफिरल क्या होते हैं? What are Computer Peripherals?
Computer Peripheral वो डिवाइस होते हैं जो कंप्यूटर के साथ जुड़े होते हैं, जिनका इस्तेमाल कंप्यूटर में या तो Input के लिए किया जाता है या फिर Output के लिए, इनमे बहुत सी चीजें शामिल हो सकती हैं जैसे Mouse, Keyboard, Printer, Scanner, Web Cam या अन्य वो चीजें जो कंप्यूटर के साथ किसी भी तरिके से जुड़ सकती हैं।

Mouse/माउस 
माउस भी कंप्यूटर का सबसे जरुरी इनपुट डिवाइस होता है। माउस के बिना हम कंप्यूटर पर काम तो कर सकते हैं लेकिन इसके बिना काम करने की गति बिलकुल धीमी हो जाएगी। माउस के  कंप्यूटर स्क्रीन पर जल्दी-जल्दी कोई भी प्रोग्राम Select/सेलेक्ट कर सकते हैं। जिस तरिके से टच स्क्रीन मोबाइल में किसी भी ऑप्शन को खोलने के लिए उस पर Touch करना जरुरी होता है ठीक उसी तरह कंप्यूटर में से कोई भी Option सेलेक्ट करने के लिए Mouse की जरुरत होती है। आजकल कंप्यूटर में Laser Light और सेंसर युक्त माउस प्रयोग किये जाते हैं लेकिन कंप्यूटर के शुरुआती दौर में गोली/Ball वाले माउस प्रयोग किये जाते थे।

Keyboard/कीबोर्ड 
कीबोर्ड कंप्यूटर का प्रमुख Input Device होता है, जिसका उपयोग किसी भी तरह के कंप्यूटर में होता ही है। कीबोर्ड मुख्यता: दो तरह के होते हैं सामान्य और मल्टीमीडिया। मल्टीमीडिया कीबोर्ड में इंटरनेट और वीडियो के लिए कुछ बटन/Keys अलग से दी हुई होती हैं। कुछ और भी प्रकार के कीबोर्ड भी होते हैं जिनके बारे में आप पूरी जानकारी इस लिंक पर क्लीक करके पा सकते हैं। कंप्यूटर कीबोर्ड के प्रकार  कीबोर्ड बटन की जानकारी  

HDD/Hard Disk Drive 
HDD जिसे हार्ड डिस्क ड्राइव या हार्ड डिस्क भी कहा जाता है, ये एक Storage Device होती है। HDD के अंदर हम कंप्यूटर का किसी भी तरह का डाटा स्टोर कर सकते हैं। कर HDD की अपनी एक स्टोरेज क्षमता/Storage Capacity होती है। HDD दो प्रकार की होती हैं, Internal Hard Disk और External Hard Disk, आजकल HDD की जगह स्टोरेज के लिए एक और विकल्प मौजूद है जिसे SSD कहा जाता है।  HDD और SSD की पूरी जानकारी के लिए यहाँ क्लीक करें।  HDD और SSD क्या होती है?

मॉनिटर/Monitor 
हमारे सामने लगी कंप्यूटर Screen या Display को ही Monitor कहा जाता है, जिसके अंदर हम किये गए किसी भी इनपुट और आउटपुट को देख सकते हैं। आजकल कंप्यूटर मॉनिटर थोड़े एडवांस हो गए हैं जिनमे LED, LCD, Plasma Screen शामिल है, लेकिन पहले CRT Monitor का इस्तेमाल होता था, जो की बहुत ज्यादा बिजली/Light की खपत करते थे।  

प्रिंटर/Printer 
प्रिंटर भी कंप्यूटर का एक Peripheral होता है जिसके द्वारा कंप्यूटर के अंदर से हम कोई भी Text या Image डाटा कागज पर Print/छाप सकते हैं। प्रिंटर कई प्रकार के होते हैं जैसे Laser Printer, Ink Jet Printer, Dot Matrix Printer इत्यादि। 

स्कैनर/Scanner 
स्कैनर वो कंप्यूटर डिवाइस होते हैं जिनके द्वारा हम किसी भी प्रकार के छपे हुए डाटा को कंप्यूटर के अंदर डाल सकते हैं, कागज पर लिखित या छपी हुई किसी भी प्रकार की सामग्री को कंप्यूटर के अंदर पहुँचाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है।  

तो दोस्तों आशा करता हूँ की आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आयी होगी। अगर इससे सम्बंधित आप कोई सलाह या सुझाव हमें देना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आप हमारे दूसरे आर्टिकल के लिए हमें सब्सक्राइब भी कर सकते हैं। आप हमें कमेंट करके बता भी सकते हैं कि आपको किसी विषय पर हमारी वेबसाइट पर जानकरी चाहिए, हम जल्द से जल्द वो जानकारी हमारी वेबसाइट पर आपके लिए उपलब्ध करने की कोशिश। हमरी इस जानकारी को दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद 
Join us :
My Facebook :  Lee.Sharma
My YouTube : Home Design !deas

हमारे और आर्टिकल यहाँ पढ़ें :



Comments

Popular posts from this blog

आर्मी ऑफिसर कैसे बने। how to become Indian Army officer, what is NDA?

प्यारे बच्चो नमस्कार
में हमारी इस ब्लॉग वेबसाइट पर टेक्नोलॉजी ओर एजुकेशन से संबंधित आर्टिकल लिखता हूँ, ऐसे आर्टिकल जो बच्चों के आने वाले भविष्य में काम आ सकें। हमारे आर्टिकल आपको किसी भी जॉब की पूर्ण जानकारी देने वाले होते हैं। हमारी इस जानकारी के माध्यम से बच्चे सही दिशा का चुनाव कर अपने भविष्य को सफल बना सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं कि आप भारतीय सेना में एक ऑफिसर कैसे बन सकते हैं, बेशक वो थल सेना, वायु सेना या जल सेना ही क्यों न हो। अगर आपमे देश सेवा करने का जज्बा है तो आप इस क्षेत्र का चुनाव कर सकते हैं, ऐसा नही की आपमे देश सेवा का जज्बा हो और आप इसमें जा सकते हैं, इसके लिए आपको बहुत मेहनत भी करनी पड़ेगी। अगर आप पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं तभी आप इसमें सेलेक्ट हो सकते हैं। आइये जान लेते हैं NDA क्या है?
NDA यानी "National Defense Academy" ओर हिंदी में इसे "राष्ट्रीय रक्षा अकादमी" कहा जाता है, NDA दुनिया की पहली ऐसी अकादमी है जिसमे तीनो विंगों के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।
आर्मी अफसर कैसे बने!
भारतीय सेना की तीन विंग हैं, army, air force and navel, अ…

Architecture क्या है ? Architect कैसे बने!

दोस्तों नमस्कार, हमारी वेबसाइट/Website LSHOMETECH पर आपका स्वागत है, हम अपने इस Portal पर Technology और Education से सम्बंधित आर्टिकल लिखते हैं, जो आपके लिए ज्ञान और जानकारी के प्रयाय होते है, आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की Architect क्या होता है? कृपया पूरी जानकारी के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें, साथ ही टेक्नोलॉजी से जुडी किसी अन्य जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट के बाईं/Left और दिए गए दूसरे आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं।

आज का जो हमारा विषय है वो है आर्किटेक्ट कैसे बने और आर्किटेक्चर है क्या?  सबसे पहले इन दोनों शब्दों का हिंदी में अगर अनुवाद करे तो  आर्किटेक्चर का मतलब है - वास्तुकला
और  आर्किटेक्ट का मतलब है - वास्तुकार
यदि आपकी भी रुचि आर्किटेक्ट बनने की है, या फिर आपको भी नए-नए प्रारूप /डिजाइन बनाने का शौक है या फिर आप नई-नई इमारतों के बारे में प्लान या नक्शे बनाने का शौक रखते हैं तो आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग आपके लिए सबसे बढ़िया रास्ता है जो आपको आपकी मनचाही मंजिल तक ले जाने में आपकी सहायता करेगा।
पहले जान लेते हैं आर्किटेक्चर या वास्तुकला क्या है?
दोस्तो वास्तुकला ललितकला की ही एक शाखा है, व…

DPC क्या होती है? What is DPC?

दोस्तों नमस्कार
                        आज के इस लेख में हम बात करेंगे की डीपीसी क्या होती है? और इसकी घर बनाते वक्त क्या जरूरत है यानी दीवारों के ऊपर डीपीसी लगाने की हमें क्या जरूरत पड़ती है किस कारण या किस चीज़ की रोकथाम के लिए हम डीपीसी लगाते हैं। साधारण दीवार के ऊपर भी आप इसको लगा सकते हैं।
डीपीसी क्या होती है?
दोस्तों आइए पहले जान लेते हैं कि डीपीसी का मतलब क्या होता है डीपीसी का मतलब होता है "Dump Proofing Course" यानी नीवं ओर ऊपरी दीवार के बीच  का जुड़ाव कहे  या व्यवधान कह सकते हैं जो कि आप के घर की सीलन या नमि को दीवारों में ऊपर चढ़ने से रोकता है और आपकी जो दीवारें हैं सदैव अच्छी बनी रहती है। सीलन नहीं होगी तो आप जो प्लास्टर करते हैं पेंट करते हैं वह कभी नहीं झडेगा या उखड़ेगा,वह बिल्कुल सही रहता है हमेशा हमेशा लंबे समय तक टिकाऊ बना रहता है। 
डीपीसी की जरूरत क्या है हमें!
प्यारे मित्रों जो डीपीसी होती है वह दो प्रकार की आप यूज़ कर सकते हैं दोनों डीपीसी के प्रकार में आपको बताऊंगा कि कौन-कौन से प्रकार होते हैं देखिए सबसे पहले जब भी हम हमारे घर की नींव का निर्माण करते हैं उ…